1. हिन्दी समाचार
  2. नोटबंदी गरीब-किसान-मजदूर पर था हमला, इससे सिर्फ हुआ अमीरों को फायदा : राहुल गांधी

नोटबंदी गरीब-किसान-मजदूर पर था हमला, इससे सिर्फ हुआ अमीरों को फायदा : राहुल गांधी

Demonetisation Was An Attack On The Poor Farmer Laborer It Only Benefited The Rich Rahul Gandhi

By शिव मौर्या 
Updated Date

नई दिल्ली। कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी लगातार मोदी सरकार पर हमलावर हैं। वह अर्थव्यवस्था के मुद्दे पर केंद्र सरकार को घेरने में जुटे हैं। गुरुवार को राहुल गांधी ने एक बार फिर मोदी सरकार पर हमला बोला है। इस पर उन्होंने वीडियो सीरीज का दूसरा हिस्सा जारी किया है। इसमें उन्होंने मोदी सरकार को नोटबंदी के मुद्दे पर घेरा है और कहा कि यह फैसला गरीबों के खिलाफ था। राहुल ने कहा कि नोटबंदी से केवल अमीरों को फायदा मिला है।

पढ़ें :- श्मशान घाट में महिलाएं करती हैं लाशों का अंतिम संस्कार, चिता जलाकर पाल रहीं हैं परिवार का पेट

राहुल ने कहा कि नोटबंदी हिंदुस्तान के गरीब-किसान-मजदूर पर आक्रमण था। आठ नवंबर की रात को आठ बजे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 500-1000 के नोट बंद कर दिए जिसके बाद पूरा देश बैंक के सामने जाकर खड़ा हो गया। राहुल गांधी ने पूछा है कि क्या नोटबंदी से काला धन मिटा? क्या लोगों को इससे फायदा हुआ? दोनों के ही जवाब नहीं है।

राहुल ने आरोप लगाया कि नोटबंदी से केवल अमीरों को फायदा मिला। राहुल गांधी ने वीडियो संदेश जारी करते हुए कहा कि, ‘मोदी जी का ‘कैश-मुक्त’ भारत दरअसल ‘मजदूर-किसान-छोटा व्यापारी’ मुक्त भारत है। जो पासा 8 नवंबर 2016 को फेंका गया था, उसका एक भयानक नतीजा 31 अगस्त 2020 को सामने आया। जीडीपी में गिरावट के अलावा नोटबंदी ने देश की असंगठित अर्थव्यवस्था को कैसे तोड़ा ये जानने के लिए मेरा वीडियो देखिए।’

वीडियो में राहुल ने कहा कि, पीएम ने 500-1000 के नोटों को रद्दी कर दिया। पूरा हिंदुस्तान बैंक के सामने खड़ा हो गया। आपने अपना पैसा, अपनी आमदनी बैंक के अंदर डाली। पहला सवाल काला धन मिटा? जवाब नहीं। दूसरा सवाल हिंदुस्तान की गरीब जनता को नोटबंदी से क्या फायदा मिला? जवाब कुछ नहीं।’

राहुल गांधी ने कहा कि नोटबंदी के बाद करीब 50 लाख लोगों ने नौकरी गंवाई। तो फायदा किसको मिला। फायदा हिंदुस्तान के सबसे बड़े अरबपतियों को मिला। कैसे? आपका जो पैसा था, आपकी जेब से, आपके घरों में से निकालकर उसका प्रयोग सरकार ने इन लोगों का कर्जा माफ करने में किया। 50 बड़े उद्योगपतियों का 68,607 करोड़ का कर्ज माफ किया गया। किसान, मजदूर, छोटे दुकानकारों के कर्ज का एक रुपये भी माफ नहीं किया गया।

पढ़ें :- बिहार चुनाव: पप्‍पू यादव ने बनाया थर्ड फ्रंट, उपेंद्र, चिराग और कांग्रेस को दिया न्‍योता

 

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे...