थमने का नाम नहीं ले रहा डेंगू का कहर, सिपाही सहित तीन की मौत

लखनऊ: राजधानी में डेंगू का कहर थमने का नाम नहीं ले रहा है। सिपाही समेत तीन और लोगों की डेंगू से मौत हो गई। मीडिया के अनुसार डेंगू से मरने वालों की संख्या अब तक 183 पहुंच गई, लेकिन सरकारी स्तर पर इसकी पुष्टि नहीं की जा रही है। सीएमओ ने बताया कि अब तक लखनऊ में एलाइजा जांच में 562 मरीजों में डेंगू की पुष्टि हुई है। एएसपी ट्रांस गोमती कार्यालय में तैनात सिपाही रमेश यादव (46) को तीन दिन पहले बुखार आया था। उन्हें निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया, जहां इलाज के दौरान रमेश की मौत हो गई। वहीं अजरुनगंज कुल्लीखेड़ा के अरदौनामऊ के रहने वाले विनोद कुमार शुक्ला (45) की भी डेंगू से मौत हो गई।



परिजनों ने बताया कि विनोद को तीन दिनों से बुखार आ रहा था, जिसका इलाज निजी अस्पताल में चल रहा था। वहीं जांच कराने पर डेंगू की पुष्टि हुई। हालत में सुधार न होता देख परिजनों ने मंगलवार को पीजीआई में भर्ती कराया, जहां इलाज के दौरान बुधवार सुबह विनोद ने दमतोड़ दिया। इसके अलावा तेजीखेड़ा के रहने वाले राहुल प्रजापति (22) को रविवार के तेज बुखार था। राहुल प्रजापति के भाई दीपक प्रजापति ने बताया कि बुखार आने पर पास के चिकित्सक को दिखाया तो, चिकित्सक ने कमर के नीचे इन्जेक्शन लगा दिया, जिससे राहुल की हालत गंभीर हो गई। जिस पर तेलीबाग स्थित निजी हास्पिटल में भर्ती कराया गया, जहां परिजनो ने आलमबाग स्थित एक पैथालॉजी में ब्लड जांच कराई तो ब्लड टेस्ट मे प्लेटलेट्स एक लाख सत्तर हजार थे।

जांच में डेंगू बताया गया। राहुल की हालत गंभीर हो गई और परिजनों ने राहुल को सोमवार ट्रामा सेंटर में भर्ती कराया जहां राहुल का इलाज के दौरान मौत हो गई। वहीं एएसपी ट्राफिक हबीबुल हसन समेत ट्राफिक लाइन के नौ सिपाहियों में सोमवार को डेंगू की पुष्टि हो चुकी है। इन सभी लोगों का इलाज अलग-अलग अस्पतालों में चल रहा है।