दिल्ली चुनाव: CM योगी का बयान- दंगा कराने वाला बोली से नहीं तो गोली से मानेगा

CM yogi
दिल्ली विधानसभा चुनाव: योगी आदित्यनाथ बोले- पाकिस्तान का मंत्री केजरीवाल के पक्ष में दे रहा बयान

नई दिल्ली। उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ अक्सर अपने विवादित बयानो को लेकर सुर्खियों में बने रहते हैं। एकबार फिर उन्होने दिल्ली विधानसभा चुनाव की रैली के दौरान ऐसा बयान दिया है जिसपर विपक्ष ने विरोध जताना शुरू कर दिया है। आपको बता दें कि शनिवार को दिल्ली में प्रचार करते हुए यूपी के सीएम ने कहा दंगा करवाने वाले अगर बोली से नही मानेंगे तो गोली से मानेंगे।

Delhi Election Cm Yogis Statement The Rioter Will Accept The Shot If Not From The Bid :

यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ ने दिल्ली के रोहिणी में शनिवार को एक रैली की थी। इस दौरान योगी ने कहा है कि जो कश्मीर में आतंकवाद का विरोध करते हैं वो लोग शाहीनबाग में बैठकर सीएए विरोध कर रहे हैं। इसी रैली में योगी ने यूपी की कांवड़ यात्रा का जिक्र करते हुए कहा कि जो लोग कांवड़ यात्रा में खलल डाल रहे थे, उनके बारे में मैंने प्रशासन को कहा था कि अगर कोई बोली से नहीं मानेगा तो गोली से तो मानेगा ही।

सीएम योगी ने कहा कि हम किसी के पर्व और त्योहार में व्यवधान नहीं डालते। हर व्यक्ति नियम के अंतगर्त पर्व और त्योहार मनाए। लेकिन शिवभक्तों पर कोई व्यक्ति गोली चलाएगा, दंगा कराएगा तो बोली से नहीं मानेगा तो गोली से तो मान ही जाएगा। इस दौरान योगी आदित्यनाथ ने कहा कि सीएए के विरोध-प्रदर्शन के नाम पर सार्वजनिक संपत्ति को नुकसान पहुंचाने वाले कांग्रेस और केजरीवाल के ही लोग थे।

योगी आदित्यनाथ ने कहा कि सीएए के विरोध-प्रदर्शन के नाम पर पाकिस्तान जिंदाबाद के नारे लगाने वाले और सार्वजनिक संपत्ति को क्षति पहुंचाने वाले कांग्रेस और केजरीवाल गैंग के ही लोग थे। ऐसा करके वह क्या चाहते हैं? इनकी मंशा को समझें। रही बात बीजेपी की तो हम इसे मां मानते हैं और मां के आंचल पर दाग लगाने वालों को बख्शेंगे नहीं। उन्होने कहा प्रदर्शनों के दौरान जिन लोगों ने सार्वजनिक संपत्तियों को क्षति पहुंचाई है, उनसे वसूली तो होकर ही रहेगी।

उन्होंने कहा कि कांग्रेस, केजरीवाल और विपक्ष के लोग लगातार भ्रम फैलाते रहे कि अनुच्छेद 370 हटा या श्रीराम मंदिर के पक्ष में फैसला आया तो खून की नदियां बहेंगी, पर हिला एक पत्ता नहीं. यूपी में तो एक मच्छर भी नहीं मरा. मैंने इस बाबत लोगों को भरोसा भी दिया था। उन्होने कहा कि पाकिस्तान का एक मंत्री केजरीवाल के लिए समर्थन की अपील कर रहा है। यह रिश्ता खुद में इस बात का सबूत है कि दाल में कुछ न कुछ तो काला है।

नई दिल्ली। उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ अक्सर अपने विवादित बयानो को लेकर सुर्खियों में बने रहते हैं। एकबार फिर उन्होने दिल्ली विधानसभा चुनाव की रैली के दौरान ऐसा बयान दिया है जिसपर विपक्ष ने विरोध जताना शुरू कर दिया है। आपको बता दें कि शनिवार को दिल्ली में प्रचार करते हुए यूपी के सीएम ने कहा दंगा करवाने वाले अगर बोली से नही मानेंगे तो गोली से मानेंगे। यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ ने दिल्ली के रोहिणी में शनिवार को एक रैली की थी। इस दौरान योगी ने कहा है कि जो कश्मीर में आतंकवाद का विरोध करते हैं वो लोग शाहीनबाग में बैठकर सीएए विरोध कर रहे हैं। इसी रैली में योगी ने यूपी की कांवड़ यात्रा का जिक्र करते हुए कहा कि जो लोग कांवड़ यात्रा में खलल डाल रहे थे, उनके बारे में मैंने प्रशासन को कहा था कि अगर कोई बोली से नहीं मानेगा तो गोली से तो मानेगा ही। सीएम योगी ने कहा कि हम किसी के पर्व और त्योहार में व्यवधान नहीं डालते। हर व्यक्ति नियम के अंतगर्त पर्व और त्योहार मनाए। लेकिन शिवभक्तों पर कोई व्यक्ति गोली चलाएगा, दंगा कराएगा तो बोली से नहीं मानेगा तो गोली से तो मान ही जाएगा। इस दौरान योगी आदित्यनाथ ने कहा कि सीएए के विरोध-प्रदर्शन के नाम पर सार्वजनिक संपत्ति को नुकसान पहुंचाने वाले कांग्रेस और केजरीवाल के ही लोग थे। योगी आदित्यनाथ ने कहा कि सीएए के विरोध-प्रदर्शन के नाम पर पाकिस्तान जिंदाबाद के नारे लगाने वाले और सार्वजनिक संपत्ति को क्षति पहुंचाने वाले कांग्रेस और केजरीवाल गैंग के ही लोग थे। ऐसा करके वह क्या चाहते हैं? इनकी मंशा को समझें। रही बात बीजेपी की तो हम इसे मां मानते हैं और मां के आंचल पर दाग लगाने वालों को बख्शेंगे नहीं। उन्होने कहा प्रदर्शनों के दौरान जिन लोगों ने सार्वजनिक संपत्तियों को क्षति पहुंचाई है, उनसे वसूली तो होकर ही रहेगी। उन्होंने कहा कि कांग्रेस, केजरीवाल और विपक्ष के लोग लगातार भ्रम फैलाते रहे कि अनुच्छेद 370 हटा या श्रीराम मंदिर के पक्ष में फैसला आया तो खून की नदियां बहेंगी, पर हिला एक पत्ता नहीं. यूपी में तो एक मच्छर भी नहीं मरा. मैंने इस बाबत लोगों को भरोसा भी दिया था। उन्होने कहा कि पाकिस्तान का एक मंत्री केजरीवाल के लिए समर्थन की अपील कर रहा है। यह रिश्ता खुद में इस बात का सबूत है कि दाल में कुछ न कुछ तो काला है।