दिल्ली हिंसा: अब तक दस लोगों की मौत, उपद्रवियों को देखते ही गोली मारने की चेतावनी

violance delhi
दिल्ली हिंसा: अब तक दस लोगों की मौत, उपद्रवियों को देखते ही गोली मारने का आदेश

नई दिल्ली। नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) को लेकर शुरू हुआ बवाल थमने का नाम नहीं ले रहा है। दिल्ली के उत्तर पूर्वी में हालात काफी बिगड़ गए हैं। इसके कारण चार जगहों पर कर्फ्यू लगा दिया गया है। वहीं, नॉर्थ ईस्ट दिल्ली में पुलिस ने उपद्रवियों को देखते ही गोली मारने का आदेश जारी किया है। बता दें कि, नॉर्थ ईस्ट दिल्ली में नागरिकता संशोधन कानून को लेकर रविवार से ही हिंसा जारी है।

Delhi Violence Ten People Dead So Far Orders To Shoot At Sight Of Miscreants :

रविवार से शुरू हुई हिंसा ने मंगलवार को भी जारी रही। वहीं, इस हिंसा में अब तक 10 लोगों ने अपनी जान गंवा दी है। इस हिंसा में ​एक हेड कांस्टेबल रतनलाल भी शहीद हो गए। जबकि 2 आईपीएस अफसरों समेत 56 पुलिसकर्मी जख्मी हैं। हिंसा की घटनाओं में करीब 200 लोग घायल हुए हैं। नॉर्थ ईस्ट दिल्ली में हालात तनावपूर्ण हैं, इलाके में बड़ी तादाद में पुलिस बल तैनात है।

बता दें कि आज (मंगलवार) उपद्रवियों ने कई बरइकरें को आग के हवाले कर दिया। दिल्ली पुलिस के प्रवक्ता एम एस रंधावा ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर जानकारी दी कि अब हिंसा पर काबू पा लिया गया है। दिल्ली हिंसा में अब तक 10 लोगों की मौत हुई। उत्तर पूर्वी इलाके में हुई हिंसा में 150 लोग घायल हो गए है, इसमें 130 आम लोग भी शामिल हैं।

हिंसा में दो आईपीएस अधिकारी और 56 पुलिसकर्मी घायल हुए हैं। साथ ही पुलिस ने अपील की है कि अफवाहों पर ध्यान ना दें। पुलिस ने कहा कि असमाजिक तत्वों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने बताया कि तंग गलियों की वजह से पुलिस को एक्शन लेने में दिक्कत आई।

कुछ लोगों के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया गया है। हिंसाग्रस्त इलाके में ड्रोन से निगरानी रखी जा रही है। उन्होंने बताया कि हिंसाग्रस्त इलाके में धारा 144 लागू की जा चुकी है। हम जनता से अपील करते हैं कि कानून अपने हाथों में न लें।

नई दिल्ली। नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) को लेकर शुरू हुआ बवाल थमने का नाम नहीं ले रहा है। दिल्ली के उत्तर पूर्वी में हालात काफी बिगड़ गए हैं। इसके कारण चार जगहों पर कर्फ्यू लगा दिया गया है। वहीं, नॉर्थ ईस्ट दिल्ली में पुलिस ने उपद्रवियों को देखते ही गोली मारने का आदेश जारी किया है। बता दें कि, नॉर्थ ईस्ट दिल्ली में नागरिकता संशोधन कानून को लेकर रविवार से ही हिंसा जारी है। रविवार से शुरू हुई हिंसा ने मंगलवार को भी जारी रही। वहीं, इस हिंसा में अब तक 10 लोगों ने अपनी जान गंवा दी है। इस हिंसा में ​एक हेड कांस्टेबल रतनलाल भी शहीद हो गए। जबकि 2 आईपीएस अफसरों समेत 56 पुलिसकर्मी जख्मी हैं। हिंसा की घटनाओं में करीब 200 लोग घायल हुए हैं। नॉर्थ ईस्ट दिल्ली में हालात तनावपूर्ण हैं, इलाके में बड़ी तादाद में पुलिस बल तैनात है। बता दें कि आज (मंगलवार) उपद्रवियों ने कई बरइकरें को आग के हवाले कर दिया। दिल्ली पुलिस के प्रवक्ता एम एस रंधावा ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर जानकारी दी कि अब हिंसा पर काबू पा लिया गया है। दिल्ली हिंसा में अब तक 10 लोगों की मौत हुई। उत्तर पूर्वी इलाके में हुई हिंसा में 150 लोग घायल हो गए है, इसमें 130 आम लोग भी शामिल हैं। हिंसा में दो आईपीएस अधिकारी और 56 पुलिसकर्मी घायल हुए हैं। साथ ही पुलिस ने अपील की है कि अफवाहों पर ध्यान ना दें। पुलिस ने कहा कि असमाजिक तत्वों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने बताया कि तंग गलियों की वजह से पुलिस को एक्शन लेने में दिक्कत आई। कुछ लोगों के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया गया है। हिंसाग्रस्त इलाके में ड्रोन से निगरानी रखी जा रही है। उन्होंने बताया कि हिंसाग्रस्त इलाके में धारा 144 लागू की जा चुकी है। हम जनता से अपील करते हैं कि कानून अपने हाथों में न लें।