जेएनयू हमले पर दिल्ली पुलिस का बयान, नकाबपोश हमलावरों का 40 % मिलान हुआ

jnu
जेएनयू हमले पर दिल्ली पुलिस का बयान, नकाबपोश हमलावरों का 40 फीसदी मिलान हुआ

नई दिल्ली। दिल्ली की जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी (जेएनयू) में रविवार को हुई हिंसा के मामले में दिल्ली पुलिस को बड़ी सफलता मिली है। दिल्ली पुलिस ने बताया कि छात्रों और शिक्षकों पर हमला करने वाले नकाबपोशों की 40 प्रतिशत पहचान का मिलान हो गया है।

Delhi Polices Statement On Jnu Attack 40 Of Masked Attackers Matched :

पुलिस ने बुधवार को अपनी रिपोर्ट सरकार को सौंप दी, जो फेशियल रिकग्निशन सॉफ्टवेयर (चेहरे की पहचान करने वाले सॉफ्टवेयर) पर आधारित है, जिसका इस्तेमाल रविवार की हिंसा के दोषियों की पहचान करने के लिए किया गया था।

दिल्ली पुलिस के अधिकारियों ने कहा कि जेएनयू में हिंसा की जांच के लिए बनी स्पेशल टास्क फोर्स (एसआईटी) को पहचान के मैच सौंप दिए गए हैं। हाल ही में हासिल की गई फेशियल रिकग्निशन सिस्टम का उपयोग मुख्य रूप से लापता बच्चों और अज्ञात शवों को ट्रैक और ट्रेस करने के लिए किया जाता है। अब माना जा रहा है कि पुलिस जल्द ही हमलावरों को दबोच लेगी।

बता दें कि बीते 5 जनवरी को छात्रों और शिक्षकों के बीच एक बैठक के दौरान लाठी, डंडे और हथौड़ों से लैस नकाबपोशों ने जेएनयू परिसर में प्रवेश किया और लोगों को बुरी तरह से पीटा। उन्होंने छात्रों के हॉस्टलों में तोड़फोड़ भी की। इस घटना में जेएनयू छात्र संघ की अध्यक्ष आईशी घोष सहित 30 से अधिक छात्र घायल हो गए।

नई दिल्ली। दिल्ली की जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी (जेएनयू) में रविवार को हुई हिंसा के मामले में दिल्ली पुलिस को बड़ी सफलता मिली है। दिल्ली पुलिस ने बताया कि छात्रों और शिक्षकों पर हमला करने वाले नकाबपोशों की 40 प्रतिशत पहचान का मिलान हो गया है। पुलिस ने बुधवार को अपनी रिपोर्ट सरकार को सौंप दी, जो फेशियल रिकग्निशन सॉफ्टवेयर (चेहरे की पहचान करने वाले सॉफ्टवेयर) पर आधारित है, जिसका इस्तेमाल रविवार की हिंसा के दोषियों की पहचान करने के लिए किया गया था। दिल्ली पुलिस के अधिकारियों ने कहा कि जेएनयू में हिंसा की जांच के लिए बनी स्पेशल टास्क फोर्स (एसआईटी) को पहचान के मैच सौंप दिए गए हैं। हाल ही में हासिल की गई फेशियल रिकग्निशन सिस्टम का उपयोग मुख्य रूप से लापता बच्चों और अज्ञात शवों को ट्रैक और ट्रेस करने के लिए किया जाता है। अब माना जा रहा है कि पुलिस जल्द ही हमलावरों को दबोच लेगी। बता दें कि बीते 5 जनवरी को छात्रों और शिक्षकों के बीच एक बैठक के दौरान लाठी, डंडे और हथौड़ों से लैस नकाबपोशों ने जेएनयू परिसर में प्रवेश किया और लोगों को बुरी तरह से पीटा। उन्होंने छात्रों के हॉस्टलों में तोड़फोड़ भी की। इस घटना में जेएनयू छात्र संघ की अध्यक्ष आईशी घोष सहित 30 से अधिक छात्र घायल हो गए।