देवरिया जेल मामला: डिप्टी जेलर समेत चार जेलकर्मी सस्पेंड

atiq-dewaria-jail
देवरिया जेल मामला: डिप्टी जेलर समेत चार जेलकर्मी सस्पेंड

लखनऊ। यूपी की देवरिया जेल में बाहुबली पूर्व सांसद अतीक अहमद द्वारा कारोबारी को अगवा कराकर पीटने के मामले में बड़ी कार्रवाई की गयी है। जांच में दोषी पाये गए डिप्टी जेलर समेत चार जेल कर्मियों को सस्पेंड कर दिया गया है। वहीं देवरिया जेल के अधीक्षक दिलीप पांडेय और जेलर मुकेश कटियार के खिलाफ विभागीय कार्रवाई के साथ ही दूसरी जेल में तबादले के लिए शासन को प्रस्ताव भेज दिया गया है।

Deoria Jail In Atiq Ahmad Case Four Prisoners Suspended :

ये है पूरा मामला-

लखनऊ के आलमबाग इलाके के विशेश्वरनगर निवासी रियल एस्टेट कारोबारी मोहित जायसवाल से अतीक अहमद के गुर्गे काफी दिनों से रंगदारी वसूल रहे थे। मोहित का आरोप है कि अतीक के गुर्गे फारूक और जकी अहमद ने धमकाकर उनके गोमतीनगर स्थित रियल एस्टेट के कार्यालय पर कब्जा कर लिया था। इन लोगों ने मोहित और उनकी बहन आरती के डिजिटल हस्ताक्षर (डीएससी) भी करवा लिए थे।

आरोप है कि बुधवार को अतीक के एक गुर्गे ने उन्हीं की गाड़ी में अगवा कर लिया और देवरिया जेल में पूर्व सांसद के पास लेकर पहुंचा। जेल में पहले से अतीक का बेटा उमर, उसके गुर्गे जफरउल्लाह, गुलाब सरवर के अलावा 10-12 अज्ञात लोग मौजूद थे। आरोपितों ने मोहित की पिटाई की। इसमें उनके दाएं हाथ की उंगलियों की हड्डियां टूट गईं।

इसके बाद अतीक ने धमकाकर मोहित की कंपनी एमजे इंफ्रा हाउसिंग प्राइवेट लिमिटेड, एमजे इंफ्रा ग्रीन प्राइवेट लिमिटेड, एमजे इंफ्रा लैंड, एलएलपी और एमजे इंफ्रा एस्टेट प्राइवेट लिमिटेड को अपने गुर्गों फारूख और जकी अहमद के नाम ट्रांसफर करवा लिया। कंपनी के सादे लेटर हेड और कंपनियों से उनके रेजिग्नेशन लेटर पर भी दस्तखत करवा लिए।

धमकी से बुरी तरह सहमे मोहित ने उच्चाधिकारियों से गुहार लगाई। अतीक व उसके बेटे उमर और साथियों के खिलाफ संगीन धाराओं में प्राथमिकी दर्ज करके पुलिस टीम ने सिल्वर अपार्टमेंट में दबिश दी। वहां से सुल्तानपुर के गुलाम मुइनुद्दीन और प्रतापगढ़ के पट्टी थाने के कंजा सराय गुलामी निवासी इरफान को गिरफ्तार किया गया। अपार्टमेंट से मोहित की एसयूवी बरामद हुई।

लखनऊ। यूपी की देवरिया जेल में बाहुबली पूर्व सांसद अतीक अहमद द्वारा कारोबारी को अगवा कराकर पीटने के मामले में बड़ी कार्रवाई की गयी है। जांच में दोषी पाये गए डिप्टी जेलर समेत चार जेल कर्मियों को सस्पेंड कर दिया गया है। वहीं देवरिया जेल के अधीक्षक दिलीप पांडेय और जेलर मुकेश कटियार के खिलाफ विभागीय कार्रवाई के साथ ही दूसरी जेल में तबादले के लिए शासन को प्रस्ताव भेज दिया गया है।

ये है पूरा मामला-

लखनऊ के आलमबाग इलाके के विशेश्वरनगर निवासी रियल एस्टेट कारोबारी मोहित जायसवाल से अतीक अहमद के गुर्गे काफी दिनों से रंगदारी वसूल रहे थे। मोहित का आरोप है कि अतीक के गुर्गे फारूक और जकी अहमद ने धमकाकर उनके गोमतीनगर स्थित रियल एस्टेट के कार्यालय पर कब्जा कर लिया था। इन लोगों ने मोहित और उनकी बहन आरती के डिजिटल हस्ताक्षर (डीएससी) भी करवा लिए थे। आरोप है कि बुधवार को अतीक के एक गुर्गे ने उन्हीं की गाड़ी में अगवा कर लिया और देवरिया जेल में पूर्व सांसद के पास लेकर पहुंचा। जेल में पहले से अतीक का बेटा उमर, उसके गुर्गे जफरउल्लाह, गुलाब सरवर के अलावा 10-12 अज्ञात लोग मौजूद थे। आरोपितों ने मोहित की पिटाई की। इसमें उनके दाएं हाथ की उंगलियों की हड्डियां टूट गईं। इसके बाद अतीक ने धमकाकर मोहित की कंपनी एमजे इंफ्रा हाउसिंग प्राइवेट लिमिटेड, एमजे इंफ्रा ग्रीन प्राइवेट लिमिटेड, एमजे इंफ्रा लैंड, एलएलपी और एमजे इंफ्रा एस्टेट प्राइवेट लिमिटेड को अपने गुर्गों फारूख और जकी अहमद के नाम ट्रांसफर करवा लिया। कंपनी के सादे लेटर हेड और कंपनियों से उनके रेजिग्नेशन लेटर पर भी दस्तखत करवा लिए। धमकी से बुरी तरह सहमे मोहित ने उच्चाधिकारियों से गुहार लगाई। अतीक व उसके बेटे उमर और साथियों के खिलाफ संगीन धाराओं में प्राथमिकी दर्ज करके पुलिस टीम ने सिल्वर अपार्टमेंट में दबिश दी। वहां से सुल्तानपुर के गुलाम मुइनुद्दीन और प्रतापगढ़ के पट्टी थाने के कंजा सराय गुलामी निवासी इरफान को गिरफ्तार किया गया। अपार्टमेंट से मोहित की एसयूवी बरामद हुई।