1993 मुंबई बम धमाकों के आरोपी और दाऊद का साथी फारूक टकला दुबई से गिरफ्तार

1993 मुंबई बम धमाकों के आरोपी और दाऊद का साथी फारूक टकला दुबई से गिरफ्तार
1993 मुंबई बम धमाकों के आरोपी और दाऊद का साथी फारूक टकला दुबई से गिरफ्तार

Dawood Ibrahim Close Farooq Takla Arrested From Dubai Brought To Mumbai

मुंबई। केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई)1993 मुंबई बम धमाकों के आरोपी और दाऊद इब्राहिम कासकर के करीबी फारुख टकला को उसके फरार होने के 25 सालों बाद दुबई से गिरफ्तार कर मुंबई ले आई है। उसे गुरुवार सुबह मुंबई लाया गया और पूछताछ के लिए सीबीआई कार्यालय ले जाया गया। उन्हें रिमांड के लिए आज टाडा की विशेष अदालत में पेश किया जाएगा।

इंटरपोल ने 1995 में टकला के खिलाफ रेड कॉर्नर नोटिस जारी किया था। उसे आखिरकार दुबई में धर दबोचा गया, जहां वह छिपा हुआ था और आज भारत लाया गया। गौरतलब है कि 12 मार्च 1993 को हुए श्रृंखलाबद्ध विस्फोटों में कम से कम 257 लोगों की मौत हो गई थी जबकि 700 से अधिक लोग घायल हो गए थे। इस दौरान करोड़ों रुपयों की संपत्ति नष्ट हो गई थी।

टकला की गिरफ्तारी ऐसे समय में हुई है, जब दो दिन पहले ही मशहूर आपराधिक वकील श्याम केसवानी ने ठाणे में कहा था कि दाऊद इब्राहिम कासकर सशर्त भारत लौटकर सुनवाई का सामना करना चाहता है लेकिन भारत सरकार ने उसकी कुछ पूर्वशर्ते खारिज कर दी हैं। भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) सांसद सुब्रमण्यम स्वामी ने गुरुवार को टकला के प्रत्यर्पण के लिए राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल को बधाई दी।

स्वामी ने ट्वीट कर कहा, “हमें फारुक टकला के सीबीआई की पकड़ में आने के लिए एनएसए डोभाल को बधाई देनी चाहिए। अब दाऊद दूर नहीं।”

दुबई में डी-कंपनी का संभालता था काम 

इसके बाद इंटरपोल ने 1995 में फारुक टकला के खिलाफ रेड कॉर्नर नोटिस जारी किया था। इस नोटिस के जारी होने के करीब 22 साल बाद टकला को सीबीआई अपनी गिरफ्त में ले पाई है। दुबई में रहते हुए फारुक लगातार डी-कंपनी के संपर्क में रहा। बताया जा रहा है कि वह दुबई में डी-कंपनी के काम संभालता था।

सिलसिलेवार धमाकों में मारे गए थे 257 लोग 

बता दें कि 24 साल पहले 12 मार्च 1993 को मुंबई 12 सिलसिलेवार धमाकों से दहल उठी थी। इसमें 257 लोग मारे गए थे, जबकि 713 लोग गंभीर रूप से घायल हुए थे। सीबीआई के मुताबिक, मुंबई धमाके 6 दिसंबर 1992 को हुए बाबरी मस्जिद विध्वंस के बाद हुए दंगों का बदला लेने के लिए किए गए थे।

सीबीआई ने कोर्ट को यह भी बताया कि ये धमाके दुनिया का पहला ऐसा आतंकी हमला था, जहां दूसरे विश्वयुद्ध के बाद इतने बड़े पैमाने पर आरडीएक्स का इस्तेमाल किया गया।

मुंबई। केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई)1993 मुंबई बम धमाकों के आरोपी और दाऊद इब्राहिम कासकर के करीबी फारुख टकला को उसके फरार होने के 25 सालों बाद दुबई से गिरफ्तार कर मुंबई ले आई है। उसे गुरुवार सुबह मुंबई लाया गया और पूछताछ के लिए सीबीआई कार्यालय ले जाया गया। उन्हें रिमांड के लिए आज टाडा की विशेष अदालत में पेश किया जाएगा। इंटरपोल ने 1995 में टकला के खिलाफ रेड कॉर्नर नोटिस जारी किया था। उसे आखिरकार दुबई में धर…