दिल्ली अग्निकांड: कोर्ट ने फैक्ट्री मालिक और मैनेजर को 14 दिन की पुलिस हिरासत में भेजा

Delhi grain market fire
दिल्ली अग्निकांड: कोर्ट ने फैक्ट्री मालिक और मैनेजर को 14 दिन की पुलिस हिरासत में भेजा

नई दिल्ली। दिल्ली की अऩाज मंडी अग्निकांड मामले में फैक्ट्री मालिक रेहान और उसके मैनेजर फुरकान को तीस हजारी कोर्ट में पेश किया गया। सुनवाई के बाद तीस हजारी कोर्ट ने पूछताछ के लिए फैक्ट्री के मालिक रेहान और उसके मैनेजर फुरकान को 14 दिन की पुलिस कस्टडी में भेज दिया है।

Delhi Fire Court Sends Factory Owner And Manager In 14 Days Police Custody :

गौरतलब है कि रानी झांसी रोड के पास पुरानी अनाज मंडी में चार मंजिला इमारत में रविवार सुबह करीब पांच बजे आग लगी थी। स्थानीय लोगों ने बताया कि आग दूसरी मंजिल से शुरू हुई और धीरे धीरे इसने पूरी इमारत को घेर लिया। इमारत के भूतल और पहली मंजिल पर रहने वाले लोग तो निकलने में कामयाब हो गए। लेकिन अन्य मंजिलों पर मौजूद 65 लोग फंस गए थे।

फायर सर्विस के प्रमुख अतुल गर्ग ने बताया कि सुबह पांच बजकर 20 मिनट पर आग लगने की सूचना मिली थी। ढाई घंटे में आग पर काबू पाने के बाद बचाव दल ने इमारत में प्रवेश किया। फिर एक एक करके इमारत में फंसे लोगों को बाहर निकाला जाने लगा। इसके साथ ही कैट्स एम्बुलेंस से घायलों को लेडी हार्डिंग, एलएनजेपी एवं आरएमल अस्पताल में भर्ती कराया गया जहां 43 लोगों की मौत की पुष्टि हो गई।

नई दिल्ली। दिल्ली की अऩाज मंडी अग्निकांड मामले में फैक्ट्री मालिक रेहान और उसके मैनेजर फुरकान को तीस हजारी कोर्ट में पेश किया गया। सुनवाई के बाद तीस हजारी कोर्ट ने पूछताछ के लिए फैक्ट्री के मालिक रेहान और उसके मैनेजर फुरकान को 14 दिन की पुलिस कस्टडी में भेज दिया है। गौरतलब है कि रानी झांसी रोड के पास पुरानी अनाज मंडी में चार मंजिला इमारत में रविवार सुबह करीब पांच बजे आग लगी थी। स्थानीय लोगों ने बताया कि आग दूसरी मंजिल से शुरू हुई और धीरे धीरे इसने पूरी इमारत को घेर लिया। इमारत के भूतल और पहली मंजिल पर रहने वाले लोग तो निकलने में कामयाब हो गए। लेकिन अन्य मंजिलों पर मौजूद 65 लोग फंस गए थे। फायर सर्विस के प्रमुख अतुल गर्ग ने बताया कि सुबह पांच बजकर 20 मिनट पर आग लगने की सूचना मिली थी। ढाई घंटे में आग पर काबू पाने के बाद बचाव दल ने इमारत में प्रवेश किया। फिर एक एक करके इमारत में फंसे लोगों को बाहर निकाला जाने लगा। इसके साथ ही कैट्स एम्बुलेंस से घायलों को लेडी हार्डिंग, एलएनजेपी एवं आरएमल अस्पताल में भर्ती कराया गया जहां 43 लोगों की मौत की पुष्टि हो गई।