चार सालों की उपलब्धियां गिनाते रहे सांसद मनोज, सौ मीटर दूर घंटों लावारिस पड़ी रही दिव्यांग की लाश

गाजीपुर। एक कहावत आज गाजीपुर में चरितार्थ होती नजर आई कि समरथ के नाहीं दोष गोसाई, मामला काफी पेंचीदा व मानवता को शर्मसार करने वाला है। जिला जेल गेट के ठीक सामने चिलचिलाती धूप की चपेट में आकर दोपहर 12 बजे के आसपास दिव्यांग युवक की मौत हो गयी। युवक छटपटाता रहा लेकिन उसे पानी पिलाने वाला भी नहीं दिखा। जबकि मौके से महज 100 मीटर दूर भारतीय जनता पार्टी की ओर से आयोजित उपलब्धियां गिनाओ दिवस का बखान करने के लिए जिले के सभी बड़े नेता, अफसर, और सुरक्षा के नाम पर सैकड़ों पुलिस कर्मियों तैनात किए गए थे।

Dead Body Of Divyang Found Near Central Ministers Public Meeting Place :

मिली जानकारी के अनुसार जिला जेल गेट के ठीक सामने दोपहर के समय बैसाखी के सहारे लड़खड़ाते हुए गर्मी से बेहाल अज्ञात नौजवान युवक गुजर रहा था। इसी बीच चक्कर खाकर गिर पड़ा और उसके मुॅह से झाग निकलने लगा। युवक बेसुध हो गया उसके बाद किसी की निगाह पड़ी और जेलगेट के ठीक सामने रहने वाले परिवार ने पुलिस की हाईटेक व्यवस्था 100 नम्बर को काल करना शुरू कर दिया। धीरे-धीरे मौके पर भीड़ जुटने लगी और समय तेजी से बीतता गया। घटना स्थल राष्ट्रीय राजमार्ग पर है और जिले के लोकप्रिय सांसद होने के साथ-साथ दो विभागो का जिम्मा सम्भालने वाले मनोज सिन्हा की ओर से महज 100 मीटर दूर लंका मैदान में चार साल की सरकारी विकास की उपलब्धियों का बखान करने के लिये बहुत बड़े कार्यक्रम का आयोजन किया गया जिसमे देश व प्रदेश स्तर के बड़े अधिकारी व कम्पनियों के दिग्गज मौजूद है और इसी रास्ते से उनका कारंवा गुजर रहा है। सुरक्षा के इंतजाम में दो दर्जन पुलिस के बड़े अफसरो के साथ-साथ आई0बी0 और इन्टेलीजेन्ट ब्यूरो के बड़े अफसर भी मौजूद है। जिला गेट खुद प्रदेश की रेड जोन में आती है। सिपाहियों और एस0आई0 स्तर के सैकड़ों लोगो की तैनाती सुबह से ही इस इलाके में की गयी है ताकि वी0आई0पी0 कार्यक्रम की सुरक्षा का दूर दूर तक कोई व्यधान न हो।

लम्बे प्रयास के बाद साढे़ चार घण्टे बाद मौके पर पहुंची पूर्व की सपा सरकार और मौजूदा योगी सरकार की आधुनिक टेक्नालाजी से लैस डॉयल 100 सेवा की गाड़ी मौके पर पहुंची तो पुलिस कर्मियों को कुछ सूझ नहीं रहा था। हालांकि मुहल्ले के लोग इस बात से इस भीषण गर्मी में राहत जरूर महसूस कर रहे है कि शायद कुछ देर बाद दिव्यांग का शव जिला अस्पताल के मोर्चररी या पोस्टमार्टम हाउस तक पहुंच जायेगा। मजबूरी यह है कि देश के बड़े नेताओं में शुमार जनपद के लोकप्रिय सांसद के भव्य कार्यक्रम के समापन तक व्यस्तता तो कम नहीं हो सकती।

गाजीपुर से राकेश पांडेय की रिपोर्ट

गाजीपुर। एक कहावत आज गाजीपुर में चरितार्थ होती नजर आई कि समरथ के नाहीं दोष गोसाई, मामला काफी पेंचीदा व मानवता को शर्मसार करने वाला है। जिला जेल गेट के ठीक सामने चिलचिलाती धूप की चपेट में आकर दोपहर 12 बजे के आसपास दिव्यांग युवक की मौत हो गयी। युवक छटपटाता रहा लेकिन उसे पानी पिलाने वाला भी नहीं दिखा। जबकि मौके से महज 100 मीटर दूर भारतीय जनता पार्टी की ओर से आयोजित उपलब्धियां गिनाओ दिवस का बखान करने के लिए जिले के सभी बड़े नेता, अफसर, और सुरक्षा के नाम पर सैकड़ों पुलिस कर्मियों तैनात किए गए थे। मिली जानकारी के अनुसार जिला जेल गेट के ठीक सामने दोपहर के समय बैसाखी के सहारे लड़खड़ाते हुए गर्मी से बेहाल अज्ञात नौजवान युवक गुजर रहा था। इसी बीच चक्कर खाकर गिर पड़ा और उसके मुॅह से झाग निकलने लगा। युवक बेसुध हो गया उसके बाद किसी की निगाह पड़ी और जेलगेट के ठीक सामने रहने वाले परिवार ने पुलिस की हाईटेक व्यवस्था 100 नम्बर को काल करना शुरू कर दिया। धीरे-धीरे मौके पर भीड़ जुटने लगी और समय तेजी से बीतता गया। घटना स्थल राष्ट्रीय राजमार्ग पर है और जिले के लोकप्रिय सांसद होने के साथ-साथ दो विभागो का जिम्मा सम्भालने वाले मनोज सिन्हा की ओर से महज 100 मीटर दूर लंका मैदान में चार साल की सरकारी विकास की उपलब्धियों का बखान करने के लिये बहुत बड़े कार्यक्रम का आयोजन किया गया जिसमे देश व प्रदेश स्तर के बड़े अधिकारी व कम्पनियों के दिग्गज मौजूद है और इसी रास्ते से उनका कारंवा गुजर रहा है। सुरक्षा के इंतजाम में दो दर्जन पुलिस के बड़े अफसरो के साथ-साथ आई0बी0 और इन्टेलीजेन्ट ब्यूरो के बड़े अफसर भी मौजूद है। जिला गेट खुद प्रदेश की रेड जोन में आती है। सिपाहियों और एस0आई0 स्तर के सैकड़ों लोगो की तैनाती सुबह से ही इस इलाके में की गयी है ताकि वी0आई0पी0 कार्यक्रम की सुरक्षा का दूर दूर तक कोई व्यधान न हो। लम्बे प्रयास के बाद साढे़ चार घण्टे बाद मौके पर पहुंची पूर्व की सपा सरकार और मौजूदा योगी सरकार की आधुनिक टेक्नालाजी से लैस डॉयल 100 सेवा की गाड़ी मौके पर पहुंची तो पुलिस कर्मियों को कुछ सूझ नहीं रहा था। हालांकि मुहल्ले के लोग इस बात से इस भीषण गर्मी में राहत जरूर महसूस कर रहे है कि शायद कुछ देर बाद दिव्यांग का शव जिला अस्पताल के मोर्चररी या पोस्टमार्टम हाउस तक पहुंच जायेगा। मजबूरी यह है कि देश के बड़े नेताओं में शुमार जनपद के लोकप्रिय सांसद के भव्य कार्यक्रम के समापन तक व्यस्तता तो कम नहीं हो सकती। गाजीपुर से राकेश पांडेय की रिपोर्ट