दिल्ली टेस्ट : विराट और प्रदूषण से परेशान मेहमान बैकफुट पर

नई दिल्ली। फिरोजशाह कोटला मैदान पर भारत और श्रीलंका के बीच जारी तीसरे टेस्ट मैच का दूसरा दिन भी मेजबान के नाम रहा। पहले भारतीय कप्तान विराट कोहली ने छठे दोहरे शतक के साथ कई रिकार्ड अपने नाम करते हुए अपनी टीम को विशाल स्कोर प्रदान किया और फिर गेंदबाजों ने प्रदूषण से परेशान श्रीलंका को पूरी तरह से बैकफुट पर धकेल दिया। श्रीलंकाई टीम दो दिन का खेल होने तक पूरी तरह से मेजबानों के दवाब में दिखी। उसने दूसरे दिन का अंत उसने 44.3 ओवरों में तीन विकेट के नुकसान पर 131 रनों के साथ किया। भारत ने अपनी पहली पारी भारी ड्रामे के बीच सात विकेट पर 536 रनों पर घोषित कर दी थी। मेहमान टीम पहली पारी की तुलना में अभी भी 405 रन पीछे है।

अपनी पहली पारी खेलने उतरी श्रीलंका को पहली ही गेंद पर मोहम्मद शमी ने झटका दिया। उन्होंने दिमुथ करुणारत्ने (0) को विकेट के पीछे रिद्धिमान साहा के हाथों कैच कराया। ईशांत ने धनंजय डी सिल्वा (1) को 14 के कुल स्कोर पर पगाबाधा आउट कर श्रीलंका को दूसरा झटका दिया। चोटिल बल्लेबाज सादिरा समाराविक्रमा की जगह पारी की शुरूआत करने आए दिलरुवान परेरा ने मैथ्यूज के साथ तीसरे विकेट के लिए 61 रनों की साझेदारी की।

{ यह भी पढ़ें:- PHOTOS: एक दूजे के हुए विराट और अनुष्का, इस रिजॉर्ट में हुई शादी }

परेरा हालांकि अपनी अच्छी शुरूआत को बड़ी पारी में बदल नहीं सके। वह जडेजा की गेंद पर नॉट आउट करार दे दिए गए थे, लेकिन कोहली ने रिवयू लिया और परेरा को लौटना पड़ा। परेरा को शमी की गेंद पर धवन ने जीवनदान भी दिया था। वहीं मैथ्यूज का कैच कोहली ने ईशांत की गेंद पर छोड़ा था। अगर यह दोनों कैच लपक लिए जाते तो मेहमान टीम और परेशानी में आ सकती थी।

इसके बाद चंडीमल और मैथ्यूज ने श्रीलंकाई पारी को दिन का खेल खत्म होने तक संभाल लिया। मैथ्यूज ने 118 गेंदों का सामना करते हुए आठ चौके और दो छक्का लगाए हैं। कोहली ने इस मैच में अपने करियर का छठा दोहरा शतक जड़ा। उन्होंने अपने सभी दोहरे शतक कप्तान बनने के बाद बीते 17 महीनों में जड़े हैं। वह टेस्ट क्रिकेट में सबसे ज्यादा दोहरे शतक लगाने वाले कप्तान भी बन गए हैं। उनसे पहले वेस्टइंडीज के ब्रायन लारा के नाम यह रिकार्ड था, जिन्होंने कप्तान के तौर पर पांच शतक जड़े हैं।

{ यह भी पढ़ें:- शर्मनाक हार के बाद विराट की शादी हुई कैंसिल, कोच ने वापस बुलाया }

हालांकि इस मैच में कोहली दोहरे शतक से जितने खुश थे उसके बाद दूसरे सत्र में श्रीलंका द्वारा तीन बार खेले रोके जाने से नाराज। और इसी नाराजगी में उन्होंने पारी घोषित कर दी। भारतीय पारी घोषित होने से पहले मैदान पर कई नाटकीय मोड़ आए। दिन के दूसरे सत्र में पांच से ज्यादा श्रीलंकाई खिलाड़ी प्रदूषण के कारण मैदान पर मास्क पहन कर उतरे।

दूसरे सत्र में 123वें ओवर में भारत जब पांच विकेट खोकर 509 रनों पर था तभी श्रीलंकाई गेंदबाज लाहिरू गमागे को सांस लेने में परेशानी हुई और खेल रोका गया। इसी बीच श्रीलंकाई खिलाड़ियों ने खराब वातावरण की शिकायत मैदानी अंपायरों से की, जिसके कारण तकरीबन 15 मिनट का खेल रुका।

मैच दोबारा शुरू हुआ और पहली ही गेंद पर रविंचद्रन अश्विन (4) का विकेट गिरा। गमागे इसके बाद मैदान से बाहर चले गए। इसी बीच कप्तान कोहली भी अपने टेस्ट करियर के सर्वश्रेष्ठ स्कोर 243 रनों पर लक्षण संदकाना की गेंद पगबाधा करार दे दिए गए। इससे पहले उनका सर्वश्रेष्ठ स्कोर 235 रन था जो उन्होंने इंग्लैंड के खिलाफ पिछले साल मुंबई में बनाया था।

{ यह भी पढ़ें:- INDVSL: श्रीलंका के सामने फिसड्डी साबित हुयी भारतीय टीम ,मिली 7 विकेट से शिकस्त }

कोहली के जाने के बाद एक बार फिर खेल रुका। 127वें ओवर में श्रीलंका के टीम मैनेजर असंका गुरुसिंहा मैदानी अंपायरों से कुछ शिकायत करने लगे। उनके जाने के बाद भारतीय टीम के मुख्य कोच रवि शास्त्री ने मैदान पर कदम रखा और मैदानी अंपायरों से बात की।

पांच मिनट तक खेल रुकने के बाद मैच एक बार फिर शुरू हुआ, लेकिन पांच गेंद बाद श्रीलंका के कप्तान दिनेश चंडीमल ने 10 खिलाड़ी होने के कारण मैच रोक दिया और इसी बीच श्रीलंका टीम के कोच निक पोथास मैदान पर आकर अंपायरों से बात करने लगे। इसी बीच भारतीय ड्रेसिंग रूम से कोहली ने परेशान होकर पारी घोषित कर दी।

रिद्धिमान साहा और रवींद्र जडेजा क्रमश: नौ और पांच रनों पर नाबाद रहे। मैदान से जाते वक्त स्टेडियम में मौजूद दर्शकों ने श्रीलंकाई टीम की हूटिंग की और लूजर कहकर उन्हें हूट किया।

इससे पहले अपने दूसरे दिन के स्कोर चार विकेट के नुकसान पर 371 रनों से आगे खेलने उतरी भारत को कप्तान कोहली और रोहित शर्मा (65) ने शानदार शुरूआत दी और बड़ी आसानी से लगातार रन जोड़ते रहे। इसी बीच कोहली ने अपने करियर का छठा दोहरा शतक पूरा किया।

{ यह भी पढ़ें:- INDVSL: भारतीय शेरों का अपनी जमीन पर तीसरा सबसे घटिया प्रदर्शन }

वह टेस्ट क्रिकेट में सबसे ज्यादा दोहरे शतक लगाने वाले कप्तान बने गए है। उन्होंने इस मामले में वेस्टइंडीज के ब्रायन लारा को पछाड़ा। लारा के कप्तान के तौर पर पांच दोहरे शतक हैं। कोहली ने अपने सभी छह दोहरे शतक कप्तान बनने के बाद बनाए हैं। कोहली ने अपनी पारी में 287 गेंदें खेलीं और 25 चौके लगाए।

रोहित भोजनकाल की आखिरी गेंद पर संदकान का शिकार बने। रोहित ने 107 गेंदों पर सात चौके और दो छक्के लगाए।

Loading...