डिप्टी सीएमओ डेढ़ लाख की रिश्वत लेते गिरफ्तार, निलंबित 

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के मेरठ जिले के उप मुख्य चिकित्साधिकारी (डिप्टी सीएमओ) को ढाई लाख रुपये रिश्वत लेते विजिलेंस विभाग की टीम ने रंगे हाथ गिरफ्तार किया है। अधिकारियों के मुताबिक मेरठ मंडलायुक्त के निर्देश पर डिप्टी सीएमओ के खिलाफ यह कार्रवाई की गई है। जिले के एक अधिकारी के मुताबिक, मेरठ में विजिलेंस की टीम ने बुधवार को सीएमओ कार्यालय में डिप्टी सीएमओ डॉ. अशोक निगम को ढाई लाख रुपये की रिश्वत लेते रंगे हाथ पकड़ लिया।

डॉ़ अशोक निगम एक नर्सिग होम के पंजीकरण के लिए यह रिश्वत ले रहे थे। उनको निलंबित कर दिया गया है। गिरफ्तार डॉ़ अशोक निगम से थाना सिविल लाइन में विजिलेंस की टीम पूछताछ कर रही है। रिपोर्ट दर्ज कराने की भी तैयारी चल रही है। विजिलेंस की जांच में डेढ़ लाख रुपये घूस लेते पकड़े गए डा़ अशोक निगम लंबे समय से मलाईदार पदों पर रहे हैं।

{ यह भी पढ़ें:- कांग्रेस की प्राथमिक सदस्यता से निलम्बित हुए मणिशंकर अय्यर, पीएम मोदी को बोला था 'नीच' }

मुजफ्फरनगर से 2012 में मेरठ आए डॉ़ निगम कुछ दिन तक भूड़बराल में नेत्र रोग विशेषज्ञ के रूप मे कार्यरत रहे, लेकिन बाद में एंटी क्वेकरी और रजिस्ट्रेशन सेल के प्रभारी बन गए। इन दोनों पदों पर रहने के दौरान उन पर कई आरोप भी लगे थे।

{ यह भी पढ़ें:- गोरखपुर कांड: पुष्पा सेल्स का मालिक मनीष भंडारी गिरफ्तार }

Loading...