1. हिन्दी समाचार
  2. मनोरंजन
  3. विवादों में घिरी Web Series ‘ग्रहण’ को बैन करने की मांग, भावनाएं आहत करने का आरोप

विवादों में घिरी Web Series ‘ग्रहण’ को बैन करने की मांग, भावनाएं आहत करने का आरोप

ओटीटी प्लेटफॉर्म डिज्नी प्लस हॉट स्टार पर वेब सीरीज ग्रहण 24 जून को स्ट्रीम होने वाली है। लेकिन सीरीज के रिलीज होने से पहले ही इस पर ग्रहण लगता दिख रहा है।  ट्विटर पर सीरीज को लेकर जबरदस्त हंगामा हो रहा है।

By अनूप कुमार 
Updated Date

नई दिल्ली :ओटीटी प्लेटफॉर्म डिज्नी प्लस हॉट स्टार पर वेब सीरीज ग्रहण 24 जून को स्ट्रीम होने वाली है। लेकिन सीरीज के रिलीज होने से पहले ही इस पर ग्रहण लगता दिख रहा है।
ट्विटर पर सीरीज को लेकर जबरदस्त हंगामा हो रहा है। बैन करने की मांग उठने लगी है। सिख समुदाय के लोग इस सीरीज का  विरोध कर रहे हैं और अपनी धार्मिक भावनाएं आहत करने का आरोप लगाते हुए बैन करने की मांग कर रहे हैं। शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी  की अध्यक्ष बीबी जागीर कौर ने मांग की है कि 1984 के दंगों की घटनाओं पर आधारित ‘ग्रहण’ वेब सीरीज को तुरंत प्रतिबंधित किया जाए। सीरीज सत्य व्यास के नोबेल ‘चौरासी’ पर आधारित है।

पढ़ें :- Navratri Special: विवादों के बीच माता रानी के रंग में रंगी नेहा कक्कड़, देखें तस्वीरें

 

 

‘ग्रहण’ सीरीज का ट्रेलर सामने आने के बाद से ही इस पर विवाद है। ट्रेलर में देश की पहली महिला प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी  की हत्या के बाद सिख दंगों की कहानी दिखाई गई है। इन दंगों की जांच कई सालों से चल रही है, लेकिन रिजल्ट नहीं निकला है। साल 2016 में रांची पुलिस आयुक्त आईपीएस ऑफिसर का किरदार निभा रही एक्ट्रेस जोया हुसैन को इसकी जांच के आदेश देती है। जोया हुसैन को जांच में पता चलता है कि, जिसकी वह तलाश कर रही हैं, वह कोई और नहीं उनके पिता है। उनके पिता का किरदार एक्टर पवन मल्होत्रा ने निभाया है।

पढ़ें :- Sonu Nigam Birthday Special: जब विवादों के कारण सोनू को होना पड़ा था केशलेस, मौलाना ने की थी फटे जूतों की माला पहनने की घोषणा

सीरीज को लेकर सोशल मीडिया पर यूजर्स का कहना है कि इससे सिखों की भावनाओं को आहत किया जा रहा है। वहीं, कुछ लोगों का कहना है कि सिखों को बदनाम करने की कोशिश की जा रही है। जबकि यूजर सेंसर बोर्ड से इसके अप्रूवल पर सवाल उठा रहे हैं। एक यूजर का कहना है कि सीरीज में दिखाया गया है कि इस नरसंहार के जिम्मेदार खुद सिख हैं।खुले तौर पर सिखों का अपमान है।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...