बिना ब्रेक के 350 KM दौड़ी हादसों की रेल, रेलवे अधिकारी घटना से अंजान

darbhanga

Darbhanga Express Runs 350 Km On Track Without Breaks

पटना। देश में लगातार हो रही रेल दुर्घटनायें आम जनता के लिये परेशानी का सबब बनती जा रही हैं। ताजा मामला दरभंगा से मुंबई जाने वाली दरभंगा एक्‍सप्रेस का है। दरभंगा एक्सप्रेस के 21 डिब्बों में से 19 का ब्रेक फेल हो गया, इसके बावजूद उसे 350 किमी वाराणसी तक दौड़ाया गया। इस बड़ी सुरक्षा चूक के बावजूद रेलवे बोर्ड के अधिकारी घटना से अंजान रहे। जब अधिकारियों से इस संबंध में पूछा गया तो उन्होंने इसकी जानकारी होने से इनकार कर दिया।

रेलवे बोर्ड के अधिकारी ने हाजीपुर में ईस्ट सेंट्रल रेलवे के चीफ मकैनिकल इंजिनियर को 13 सितंबर को चिट्ठी लिखते हुए मामले को बेहद गंभीर बताया था। उन्होंने लिखा था कि मुंबई जाने वाली दरभंगा एक्सप्रेस के ब्रेक्स में पावर नहीं थी, जिससे कोई बड़ा हादसा हो सकता था। वहीं नॉर्दन सेंट्रल रेलवे की ओर से कहा गया कि उन्हें चिट्ठी के बारे में कोई जानकारी नहीं है।

नॉर्दन सेंट्रल रेलवे के चीफ पीआरओ राजेश कुमार ने कहा कि मुझे रेलवे बोर्ड की ओर से मिली किसी चिट्ठी की जानकारी नहीं है। उन्होंने कहा कि मुझे लगता है कि ट्रेन के ब्रेक रास्ते में खराब हुए होंगे। उन्होंने कहा, जैसे ही इस बारे में सूचना मिली टेक्निकल विशेषज्ञों ने ट्रेन की जांच की लेकिन तब सबकुछ ठीक मिला। वहीं सेंट्रल रेलवे के चीफ पीआरओ सुनील उदासी ने भी किसी गड़बड़ी से इन्‍कार किया है।

बता दें कि ब्रेक फेल होने के दौरान दरभंगा एक्सप्रेस में करीब 2000 यात्री सवार थे, जिन्हें इस बारे में भनक भी नहीं थी।

पटना। देश में लगातार हो रही रेल दुर्घटनायें आम जनता के लिये परेशानी का सबब बनती जा रही हैं। ताजा मामला दरभंगा से मुंबई जाने वाली दरभंगा एक्‍सप्रेस का है। दरभंगा एक्सप्रेस के 21 डिब्बों में से 19 का ब्रेक फेल हो गया, इसके बावजूद उसे 350 किमी वाराणसी तक दौड़ाया गया। इस बड़ी सुरक्षा चूक के बावजूद रेलवे बोर्ड के अधिकारी घटना से अंजान रहे। जब अधिकारियों से इस संबंध में पूछा गया तो उन्होंने इसकी जानकारी होने से…