चीनी घुसपैठ पर लोकसभा में बोले रक्षा मंत्री, हमारे सैनिक भी चीन की सीमा में चले जाते हैं

Rajnath singh
चीनी घुसपैठ पर लोकसभा में बोले रक्षा मंत्री, हमारे सैनिक भी चीन की सीमा में चले जाते हैं

नई दिल्ली। लोकसभा में कांग्रेस नेता अधीर रंजन चौधरी द्वारा सीमा में आए दिन चीनी सैनिकों की घुसपैठ को लेकर पूछे गए सवाल का जवाब देते हुए रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि कई बार हम भी उधर चले जाते हैं। लोकसभा में कांग्रेस नेता अधीर रंजन चौधरी के सवाल के जवाब में रक्षामंत्री ने कहा कि वास्तविक सीमा रेखा को लेकर दोनों देशों के बीच कई जगहों पर भ्रम की स्थिति है। कभी-कभी पीएलए इधर आती है और कई बार हमारी सेना भी उधर चली जाती है।

Defense Minister Said In The Lok Sabha On Chinese Incursion Our Soldiers Also Go To The Border Of China :

उन्होंने कहा कि सीमा सुरक्षा को लेकर मैं पूरे देश को आश्वस्त करता हूं। एलएसी को लेकर दोनों देशों के बीच कुछ भ्रम हैं। इसके चलते कभी-कभी चीन की पीएलए और भारतीय सेना इधर-उधर चले जाते हैं। उन्होंने कहा कि सीमा की सुरक्षा को लेकर चीन से किसी भी विवाद से निपटने के लिए हमारे पास मेकेनिज्म मौजूद है।

रक्षा मंत्री ने कहा कि दोनों देशों की सेनाओं के बीच अकसर मीटिंग होती हैं। लॉन्ग टर्म मुद्दों पर भी समाधान के लिए हमारे पास पर्याप्त मेकेनिज्म है। जॉइंट सेक्रटरी लेवल पर भी हम लोग बातचीत करते रहते हैं। भारत सरकार देश की जरूरतों को लेकर पूरी तरह जागरूक है।

राजनाथ सिंह ने कहा कि भारत सरकार सीमा पर सुरक्षा को मजबूत करने के लिए हवाई, रेल और रोड कनेक्टिविटी को लगातार मजबूत कर रही है। उन्होंने कहा कि हम टनल्स का भी तेजी से निर्माण कर रहे हैं। हम यह सुनिश्चित कर रहे हैं कि किसी भी स्थिति में सेना का मूवमेंट तेजी से हो सके।

नई दिल्ली। लोकसभा में कांग्रेस नेता अधीर रंजन चौधरी द्वारा सीमा में आए दिन चीनी सैनिकों की घुसपैठ को लेकर पूछे गए सवाल का जवाब देते हुए रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि कई बार हम भी उधर चले जाते हैं। लोकसभा में कांग्रेस नेता अधीर रंजन चौधरी के सवाल के जवाब में रक्षामंत्री ने कहा कि वास्तविक सीमा रेखा को लेकर दोनों देशों के बीच कई जगहों पर भ्रम की स्थिति है। कभी-कभी पीएलए इधर आती है और कई बार हमारी सेना भी उधर चली जाती है। उन्होंने कहा कि सीमा सुरक्षा को लेकर मैं पूरे देश को आश्वस्त करता हूं। एलएसी को लेकर दोनों देशों के बीच कुछ भ्रम हैं। इसके चलते कभी-कभी चीन की पीएलए और भारतीय सेना इधर-उधर चले जाते हैं। उन्होंने कहा कि सीमा की सुरक्षा को लेकर चीन से किसी भी विवाद से निपटने के लिए हमारे पास मेकेनिज्म मौजूद है। रक्षा मंत्री ने कहा कि दोनों देशों की सेनाओं के बीच अकसर मीटिंग होती हैं। लॉन्ग टर्म मुद्दों पर भी समाधान के लिए हमारे पास पर्याप्त मेकेनिज्म है। जॉइंट सेक्रटरी लेवल पर भी हम लोग बातचीत करते रहते हैं। भारत सरकार देश की जरूरतों को लेकर पूरी तरह जागरूक है। राजनाथ सिंह ने कहा कि भारत सरकार सीमा पर सुरक्षा को मजबूत करने के लिए हवाई, रेल और रोड कनेक्टिविटी को लगातार मजबूत कर रही है। उन्होंने कहा कि हम टनल्स का भी तेजी से निर्माण कर रहे हैं। हम यह सुनिश्चित कर रहे हैं कि किसी भी स्थिति में सेना का मूवमेंट तेजी से हो सके।