BJP नेता के घर घुसकर मारपीट के मामले में DELHI विधानसभा अध्यक्ष को 6 महीने की जेल

Delhi assembly speaker
BJP नेता के घर घुसकर मारपीट के मामले में DELHI विधानसभा अध्यक्ष को 6 महीने की जेल

नई दिल्ली। बीजेपी नेता व मशहूर बिल्डर के घर जबरन घुसने के मामले में दिल्ली विधानसभा के स्पीकर रामनिवास गोयल को कोर्ट द्वारा 6 महीने की सजा ​सुनाई गयी है। कोर्ट ने इस मामले में उनके साथ साथ उनके बेटे सुमित व 3 अन्य को भी दोषी करार दिया है। सभी को 6 महीने की सजा और एक हजार रूपये जुर्माना भरने की सजा सुनाई गयी हैं। आपको बता दें कि 2015 में उनके ऊपर भारतीय जनता पार्टी के नेता मनीष घई के घर में जबरन घुसने का मुकदमा दर्ज हुआ था।

Delhi Assembly Speaker Jailed For 6 Months For Assaulting Bjp Leaders House :

बताया गया कि यह मामला 6 फरवरी 2015 का है, अचानक एक दिन रामनिवास गोयल अपने बेटे व 3 अन्य के साथ बीजेपी नेता मनीष घई के घर मे जबरन घुस गए थे और वहां जमकर मारपीट करते हुए तोड़ फोड़ भी की थी। मामला जब उछला तो रामनिवास गोयल ने अपने बचाव में ये कहा था कि उन्हे पता चला था कि बीजेपी नेता के घर में चुनाव में बांटने के लिए कंबल और शराब रखी गयी है। उनका कहना था कि वो पुलिस को सूचना देने के बाद बीजेपी नेता के घर के अन्दर गये थे।

हालांकि राउज एवेन्यू कोर्ट ने रामनिवास की दलीलों को खारिज करते हुए उन्हे दोषी करार दे दिया है। गोयल को कोर्ट ने आईपीसी की धारा 448 के तहत दोषी ठहराया है। इस मामले में रामनिवास गोयल के बेटे सुमित गोयल को धारा 323 के तहत दोषी माना गया है। आपको बता दें कि जब यह मामला हुआ था तब रामनिवास गोयल विधायक थे। इस मामले में रामनिवास व उनके बेटे के साथ साथ हितेश खन्ना, अरुल गुप्ता और बलबीर सिंह को भी सजा सुनाई गयी है।

नई दिल्ली। बीजेपी नेता व मशहूर बिल्डर के घर जबरन घुसने के मामले में दिल्ली विधानसभा के स्पीकर रामनिवास गोयल को कोर्ट द्वारा 6 महीने की सजा ​सुनाई गयी है। कोर्ट ने इस मामले में उनके साथ साथ उनके बेटे सुमित व 3 अन्य को भी दोषी करार दिया है। सभी को 6 महीने की सजा और एक हजार रूपये जुर्माना भरने की सजा सुनाई गयी हैं। आपको बता दें कि 2015 में उनके ऊपर भारतीय जनता पार्टी के नेता मनीष घई के घर में जबरन घुसने का मुकदमा दर्ज हुआ था। बताया गया कि यह मामला 6 फरवरी 2015 का है, अचानक एक दिन रामनिवास गोयल अपने बेटे व 3 अन्य के साथ बीजेपी नेता मनीष घई के घर मे जबरन घुस गए थे और वहां जमकर मारपीट करते हुए तोड़ फोड़ भी की थी। मामला जब उछला तो रामनिवास गोयल ने अपने बचाव में ये कहा था कि उन्हे पता चला था कि बीजेपी नेता के घर में चुनाव में बांटने के लिए कंबल और शराब रखी गयी है। उनका कहना था कि वो पुलिस को सूचना देने के बाद बीजेपी नेता के घर के अन्दर गये थे। हालांकि राउज एवेन्यू कोर्ट ने रामनिवास की दलीलों को खारिज करते हुए उन्हे दोषी करार दे दिया है। गोयल को कोर्ट ने आईपीसी की धारा 448 के तहत दोषी ठहराया है। इस मामले में रामनिवास गोयल के बेटे सुमित गोयल को धारा 323 के तहत दोषी माना गया है। आपको बता दें कि जब यह मामला हुआ था तब रामनिवास गोयल विधायक थे। इस मामले में रामनिवास व उनके बेटे के साथ साथ हितेश खन्ना, अरुल गुप्ता और बलबीर सिंह को भी सजा सुनाई गयी है।