दिल्ली के सीएम एक मार्च से अनिश्चितकालीन भूख हड़ताल करेंगे, जानिए क्यों

b

नई दिल्ली। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने दिल्ली को पूर्ण राज्य का दर्जा दिलवाने के लिए अनिश्चितकालीन भूख हड़ताल करने का ऐलान किया है। शनिवार को दिल्ली विधानसभा में केजरीवाल ने कहा कि वह 1 मार्च से दिल्ली को पूर्ण राज्य का दर्जा दिलवाने के लिए अनिश्चितकालीन भूख हड़ताल पर रहूंगा।

Delhi Cm Arvind Kejriwal To Sit On An Indefinite Fast From March 1 :

केजरीवाल ने आगे कहा कि दिल्ली को पूर्ण राज्य का दर्जा देने की मांग को लेकर हम एक आंदोलन शुरू करेंगे। यह भूख हड़ताल तब तक चलेगी जबतक कि दिल्ली को पूर्ण राज्य का दर्जा नहीं मिल जाता। केजरीवाल ने सदन को बताया मैं दिल्ली को पूर्ण राज्य का दर्जा दिये जाने के लिए एक मार्च से अनिश्चितकालीन भूख हड़ताल करूंगा।

लोगों ने हमें इतना कुछ दिया है कि हमें उनके लिए अपना जीवन भी बलिदान करना पड़े तो वह भी कम है। उन्होंने दावा किया कि स्वतंत्रता के बाद से दिल्ली के लोग अन्याय और अपमान का सामना कर रहे हैं क्योंकि उनके द्वारा निर्वाचित सरकार के पास उनके लिए काम करने की शक्ति का अभाव है।

उन्होंने सवाल किया दिल्ली की निर्वाचित सरकार लोगों को न्याय नहीं दे सकती उनके लिए काम नहीं कर सकती और विकास कार्यो को पूरा नहीं कर सकती क्योंकि उसके पास अधिकारों की कमी है और केन्द्र सरकार उसके कामकाज में बाधा उत्पन्न करती है। क्या दिल्ली के मतदाताओं की कीमत अन्य राज्यों की तुलना में कम है।

केजरीवाल ने कहा कि केन्द्र सरकार ने दिल्ली पुलिस, नगर निगमों और डीडी पर नियंत्रण किया हुआ है जिसके कारण लोग उच्च अपराध दर, अस्वच्छता और विकास की कमी का सामना कर रहे है। दिल्ली के सीएम ने संवाददताओं से बातचीत में कहा कि पूरे देश में लोकतंत्र लागू है लेकिन दिल्ली में ऐसा नहीं है। जनता वोट करती है और सरकार चुनती है लेकिन सरकार के पास कोई पावर नहीं है। इसलिए हम 1 मार्च से आंदोलन शुरू कर रहे हैं।

नई दिल्ली। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने दिल्ली को पूर्ण राज्य का दर्जा दिलवाने के लिए अनिश्चितकालीन भूख हड़ताल करने का ऐलान किया है। शनिवार को दिल्ली विधानसभा में केजरीवाल ने कहा कि वह 1 मार्च से दिल्ली को पूर्ण राज्य का दर्जा दिलवाने के लिए अनिश्चितकालीन भूख हड़ताल पर रहूंगा। केजरीवाल ने आगे कहा कि दिल्ली को पूर्ण राज्य का दर्जा देने की मांग को लेकर हम एक आंदोलन शुरू करेंगे। यह भूख हड़ताल तब तक चलेगी जबतक कि दिल्ली को पूर्ण राज्य का दर्जा नहीं मिल जाता। केजरीवाल ने सदन को बताया मैं दिल्ली को पूर्ण राज्य का दर्जा दिये जाने के लिए एक मार्च से अनिश्चितकालीन भूख हड़ताल करूंगा। लोगों ने हमें इतना कुछ दिया है कि हमें उनके लिए अपना जीवन भी बलिदान करना पड़े तो वह भी कम है। उन्होंने दावा किया कि स्वतंत्रता के बाद से दिल्ली के लोग अन्याय और अपमान का सामना कर रहे हैं क्योंकि उनके द्वारा निर्वाचित सरकार के पास उनके लिए काम करने की शक्ति का अभाव है। उन्होंने सवाल किया दिल्ली की निर्वाचित सरकार लोगों को न्याय नहीं दे सकती उनके लिए काम नहीं कर सकती और विकास कार्यो को पूरा नहीं कर सकती क्योंकि उसके पास अधिकारों की कमी है और केन्द्र सरकार उसके कामकाज में बाधा उत्पन्न करती है। क्या दिल्ली के मतदाताओं की कीमत अन्य राज्यों की तुलना में कम है। केजरीवाल ने कहा कि केन्द्र सरकार ने दिल्ली पुलिस, नगर निगमों और डीडी पर नियंत्रण किया हुआ है जिसके कारण लोग उच्च अपराध दर, अस्वच्छता और विकास की कमी का सामना कर रहे है। दिल्ली के सीएम ने संवाददताओं से बातचीत में कहा कि पूरे देश में लोकतंत्र लागू है लेकिन दिल्ली में ऐसा नहीं है। जनता वोट करती है और सरकार चुनती है लेकिन सरकार के पास कोई पावर नहीं है। इसलिए हम 1 मार्च से आंदोलन शुरू कर रहे हैं।