दिल्ली हिंसा: गृहमंत्री अमित शाह ने की उच्चस्तरीय बैठक, एलजी और सीएम केजरीवाल रहे मौजूद

Amit Shah & Arvind Kejriwal
दिल्ली हिंसा: गृहमंत्री अमित शाह ने की उच्चस्तरीय बैठक, एलजी और सीएम केजरीवाल रहे मौजूद

नई दिल्ली। उत्तर पूर्वी दिल्ली में नागरिकता संशोधन कानून के विरोध में हुए हिंसक प्रदर्शन को लेकर केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने राष्ट्रीय राजधानी के हालात पर चर्चा करने के लिए मंगलवार को एक उच्चस्तरीय बैठक की। इस बैठक में शांति बहाल करने के उपायों पर चर्चा हुई। उत्तर पूर्वी दिल्ली में अलग अलग स्थानों पर हुई हिंसा में एक हेड कॉन्स्टेबल सहित 8 लोगों की मौत हो गई और 60 से अधिक लोग घायल हुए हैं। बैठक के बाद अरविंद केजरीवाल ने कहा कि गृहमंत्री ने भरोसा दिया है कि सुरक्षा बलों की कमी नहीं होने दी जाएगी। सीएम केजरीवाल ने कहा कि मिलकर दिल्ली में शांति बहाली का प्रयास करेंगे।

Delhi Violence Home Minister Amit Shah Holds High Level Meeting Lg And Cm Kejriwal Remain Present :

गृह मंत्री की बैठक में दिल्ली के उप राज्यपाल अनिल बैजल, मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल, दिल्ली के पुलिस आयुक्त अमूल्य पटनायक, कांग्रेस नेता सुभाष चोपड़ा, भाजपा के नेता मनोज तिवारी और रामवीर बिधूड़ी शामिल हुए। केंद्रीय गृह सचिव अजय भल्ला, खुफिया ब्यूरो के निदेशक अरविंद कुमार भी बैठक में मौजूद थे। इससे पहले शाह ने राष्ट्रीय राजधानी में कानून व्यवस्था की स्थिति की समीक्षा के लिए सोमवार रात को भी एक बैठक की थी।

अरविंद केजरीवाल ने मीडिया से बातचीत में कहा कि अमित शाह के साथ बैठक सकारात्मक रही और हर कोई चाहता है कि हिंसा रुके और शांति लौटे। सभी राजनीतिक दलों की कोशिश होगी कि जल्द जल्द शांति वापस लौटे।गृह मंत्री अमित शाह की ओर से आश्वासन दिया है कि जरूरत पड़ने पर और पुलिस बलों को तैनात किया जाएगा।

नागरिकता संशोधन कानून और राष्ट्रीय नागरिकता रजिस्टर के विरोध और समर्थन में चल रहा धरना प्रदर्शन हिंसा में तब्दील हो गया है। सोमवार के बाद मंगलवार को भी हिंसा का दौरा जारी है। दुकानों में तोड़फोड़ और आगजनी की खबरें मिल रही हैं। वहीं, इससे पहले सोमवार को उत्तर पूर्वी दिल्ली के मौजपुर, मुजफ्फराबाद, करावल नगर में हुई हिंसा में अब तक 8 लोगों की जान जा चुकी है। इसमें एक पुलिसकर्मी रतनलाल भी शामिल हैं।

नई दिल्ली। उत्तर पूर्वी दिल्ली में नागरिकता संशोधन कानून के विरोध में हुए हिंसक प्रदर्शन को लेकर केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने राष्ट्रीय राजधानी के हालात पर चर्चा करने के लिए मंगलवार को एक उच्चस्तरीय बैठक की। इस बैठक में शांति बहाल करने के उपायों पर चर्चा हुई। उत्तर पूर्वी दिल्ली में अलग अलग स्थानों पर हुई हिंसा में एक हेड कॉन्स्टेबल सहित 8 लोगों की मौत हो गई और 60 से अधिक लोग घायल हुए हैं। बैठक के बाद अरविंद केजरीवाल ने कहा कि गृहमंत्री ने भरोसा दिया है कि सुरक्षा बलों की कमी नहीं होने दी जाएगी। सीएम केजरीवाल ने कहा कि मिलकर दिल्ली में शांति बहाली का प्रयास करेंगे। गृह मंत्री की बैठक में दिल्ली के उप राज्यपाल अनिल बैजल, मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल, दिल्ली के पुलिस आयुक्त अमूल्य पटनायक, कांग्रेस नेता सुभाष चोपड़ा, भाजपा के नेता मनोज तिवारी और रामवीर बिधूड़ी शामिल हुए। केंद्रीय गृह सचिव अजय भल्ला, खुफिया ब्यूरो के निदेशक अरविंद कुमार भी बैठक में मौजूद थे। इससे पहले शाह ने राष्ट्रीय राजधानी में कानून व्यवस्था की स्थिति की समीक्षा के लिए सोमवार रात को भी एक बैठक की थी। अरविंद केजरीवाल ने मीडिया से बातचीत में कहा कि अमित शाह के साथ बैठक सकारात्मक रही और हर कोई चाहता है कि हिंसा रुके और शांति लौटे। सभी राजनीतिक दलों की कोशिश होगी कि जल्द जल्द शांति वापस लौटे।गृह मंत्री अमित शाह की ओर से आश्वासन दिया है कि जरूरत पड़ने पर और पुलिस बलों को तैनात किया जाएगा। नागरिकता संशोधन कानून और राष्ट्रीय नागरिकता रजिस्टर के विरोध और समर्थन में चल रहा धरना प्रदर्शन हिंसा में तब्दील हो गया है। सोमवार के बाद मंगलवार को भी हिंसा का दौरा जारी है। दुकानों में तोड़फोड़ और आगजनी की खबरें मिल रही हैं। वहीं, इससे पहले सोमवार को उत्तर पूर्वी दिल्ली के मौजपुर, मुजफ्फराबाद, करावल नगर में हुई हिंसा में अब तक 8 लोगों की जान जा चुकी है। इसमें एक पुलिसकर्मी रतनलाल भी शामिल हैं।