दर्द निवारक का काम करती है बीयर, सिरदर्द में बेहद लाभदायक: शोध

लंदन: अक्सर लोग पीने पिलाने का बहाना ढूंढते हैं। अगर दर्द दूर करने में बीयर कारगर हो तो शायद आप दवा की जगह बीयर ही पीना पसंद करेंगे। ग्रीनविच युनिवर्सिटी के नए रिसर्ज में दावा किया गया है कि बीयर दर्द निवारक के तौर पर काम आ सकता है। शोध में यहां तक कहा गया कि पैरासिटामोल की तुलना में बीयर दर्द मिटाने में ज्यादा असरकारक है।




रिसर्च में पाया गया है कि सिरदर्द या शरीर के दर्द में पेरासिटामॉल से बेहतर पेनकिलर, बियर होती है। रिसर्च के अनुसार, दो एल्कोहोल दर्द को 1/4 तक कम कर देती है और जो लोग ज्यादा पीते हैं, उन्हें बाकियों के मुकाबले कम दर्द होता है। अगर खून में .08 फीसदी एल्कोहोल है, तो दर्द में काफी कमी आती है।

Dard Nivarak Ka Kam Karti Hai Beer Sirdard Men Labhdayak :

विशेषज्ञ इसके पीछे का कारण खोजने में जुटे हैं। उनका मानना है – इसका एक कारण ये भी है कि एल्कोहोल चिंता कम करती है, जिसके कारण दर्द की तरफ हमारा ध्यान नहीं जाता। हालांकि ये समाचार लंदन स्थित ग्रीनविच युनिवर्सिटी में पेश किए गए शोध पर आधारित है। इसका मतलब ये कतई नहीं कि हम शराबखोरी को बढ़ावा देने की कोशिश कर रहे हैं।




ये पूरी तरह मान्य तथ्य है कि लंबे समय तक बीयर या फिर अल्कोहल का सेवन करना हमारे स्वास्थ्य के लिए नुकसानदेह है। यहां तक कि इसके सेवन से हार्ट अटैक और डिप्रेशन जैसी समस्याओं से आपको दो चार होना पड़ सकता है। इसलिये कम से कम इस खबर के आधार पर तो बीयर पीना कतई शुरू न करें।

लंदन: अक्सर लोग पीने पिलाने का बहाना ढूंढते हैं। अगर दर्द दूर करने में बीयर कारगर हो तो शायद आप दवा की जगह बीयर ही पीना पसंद करेंगे। ग्रीनविच युनिवर्सिटी के नए रिसर्ज में दावा किया गया है कि बीयर दर्द निवारक के तौर पर काम आ सकता है। शोध में यहां तक कहा गया कि पैरासिटामोल की तुलना में बीयर दर्द मिटाने में ज्यादा असरकारक है। रिसर्च में पाया गया है कि सिरदर्द या शरीर के दर्द में पेरासिटामॉल से बेहतर पेनकिलर, बियर होती है। रिसर्च के अनुसार, दो एल्कोहोल दर्द को 1/4 तक कम कर देती है और जो लोग ज्यादा पीते हैं, उन्हें बाकियों के मुकाबले कम दर्द होता है। अगर खून में .08 फीसदी एल्कोहोल है, तो दर्द में काफी कमी आती है।विशेषज्ञ इसके पीछे का कारण खोजने में जुटे हैं। उनका मानना है - इसका एक कारण ये भी है कि एल्कोहोल चिंता कम करती है, जिसके कारण दर्द की तरफ हमारा ध्यान नहीं जाता। हालांकि ये समाचार लंदन स्थित ग्रीनविच युनिवर्सिटी में पेश किए गए शोध पर आधारित है। इसका मतलब ये कतई नहीं कि हम शराबखोरी को बढ़ावा देने की कोशिश कर रहे हैं। ये पूरी तरह मान्य तथ्य है कि लंबे समय तक बीयर या फिर अल्कोहल का सेवन करना हमारे स्वास्थ्य के लिए नुकसानदेह है। यहां तक कि इसके सेवन से हार्ट अटैक और डिप्रेशन जैसी समस्याओं से आपको दो चार होना पड़ सकता है। इसलिये कम से कम इस खबर के आधार पर तो बीयर पीना कतई शुरू न करें।