1. हिन्दी समाचार
  2. देश
  3. Death Anniversary: ‘मिसाइल मैन’ डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम के निधन के बाद थी इतनी जायदाद, जान उड़ जाएंगे होश

Death Anniversary: ‘मिसाइल मैन’ डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम के निधन के बाद थी इतनी जायदाद, जान उड़ जाएंगे होश

दिवंगत पूर्व राष्ट्रपति डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम (Dr. APJ Abdul Kalam) आज हमारे बीच नहीं हैं लेकिन देश के हित में उन्होंने जो योगदान दिए हैं उसकी बदौलत वो हमेशा सभी के दिलों में एक बहड़ अहम जगह है।

By आराधना शर्मा 
Updated Date

उत्तर प्रदेश: दिवंगत पूर्व राष्ट्रपति डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम (Dr. APJ Abdul Kalam) आज हमारे बीच नहीं हैं लेकिन देश के हित में उन्होंने जो योगदान दिए हैं उसकी बदौलत वो हमेशा सभी के दिलों में एक बहड़ अहम जगह है। आपको बता दें, 27 जुलाई 2015 यानी आज से 6 साल पहले आज ही के दिन कलाम साहब का देहांत हुआ था। उन्हें उनकी अनंत खूबियों के कारण ही आज भी उतनी ही शिद्दत से याद किया जाता है।

पढ़ें :- इंडस्ट्री ने खोया एक और सितारा, कार्डियक अरेस्ट से सुरेखा सीकरी (दादी सा) का निधन

अंतरिक्ष अनुसंधान और मिसाइल टेक्नोलॉजी पर कलाम साहब कहें या मिसाइल मैन (Missile Man) ने काफी काम किया। डॉ. कलाम ने देश के लिए बहुत कुछ किया तो ज़ाहिर है कि हर कोई ये ज़रूर जानना चाहेगा कि अब्दुल कलाम के पास कितनी दौलत थी और उनके निधन के बाद उनकी दौलत का क्या हुआ?

दरअसल डॉ. अब्दुल कलाम (Dr. APJ Abdul Kalam) के निधन के बाद उनकी जायदाद की गिनती की गई थी। उनकी ज़ायदाद के बारे में जब आप सुनेंगे, यकीनन आप दंग रह जाएंगे। आइए हम आपको बताते हैं कि डॉ. अब्दुल कलाम (Dr. APJ Abdul Kalam) के पास कितनी ज़ायदाद थी और उनके जाने के बाद उसका क्या हुआ?

कलाम साहब की संपत्ति का ब्यौरा

  • डॉ. अब्दुल कलाम के पास कुल 6 पैंट थे जिनमें 2 डीआरडीओ के यूनिफॉर्म शामिल हैं।
  • उनके पास 4 शर्ट थे जिनमें से 2 डीआरडीओ यूनिफॉर्म शामिल हैं।
  • डॉ. कलाम के पास कुल 3 सूट थे जिनमें एक पश्चिमी और 2 भारतीय सूट शामिल हैं।
  • अब्दुल कलाम के पास कुल 2500 किताबें थी।
  • उनके पास एक फ्लैट था जो उन्होंने संशोधन के लिए दान कर दिया था।
  • अब्दुल कलाम की जायदाद में 1 पद्मश्री, 1 पद्ममभूषण, 1 भारतरत्न, 16 डॉक्टरेट, 1 वेबसाइट, 1 ट्विटर और 1 इमेल आइडी शामिल है।
  • डॉ. अब्दुल कलाम के पास टीवी, एसी, गाड़ी, ज़ेवर, शेयर्स, ज़मीन-ज़ायदाद और बैंक बैलेंस के नाम पर कुछ भी नहीं था।
  • यहां तक की उन्होंने अपने जीते जी पिछले आठ सालों की पेंशन की रकम भी अपने गांव की ग्राम पंचायत को दान में दे दी थी।

तो ये था डॉ. अब्दुल कलाम (Dr. APJ Abdul Kalam) की पूरी ज़ायदाद का लेखा-जोखा, जिसे जानकर यकीनन आपकी आंखें खुली की खुली रह गई होंगी। एक ओर जहां इस देश के नेताओं के पास धन संपदा का भंड़ार पाया जाता है और तो और यहां चपरासी के घर भी करोड़ों की ज़ायदाद मिल ही जाती है। उसी देश के इस महान नेता के पास ज़ायदाद के नाम पर कुछ भी न होना और जो था उसे भी दान कर देना ये साबित करता है कि कलाम एक सच्चे महात्मा और राष्ट्रभक्त थे।

पढ़ें :- Exclusive: Dilip Kumar के निधन के चलते केंद्रीय मंत्रिमंडल की बैठक की गई स्थगित

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...