दिल्ली हिंसा: अब तक 20 लोगों की मौत, गोकुलपुरी में उपद्रवियों ने दुकान में लगाई आग

Delhi violence
दिल्ली हिंसा: अब तक 18 लोगों की मौत, गोकुलपुरी में उपद्रवियों ने दुकान में लगाई आग

नई दिल्ली। नागरिकता संशोधन कानून के विरोध में दिल्ली में भड़की हिंसा थमने का नाम नहीं ले रही है। दिल्ली में तीन दिनों के अंदर हुई हिंसा में 20 लोगों की जान जा चुकी है, जबकि 56 पुलिसकर्मी समेत 200 से ज्यादा लोग घायल हैं। वहीं, बुधवार सुबह भी दिल्ली के गोकुलपुरी इलाके में हिंसक प्रदर्शन हुआ, यहां पर कुछ उपद्रवियों ने एक दुकान में आग लगा दी। चश्मदीदों का कहना है कि यहां पर कुछ लोग आए और आग लगाकर भाग गए।

Delhi Violence 18 People Dead So Far Miscreants Set Fire To Shop In Gokulpuri :

वहीं, हिंसा ग्रस्त इलाकों में पुलिस ने फ्लैग मार्च निकाला है। पुलिस के मुताबिक, सीलमपुर और मौजपुर में हालात अब सुधरते दिख रहे हैं। यहां बुधवार सुबह 4:30 बजे के बाद से हिंसा की कोई घटना सामने नहीं आई है. मौजपुर इलाके में बुधवार सुबह कई जगह पर लोग काम पर जाते दिखे। वहीं पुलिस ने बाबरपुर, जाफराबाद और गोकुलपुरी में यातायात बंद कर रखा है।

सूत्रों की माने तो हिंसा में घायल लोगों की हालत काफी गंभीर है, जिसके चलते मृतकों की संख्या बढ़ सकती है। हालांकि अभी तक 20 लोगों की मौत हो चुकी है। बीते दो दिनों के दौरान अलग-अलग अस्पतालों में 120 से ज्यादा लोगों को इलाज के लिए भर्ती करवाया गया है। इस बीच गृह मंत्री अमित शाह ने हिंसा में घायल शहादरा के डीसीपी अमित शर्मा के परिवार को फोन कर उनका हालचाल लिया।

वहीं इससे पहले देर रात सीएम अरविंद केजरीवाल के आवास के बाहर दिल्ली हिंसा के दोषियों के खिलाफ कार्रवाई करने और जल्द से जल्द शांति बहाली की मांग कर रहे लोगों को पुलिस ने हटा दिया है। पुलिस ने छात्र-छात्राओं पर वाटर कैनन का इस्तेमाल किया। बड़ी संख्या में छात्र सीएम आवास के बाहर ‘केजरीवाल बाहर आओ, हमसे बात करो’ के नारे लगा रहे थे।

नई दिल्ली। नागरिकता संशोधन कानून के विरोध में दिल्ली में भड़की हिंसा थमने का नाम नहीं ले रही है। दिल्ली में तीन दिनों के अंदर हुई हिंसा में 20 लोगों की जान जा चुकी है, जबकि 56 पुलिसकर्मी समेत 200 से ज्यादा लोग घायल हैं। वहीं, बुधवार सुबह भी दिल्ली के गोकुलपुरी इलाके में हिंसक प्रदर्शन हुआ, यहां पर कुछ उपद्रवियों ने एक दुकान में आग लगा दी। चश्मदीदों का कहना है कि यहां पर कुछ लोग आए और आग लगाकर भाग गए। वहीं, हिंसा ग्रस्त इलाकों में पुलिस ने फ्लैग मार्च निकाला है। पुलिस के मुताबिक, सीलमपुर और मौजपुर में हालात अब सुधरते दिख रहे हैं। यहां बुधवार सुबह 4:30 बजे के बाद से हिंसा की कोई घटना सामने नहीं आई है. मौजपुर इलाके में बुधवार सुबह कई जगह पर लोग काम पर जाते दिखे। वहीं पुलिस ने बाबरपुर, जाफराबाद और गोकुलपुरी में यातायात बंद कर रखा है। सूत्रों की माने तो हिंसा में घायल लोगों की हालत काफी गंभीर है, जिसके चलते मृतकों की संख्या बढ़ सकती है। हालांकि अभी तक 20 लोगों की मौत हो चुकी है। बीते दो दिनों के दौरान अलग-अलग अस्पतालों में 120 से ज्यादा लोगों को इलाज के लिए भर्ती करवाया गया है। इस बीच गृह मंत्री अमित शाह ने हिंसा में घायल शहादरा के डीसीपी अमित शर्मा के परिवार को फोन कर उनका हालचाल लिया। वहीं इससे पहले देर रात सीएम अरविंद केजरीवाल के आवास के बाहर दिल्ली हिंसा के दोषियों के खिलाफ कार्रवाई करने और जल्द से जल्द शांति बहाली की मांग कर रहे लोगों को पुलिस ने हटा दिया है। पुलिस ने छात्र-छात्राओं पर वाटर कैनन का इस्तेमाल किया। बड़ी संख्या में छात्र सीएम आवास के बाहर 'केजरीवाल बाहर आओ, हमसे बात करो' के नारे लगा रहे थे।