AAP विधायकों को HC से राहत, केजरीवाल ने ट्वीट कर कहा-सच की जीत हुई

AAP विधायकों , HC , केजरीवाल
AAP विधायकों को HC से राहत, केजरीवाल ने ट्वीट कर कहा-सच की जीत हुई
नई दिल्ली। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने सत्तारूढ़ पार्टी के 20 विधायकों को अयोग्य करार दिए जाने की निर्वाचन आयोग की सिफारिश को अदालत द्वारा रद्द किए जाने के फैसले का स्वागत करते हुए कहा कि सच्चाई की जीत हुई है। केजरीवाल ने ट्वीट कर कहा - सच की जीत हुई है। दिल्ली के निर्वाचित प्रतिनिधियों को गलत तरीके से अयोग्य घोषित किया गया। उच्च न्यायालय ने दिल्ली के लोगों को न्याय प्रदान किया है। यह लोगों के लिए…

नई दिल्ली। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने सत्तारूढ़ पार्टी के 20 विधायकों को अयोग्य करार दिए जाने की निर्वाचन आयोग की सिफारिश को अदालत द्वारा रद्द किए जाने के फैसले का स्वागत करते हुए कहा कि सच्चाई की जीत हुई है। केजरीवाल ने ट्वीट कर कहा – सच की जीत हुई है। दिल्ली के निर्वाचित प्रतिनिधियों को गलत तरीके से अयोग्य घोषित किया गया। उच्च न्यायालय ने दिल्ली के लोगों को न्याय प्रदान किया है। यह लोगों के लिए एक बड़ी जीत है, दिल्ली के लोगों को बधाई।

{ यह भी पढ़ें:- राजस्थान से कुमार विश्वास की छुट्टी, कविता के माध्यम से दी प्रतिक्रिया }

केजरीवाल की यह प्रतिक्रिया तब आई, जब अदालत ने आयोग से मामले की नए सिरे से सुनवाई करने को कहा, क्योंकि आयोग द्वारा उन्हें अयोग्य करार दिए जाने से पहले विधायकों के पक्ष की सुनवाई उचित तरीके से नहीं की गई थी। इन 20 विधायकों को संसदीय सचिव, यानी लाभ का पद ग्रहण करने के कारण अयोग्य करार दिया गया था।

यह है पूरा मामला

दरअसल, 19 जनवरी को चुनाव आयोग ने संसदीय सचिव को लाभ का पद ठहराते हुए राष्ट्रपति से AAP के 20 विधायकों की सदस्यता रद्द करने की सिफारिश की थी। उसी दिन AAP के कुछ विधायकों ने चुनाव आयोग की सिफारिश के खिलाफ हाई कोर्ट का रुख किया था। 21 जनवरी को राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने चुनाव आयोग की सिफारिश को मंजूर करते हुए AAP के 20 विधायकों की सदस्यता रद्द कर दी।

{ यह भी पढ़ें:- दिल्ली में राशन घोटाले पर राजनीति तेज, भाजपा ने केजरीवाल को बताया छोटा लालू }

बाद में AAP विधायकों ने हाई कोर्ट में दायर की गई अपनी पहली याचिका को वापस लेकर नए सिरे से याचिका डाली और अपनी सदस्यता रद्द किए जाने को चुनौती दी। बता दें कि 2015 के दिल्ली विधानसभा चुनाव में 70 में से 67 सीटें जीतकर प्रचंड बहुमत से सरकार बनाने वाले अविंद केजरीवाल ने 21 विधायकों को संसदीय सचिव नियुक्त किया था। उनमें से एक विधायक जरनैल सिंह भी थे जिन्होंने बाद में अपने पद से इस्तीफा दे दिया था।

Loading...