1. हिन्दी समाचार
  2. दिल्ली: कोरोना मरीजों के लिए ऐप लॉन्च, सीएम केजरीवाल ने कही ये बात

दिल्ली: कोरोना मरीजों के लिए ऐप लॉन्च, सीएम केजरीवाल ने कही ये बात

Delhi App Launch For Corona Patients Cm Kejriwal Said This

By बलराम सिंह 
Updated Date

नई दिल्ली। मुख्यमंत्री और आम आदमी पार्टी के मुखिया अरविंद केजरीवाल ने दिल्ली कोरोना के नाम से एक मोबाइल ऐप लॉन्च किया है। इस एप के माध्मय से कोरोना अस्पतालों में उपलब्ध बिस्तरों की जानकारी मिल सकेगी। सीएम केजरीवाल ने कहा कि राजधानी में कोरोना के लगातार मामले बढ़ रहे हैं, लेकिन किसी को परेशान होने की जरूरत नहीं है। दिल्ली सरकार कोरोना से चार कदम आगे हैं।

पढ़ें :- Urban Cruiser compact SUV के ब्रांड एंबेसडर बने आयुष्मान खुराना, जाने क्या है कार मे खास

मुख्यमंत्री ने बताया कि दिल्ली में आज 6731 बेड हैं। लोग जाते हैं तो उनको पता नहीं होता कि उनको किस अस्पताल में बेड मिलेगा। कहां ऑक्सीजन मिलेगी। 4100 बेड खाली पड़े हैं। इसलिए आज हम यह ऐप लॉन्च कर रहे हैं। यह आपको सरकारी और प्राइवेट सभी अस्पतालों के बारे में बताएगा कि इस वक्त किस अस्पताल में कितने बेड खाली हैं और कितने भरे हुए हैं।

सीएम केजरीवाल ने कहा कि कोरोना के केस लगातार बढ़ रहे हैं, लेकिन सरकार ने इतना इंतजाम किया हुआ है कि आपके घर में अगर कोई बीमार होता है तो उसके लिए बेड, ऑक्सीजन और आईसीयू सब का इंतजाम किया है। केजरीवाल ने जनता को भरोसा दिलाते हुए कहा कि दिल्ली में किसी चीज की कोई कमी नहीं है। उन्होंने कई बार लोगों के फोन और मैसेज आते हैं कि मैं दर-दर भटक रहा हूं मेरे को बेड नहीं मिल रहा। यह इन्फॉर्मेशन का गैप है। इसलिए मोबाइल ऐप लॉन्च किया गया है, ताकि कोरोना के मरीजों को भटकना न पड़े।

सबसे पहले आप गूगल प्ले में जाएं और लिखें Delhi corona और इसे डाउनलोड करें। Delhifightscorona.in/beds इस ऐप को सुबह 10:00 बजे और शाम को 6:00 बजे अपडेट किया जाएगा। 8800007722 पर व्हाट्सएप्प से डाउनलोड भी कर सकते हैं। 1031 हेल्पलाइन है उस पर फोन करेंगे तो आपको एसएमएस के जरिए भेज देंगे। यह कॉल सीधा हमारे स्पेशल सेक्रेट्री हेल्थ के पास पहुंचेगा और वह अस्पताल से बात करके आपको बेड दिलाएंगे।

मुख्यमंत्री ने कहा कि अगर अस्पताल ने आप को एडमिशन देने से मना किया तो 1031 पर कॉल करें। अगर कोई अस्पताल जांच करके यह कहता है कि आपको एडमिट होने की जरूरत नहीं आप घर में क्वारंटाइन हो सकते हैं तो उनकी बात मान लीजिएगा। डॉक्टर अगर कहे की बीमारी गंभीर नहीं है आप घर जा सकते हैं तो उनकी बात मान लीजिएगा। अगर आप घर में सीरियस हो जाते हैं तो आप अस्पताल में आ सकते हैं।

पढ़ें :- जब कंगना ने किया कृषकों का अपमान, केस हुआ दर्ज... और फिर...

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे...