1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तर प्रदेश
  3. ‘मिशन यूपी 2022’ को धार देने लखनऊ में डटे दत्तात्रेय होसबोले, योगी कैबिनेट व संगठन में फेरबदल की आहट तो नहीं?

‘मिशन यूपी 2022’ को धार देने लखनऊ में डटे दत्तात्रेय होसबोले, योगी कैबिनेट व संगठन में फेरबदल की आहट तो नहीं?

भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) और राष्ट्रीय स्वंय सेवक संघ (आरएसएस)  मिशन यूपी 2022 को धार देने में अभी से जुट गई है। इसके तहत भाजपा का केंद्रीय नेतृत्व 2022 के विधानसभा चुनाव को ध्यान में रखते हुए सरकार और संगठन में फेरबदल करने के लिए गंभीरता से मंथन कर रहा है। सूत्रों की मानें तो अगले महीने संगठन व सरकार में फेरबदल हो सकता है।

By संतोष सिंह 
Updated Date

लखनऊ। भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) और राष्ट्रीय स्वंय सेवक संघ (आरएसएस)  मिशन यूपी 2022 को धार देने में अभी से जुट गई है। इसके तहत भाजपा का केंद्रीय नेतृत्व 2022 के विधानसभा चुनाव को ध्यान में रखते हुए सरकार और संगठन में फेरबदल करने के लिए गंभीरता से मंथन कर रहा है। सूत्रों की मानें तो अगले महीने संगठन व सरकार में फेरबदल हो सकता है।

पढ़ें :- Promotion of Ease of Doing Business : अब KYC के लिए आधार कार्ड नहीं पैन कार्ड होगा जरूरी

अंतिम फैसला मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और उप-मुख्यमंत्री केशवप्रसाद मौर्य से चर्चा के बाद

बीते रविवार को दिल्ली में भाजपा नेतृत्व की शीर्ष स्तर की लंबी बैठक के बाद बनी रणनीति के तहत उत्तर प्रदेश में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की सरकार में सत्ताकेंद्र को विकेंद्रित करने, संगठन को सरकार के समानांतर शक्ति संपन्न बनाने का फैसला किया गया है। पार्टी सूत्रों का कहना है कि उप-मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य को एक बार फिर प्रदेश संगठन का अध्यक्ष बनाया जा सकता है, जबकि गुजरात कैडर के पूर्व आईएएस अधिकारी अरविंद कुमार शर्मा को उप मुख्यमंत्री बनाकर अधिकार संपन्न किया जा सकता है। हालांकि इन दोनों मामलों में अंतिम फैसला मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और उप-मुख्यमंत्री केशवप्रसाद मौर्य से चर्चा के बाद ही लिया जाएगा।

संघ के सरकार्यवाह जियामऊ विश्व संवाद केंद्र में महत्वपूर्ण बैठक कर ले रहे हैं फीडबैक

इसी क्रम में संघ के सरकार्यवाह दत्तात्रेय होसबोले उत्तर प्रदेश आरएसएस के सभी बड़े पदाधिकारियों के साथ जियामऊ विश्व संवाद केंद्र में महत्वपूर्ण बैठक कर फीडबैक ले रहे हैं। उत्तर प्रदेश के मौजूदा सियासी हालत को देखते हुए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ कोरोना काल में लगे दाग को छुड़ाने के लिए दिन रात एक किए हुए हैं। वहीं, संघ के सरकार्यवाह दत्तात्रेय होसबोले लखनऊ पहुंचकर बैठक कर सूबे के सियासी हालात का जायजा ले रहे हैं।

पढ़ें :- Union Budget 2023: जानिए बजट में क्या हुआ सस्ता और क्या हुआ महंगा?

संघ के साथ बीजेपी के शीर्ष नेताओं के साथ बैठक के बाद यूपी में सियासी सरगर्मी तेज

संघ के साथ बीजेपी के शीर्ष नेताओं के साथ बैठक के बाद यूपी में सियासी सरगर्मी तेज हो गई है। बताया जा रहा है कि लखनऊ में दत्तात्रेय होसबोले कई बैठकें करेंगे। आगामी 30 मई तक बीजेपी के उत्तर प्रदेश प्रभारी राधामोहन सिंह भी लखनऊ पहुंचेंगे। महामंत्री संगठन सुनील बंसल दिल्ली में दो दिन तक रहने के दौरान उन्होंने दत्तात्रेय होसबाले से कई दौर की बैठक हुई है। माना जा रहा है कि चुनावी तैयारी के लिए समय की कमी को देखते हुए पार्टी आलाकमान कुछ बड़े फैसले भी ले सकता है। बता दें कि योगी कैबिनेट में 6 मंत्री पद रिक्त पड़े हैं। चुनावी साल होने के चलते इन्हें जल्द ही भरा जा सकता है।

इन पर गिर सकती है गाज

– पंचायत चुनाव में भाजपा को जिन क्षेत्रों और जिलों में अपेक्षित परिणाम नहीं मिला है, वहां के क्षेत्रीय और जिला पदाधिकारियों को हटाया जा सकता है।

– महामारी के दौरान उम्मीदों के मुताबिक प्रदर्शन न करने वाले मंत्रियों को हटाया जा सकता है या विभाग बदले जा सकते हैं।

पढ़ें :- Union Budget 2023: मायावती ने बजट को बताया बेमानी, कहा-भारत का मिडिल क्लास महंगाई, गरीबी की मार से लोवर मिडिल क्लास बन गया

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...