थाईलैंड के दौरे पर पहुंचे रक्षामंत्री राजनाथ सिंह, कहा-दो वर्षों में भारत का रक्षा निर्यात छह गुना बढ़ा

rajnath singh
थाईलैंड के दौरे पर पहुंचे रक्षामंत्री राजनाथ सिंह, कहा-दो वर्षों में भारत का रक्षा निर्यात छह गुना बढ़ा

नई दिल्ली। रक्षामंत्री राजनाथ सिंह थाईलैंड के बैंकॉक दौरे पर हैं। यहां पर उन्होंने एक कार्यक्रम में कहा कि 2024 तक पांच ट्रिलियन की अर्थव्यवस्था के लक्ष्य को हासिल करने के लिए ‘मेक इन इंडिया’ रक्षा क्षेत्र को एक प्रमुख क्षेत्र के रूप में तैयार हुआ है। भारत 2014-18 के दौरान हथियारों का दूसरा सबसे बड़ा आयातक है। जो विश्व आयात का 9.5 प्रतिशत हिस्सा है।

Defense Minister Rajnath Singh Who Arrived On A Visit To Thailand Said Indias Defense Exports Increased Six Times In Two Years :

राजनाथ सिंह ने कहा कि, भारत 2019—20 में रक्षा बजट के लिए 60 बिलियन अमेरिकी डॉलर के आस पास आवंटन किया गया है। लगभग 65 प्रतिशत भागों घटकों, मौजूदा प्रणालियों की उप प्रणालियों को डीलाइसेंस (लाइसेंस रहित) किया गया है। भारत अब उन्हें बना सकता है। लगभग तीन बिलियन अमेरिकी डॉलर के रक्षा उत्पादों का घरेलू निजी क्षेत्रों में उत्पादन हो रहा है।’

इसके साथ ही रक्षामंत्री ने कहा कि, रक्षा नीति 2018 के मसौदे में 2025 तक रक्षा निर्यात को पांच बिलियन अमेरिकी डॉलर करने का लक्ष्य रखा गया था। यह लक्ष्य महत्वकांक्षी है। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि, भारत का रक्षा निर्यात पिछले 2 सालों में लगभग छह गुना बढ़ गया है।

नई दिल्ली। रक्षामंत्री राजनाथ सिंह थाईलैंड के बैंकॉक दौरे पर हैं। यहां पर उन्होंने एक कार्यक्रम में कहा कि 2024 तक पांच ट्रिलियन की अर्थव्यवस्था के लक्ष्य को हासिल करने के लिए 'मेक इन इंडिया' रक्षा क्षेत्र को एक प्रमुख क्षेत्र के रूप में तैयार हुआ है। भारत 2014-18 के दौरान हथियारों का दूसरा सबसे बड़ा आयातक है। जो विश्व आयात का 9.5 प्रतिशत हिस्सा है। राजनाथ सिंह ने कहा कि, भारत 2019—20 में रक्षा बजट के लिए 60 बिलियन अमेरिकी डॉलर के आस पास आवंटन किया गया है। लगभग 65 प्रतिशत भागों घटकों, मौजूदा प्रणालियों की उप प्रणालियों को डीलाइसेंस (लाइसेंस रहित) किया गया है। भारत अब उन्हें बना सकता है। लगभग तीन बिलियन अमेरिकी डॉलर के रक्षा उत्पादों का घरेलू निजी क्षेत्रों में उत्पादन हो रहा है।' इसके साथ ही रक्षामंत्री ने कहा कि, रक्षा नीति 2018 के मसौदे में 2025 तक रक्षा निर्यात को पांच बिलियन अमेरिकी डॉलर करने का लक्ष्य रखा गया था। यह लक्ष्य महत्वकांक्षी है। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि, भारत का रक्षा निर्यात पिछले 2 सालों में लगभग छह गुना बढ़ गया है।