1. हिन्दी समाचार
  2. क्षेत्रीय
  3. केजरीवाल पर सिद्धू का बड़ा वार,बोले- दिल्ली सरकार गेस्ट टीचर्स से करवा रही है बंधुआ मजदूरी

केजरीवाल पर सिद्धू का बड़ा वार,बोले- दिल्ली सरकार गेस्ट टीचर्स से करवा रही है बंधुआ मजदूरी

पंजाब कांग्रेस प्रमुख नवजोत सिंह सिद्धू (Punjab Congress Chief Navjot Singh Sidhu) रविवार को दिल्ली सरकार (Delhi Government) के अतिथि शिक्षकों (Guest Teachers) के धरने में शामिल हुए है। बता दें कि ये अतिथि शिक्षक दिल्ली सीएम अरविंद केजरीवाल (CM Arvind Kejriwal) के आवास के बाहर स्थायी नौकरी की मांग को लेकर धरना दे रहे हैं।

By संतोष सिंह 
Updated Date

नई दिल्ली। पंजाब कांग्रेस प्रमुख नवजोत सिंह सिद्धू (Punjab Congress Chief Navjot Singh Sidhu) रविवार को दिल्ली सरकार (Delhi Government) के अतिथि शिक्षकों (Guest Teachers) के धरने में शामिल हुए है। बता दें कि ये अतिथि शिक्षक दिल्ली सीएम अरविंद केजरीवाल (CM Arvind Kejriwal) के आवास के बाहर स्थायी नौकरी की मांग को लेकर धरना दे रहे हैं।

पढ़ें :- Breaking-पूर्व वित्त सचिव अरविंद मायाराम के ठिकानों पर CBI की छापेमारी जारी

धरने पर बैठे नवजोत सिंह सिद्धू (Navjot Singh Sidhu) ने नारे भी लगाए। उन्होंने नारा लगाया, ‘ऊंची दुकान फीके पकवान। इस प्रदर्शन में ऑल इंडिया गेस्ट टीचर्स एसोसिएशन (All India Guest Teachers Association) नवजोत सिंह सिद्धू (Navjot Singh Sidhu) का साथ दे रही है। सिद्धू ने पूछा कि अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejriwal) कहां है? दिल्ली में 22 हजार गेस्ट टीचर्स से बंधुआ मजदूरों की तरह काम कराया जा रहा है। उनसे दिहाड़ी मजदूरी करवाई जा रही है। नीति बनाकर विकास करना चाहिए। अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejriwal)  ने मायाजाल बिछा रखा है और मैं इनका रेत का महल तोड़कर जाऊंगा।

सिद्धू ने कहा कि अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejriwal) पंजाब में आकर टीचर्स को लालच दे रहे हैं ,लेकिन वो पहले ये बताएं कि दिल्ली के गेस्ट टीचर्स के लिए उन्होंने क्या किया है? बता दें कि हाल ही में अरविंद केजरीवाल ने पंजाब पहुंचकर टीचर्स के साथ धरना दिया था। इस दौरान केजरीवाल ने वादा किया था कि पंजाब में आम आदमी पार्टी की सरकार बनते ही टीचर्स को परमानेंट कर दिया जाएगा।

नवजोत सिंह सिद्धू ( Navjot Singh Sidhu) ने ट्वीट कर कहा कि दिल्ली का एजुकेशन मॉडल कॉन्ट्रैक्ट का मॉडल है। दिल्ली सरकार में 1031 स्कूल हैं जबकि केवल 196 स्कूलों में प्रिंसिपल हैं। 45 फीसदी शिक्षक पद खाली हैं और 22,000 गेस्ट टीचर्स द्वारा दैनिक वेतन पर स्कूल चलाए जा रहे हैं, हर 15 दिनों में कॉन्ट्रैक्ट रिन्यू किया जाता है।

नवजोत सिंह सिद्धू ( Navjot Singh Sidhu) ने चंडीगढ़ में प्रेस कांफ्रेस कर कहा कि 2015 में दिल्ली में शिक्षकों के लिए 12,515 रिक्तियां थीं, लेकिन 2021 में दिल्ली में शिक्षकों की 19,907 रिक्तियां हैं। जबकि आप सरकार अतिथि व्याख्याताओं के माध्यम से रिक्त पदों को भर रही है।

उन्होंने कहा कि अपने 2015 के घोषणापत्र में आपने दिल्ली में 8 लाख नई नौकरियों और 20 नए कॉलेजों का वादा किया था, नौकरियां और कॉलेज कहां हैं? आपने दिल्ली में सिर्फ 440 नौकरियां दी हैं। आपकी असफल गारंटियों के उलट दिल्ली की बेरोजगारी दर पिछले 5 सालों में लगभग 5 गुना बढ़ गई है। इस दौरान उन्होंने ऐलान किया कि दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल के निवास स्थान पर चल रहे अतिथि शिक्षकों के बाहर धरने में शामिल होंगे।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...