1. हिन्दी समाचार
  2. दिल्ली
  3. राहुल गांधी बोले- नोटबंदी, जीएसटी और नए कृषि कानून ‘ Indian Economy’ को करेंगे कमजोर

राहुल गांधी बोले- नोटबंदी, जीएसटी और नए कृषि कानून ‘ Indian Economy’ को करेंगे कमजोर

कांग्रेस (Congress) के पूर्व अध्यक्ष व वायनाड से सांसद राहुल गांधी (Rahul Gandhi)  केरल (Kerala) के तिरुवंबाडी (Thiruvambady, Kerala) पहुंचकर मंगलवार को मोदी सरकार पर बड़ा हमला बोला है। उन्होंने कहा कि भारतीय अर्थव्यवस्था के अनौपचारिक ढांचे को कमजोर करने के लिए नोटबंदी (Demonetisation), जीएसटी (GST) और अब कृषि कानून (Farm Laws ) तैयार किए गए हैं। इन कार्यों का परिणाम यह होगा कि भारत अपने युवाओं को रोजगार नहीं दे पाएगा। इसकी वजह से देश में बेरोजगारी (Unemployment) बढ़ेगी।

By संतोष सिंह 
Updated Date

नई दिल्ली। कांग्रेस (Congress) के पूर्व अध्यक्ष व वायनाड से सांसद राहुल गांधी (Rahul Gandhi)  केरल (Kerala) के तिरुवंबाडी (Thiruvambady, Kerala) पहुंचकर मंगलवार को मोदी सरकार पर बड़ा हमला बोला है। उन्होंने कहा कि भारतीय अर्थव्यवस्था (Indian economy) के अनौपचारिक ढांचे को कमजोर करने के लिए नोटबंदी (Demonetisation), जीएसटी (GST) और अब कृषि कानून (Farm Laws ) तैयार किए गए हैं। इन कार्यों का परिणाम यह होगा कि भारत अपने युवाओं को रोजगार नहीं दे पाएगा। इसकी वजह से देश में बेरोजगारी (unemployment) बढ़ेगी।

पढ़ें :- राहुल गांधी के करीबी हरीश चौधरी को बनाया गया पंजाब का प्रभारी, इन चुनौतियों का करना होगा सामना

राहुल गांधी ने कहा कि कृषि हमारे इतिहास (History), संस्कृति (Culture ) और विरासत (Heritage ) का एक आंतरिक हिस्सा है। उन्होंने कहा कि मैं किसानों और उनकी नवाचार (Innovate) करने की क्षमता में विश्वास करता हूं, लेकिन उनकी बुद्धिमत्ता (intelligence) , साधन संपन्नता (Resourcefulness), भावना के लिए एक समान खेल मैदान की आवश्यकता होती है। उन्होंने इस देश को बहुत कुछ दिया है।

इससे पहले सोमवार को वायनाड के सांसद राहुल गांधी (Wayanad MP Rahul Gandhi) ने कहा था कि ‘महात्मा गांधी (Mahatma Gandhi) की सबसे ताकतवर बात यह थी कि उन्होंने जो कुछ भी कहा, उसे अमल में लाया। इसलिए, अगर उन्होंने कहा कि भारत को एक सहिष्णु देश (Tolerant Country) होना चाहिए तो उन्होंने सहिष्णु तरीके से व्यवहार किया। अगर उन्होंने कहा कि भारत को अपनी महिलाओं के साथ सम्मान का व्यवहार करना चाहिए, तो उन्होंने महिलाओं के साथ सम्मान का व्यवहार किया।

कांग्रेस नेता ने कहा कि अगर गांधी जी ने कहा कि भारत एक धर्मनिरपेक्ष देश (India is a Secular Country) है, तो उन्होंने खुद एक धर्मनिरपेक्ष तरीके से व्यवहार(Behave in a Secular Manner) किया। उनके पास गीता, कुरान, बाइबिल और गुरु ग्रंथ साहिब उनके मार्गदर्शक थे। उन्होंने कहा कि ‘आज हमारे पास कई लोग हैं जो कहते हैं कि वे एक निष्पक्ष देश चाहते हैं और फिर वे दूसरों के साथ गलत व्यवहार करते हैं। वे कहते हैं कि वे एक ऐसा भारत चाहते हैं जो महिलाओं का सम्मान करता है और फिर वे खुद महिलाओं का अपमान करते हैं। राहुल गांधी ने कहा कि वे कहते हैं कि वे एक धर्मनिरपेक्ष राष्ट्र (Secular Nation)चाहते हैं , लेकिन वे खुद धर्मों को देखते हैं अलग तरह से।’ उन्होंने कहा कि मेरे लिए, मूर्ति व्यक्तित्व के बारे में अभ्यास के बारे में बहुत अधिक है।

पढ़ें :- Rahul Gandhi बोले- वाल्मीकि जी का संदेश प्यार और भाईचारे का था, आज उन्हीं की विचारधारा पर हो रहा है हमला
इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...