नई दिल्ली: डेढ़ महीने में 11वीं बार आया भूकंप

कर्नाटक और झारखंड में महसूस हुए भूकंप के झटके

नई दिल्ली। एक तरह देशभर में कोरोना के कहर के चलते लोग घरों से निकलने में दर रहे हैं वहीं पिछले डेढ़ महीने में दिल्ली सहित एनसीआर में 11 बार भूकंप के झटके महसूस हो चुके हैं। बुधवार को एक बार फिर दिल्ली-एनसीआर में कम तीव्रता के झटके महसूस किए गए। भूकंप का केंद्र दक्षिण पूर्व नोएडा रहा। रिक्टर स्केल पर भूकंप की तीव्रता 3.2 मापी गई। विशेषज्ञों का मानना है कि लगातार आ रहे भूकंप किसी बड़े खतरे का संकेत है।

Delhi After Month Long Tremor Swarm :

बता दें कि दिल्ली-एनसीआर में 12, 13 और 16 अप्रैल को भूकंप के झटके लग चुके हैं। इसी तरह मई में भी भूकंप के झटकों के लगने का सिलसिला जारी रहा। 6, 10, 15 मई और 28 मई को दिल्ली-फरीदाबाद एनसीआर में झटके लगे। इसके बाद 29 मई को दो बार झटके लगे, जिसका केंद्र रोहतक रहा।

बता दें कि भूकंप के लिहाज से 4 सिस्मिक जोन (2,3,4,5) में देश बंटा है। दिल्ली-एनसीआर जोन 4 में आता है। यह तबाही के मामले में दूसरे नंबर का जोन है। इस जोन में रिक्टर पैमाने पर सात से आठ तीव्रता का भूकंप आने की आशंका रहती है। दिल्ली-एनसीआर भूकंप के लिहाज से प्रबल खतरे वाले जोन हैं।

नई दिल्ली। एक तरह देशभर में कोरोना के कहर के चलते लोग घरों से निकलने में दर रहे हैं वहीं पिछले डेढ़ महीने में दिल्ली सहित एनसीआर में 11 बार भूकंप के झटके महसूस हो चुके हैं। बुधवार को एक बार फिर दिल्ली-एनसीआर में कम तीव्रता के झटके महसूस किए गए। भूकंप का केंद्र दक्षिण पूर्व नोएडा रहा। रिक्टर स्केल पर भूकंप की तीव्रता 3.2 मापी गई। विशेषज्ञों का मानना है कि लगातार आ रहे भूकंप किसी बड़े खतरे का संकेत है। बता दें कि दिल्ली-एनसीआर में 12, 13 और 16 अप्रैल को भूकंप के झटके लग चुके हैं। इसी तरह मई में भी भूकंप के झटकों के लगने का सिलसिला जारी रहा। 6, 10, 15 मई और 28 मई को दिल्ली-फरीदाबाद एनसीआर में झटके लगे। इसके बाद 29 मई को दो बार झटके लगे, जिसका केंद्र रोहतक रहा। बता दें कि भूकंप के लिहाज से 4 सिस्मिक जोन (2,3,4,5) में देश बंटा है। दिल्ली-एनसीआर जोन 4 में आता है। यह तबाही के मामले में दूसरे नंबर का जोन है। इस जोन में रिक्टर पैमाने पर सात से आठ तीव्रता का भूकंप आने की आशंका रहती है। दिल्ली-एनसीआर भूकंप के लिहाज से प्रबल खतरे वाले जोन हैं।