1. हिन्दी समाचार
  2. केंद्र सरकार की नई योजना: शादी करने पर मिलेंगे ढाई लाख रुपये, ऐसे करें आवेदन

केंद्र सरकार की नई योजना: शादी करने पर मिलेंगे ढाई लाख रुपये, ऐसे करें आवेदन

Dalit Inter Caste Marriage Scheme

By आस्था सिंह 
Updated Date

नई दिल्ली। केंद्र सरकार ने जाति व्यवस्था के तहत सामाजिक बुराई को खत्म करने और अंतरजातीय विवाह को प्रोत्साहन देने के लिए एक नई स्कीम पेश की है। इस स्कीम के तहत अगर कोई दलित से अंतरजातीय विवाह करता है, तो उस जोड़ी को मोदी सरकार की ओर से 2 लाख 50 हजार रुपये की नकद राशि दी जाएगी।

पढ़ें :- बीजेपी ने जारी की लालू राज की डिक्शनरी....क से क्राइम, ख से खतरा, ग से गोली...

बता दें कि यह आर्थिक मदद डॉ. अंबेडकर स्कीम फॉर सोशल इंटीग्रेशन थ्रू इंटरकास्ट मैरिज के तहत दी जाती है। इस योजना की शुरुआत साल 2013 में कांग्रेस के नेतृत्व वाली यूपीए सरकार ने की गई थी। यह योजना आज भी चल रही है। अगर आप भी इस योजना का लाभ पाना चाहते हैं तो इसके लिए आपको एक निर्धारित प्रक्रिया का पालन करना होता है।

इन दो तरीकों से करें आवेदन…..

  • नवदंपति अपने क्षेत्र के मौजूदा सांसद या विधायक की सिफारिश के साथ आवेदन को पूरा करके सीधे डॉ अंबेडकर फाउंडेशन को भेज सकते हैं।
  • नवदंपति आवेदन को पूरा भरकर राज्य सरकार या जिला प्रशासन को सौंप सकते हैं। इसके बाद राज्य सरकार या जिला प्रशासन आवेदन को सिफारिश के साथ डॉ. अंबेडकर फाउंडेशन को भेज देते हैं।

इन लोगों को मिलेगा फायदा

  • नवदंपति में से कोई एक दलित समुदाय से होना चाहिए, जबकि दूसरा दलित समुदाय से बाहर का होना चाहिए।
  • शादी को हिंदू विवाह अधिनियम 1955 के तहत रजिस्टर होना चाहिए। इस संबंध में नवदंपति को एक हलफनामा दाखिल करना होगा।
  • इस स्कीम का फायदा उन्हीं नवदंपति को मिलेगा, जिन्होंने पहली बार शादी की है। दूसरी शादी करने वालों को इसका फायदा नहीं मिलेगा।
  • आवेदन पूरा करके शादी के एक साल के अंदर डॉ. अंबेडकर फाउंडेशन को भेजना होगा।
  • अगर नवदंपति को राज्य या केंद्र सरकार द्वारा किसी तरह की आर्थिक सहायता पहले मिल चुकी है, तो उसको इस ढाई लाख रुपये की धनराशि में घटा दी जाएगी।

आवेदन के साथ लगाएं ये दस्तावेज

पढ़ें :- संजय सिंह ने बोला यूपी सरकार पर हमला, कहा-सत्ता में आए तो दिल्ली मॉडल उत्तर प्रदेश में लागू होगा

  • नवदंपति में से जो भी दलित यानी अनुसूचित जाति समुदाय से हो, उसका जाति प्रमाण पत्र आवेदन के साथ लगाना होगा।
  • हिंदू विवाह अधिनियम 1955 के तहत शादी रजिस्टर करने के बाद जारी मैरिज सर्टिफिकेट भी संलग्न करना होगा।
  • आवेदन के साथ कानूनी रूप से विवाहित होने का हलफनामा देना होगा।
  • आवेदन के साथ ऐसा दस्तावेज भी लगाना होगा, जिससे यह साबित हो कि दोनों की यह पहली शादी है।
  • नवविवाहित पति-पत्नी का आय प्रमाण पत्र भी देना होगा।
  • नवदंपति का संयुक्त बैंक खाते की जानकारी देनी होगी।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे...