यहां हैं पत्नियों द्वारा सताये गए पतियों के लिए आश्रम

यहां हैं पत्नियों द्वारा सताये गए पतियों के लिए आश्रम
यहां हैं पत्नियों द्वारा सताये गए पतियों के लिए आश्रम

Designed Here Persecution By Wives For Husbands

वैसे तो भारतीय नारी स्वच्छ, पतिव्रता और विश्वासी होती है। लेकिन आज समय बदल गया है। पत्नियां भी पति पर जुल्म करने लगी है। इसके चलते पति पत्नी से तंग आकर घर छोड़ देते है। ऐसे ही कुछ पत्नी पीड़ितों ने अन्य पत्नी पीड़ितों के लिए आश्रम खोला है। यह अनोखा आश्रम महाराष्ट्र के औरंगाबाद जिले में पत्नियों से पीड़ित कुछ पतियों ने खोला है।

यहां रह सकते है पीड़ित पति:

पत्नियों द्वारा प्रताड़ित हो चुके कई पति यहां पर रह रहे हैं। वहीं कानूनी लड़ाई लड़ने के लिए भी यह आश्रम उनकी मदद करता है। इस आश्रम में छत्तीसगढ़, गुजरात, कर्नाटक, आंध्र प्रदेश से भी लोग कानूनी सलाह लेने के लिए आते हैं। औरंगाबाद से 12 किलोमीटर दूर शिरडी-मुंबई हाईवे पर बसे इस आश्रम मे सलाह लेने वालों की संख्या आए दिन बढती जा रही है।

हर रोज की जाती है कौए की पूजा:

कार्यालय मे थर्माकोल से बना बडा कौआ सबका ध्यान खींचता है। हर रोज सुबह-शाम अगरबत्ती लगाकर उसकी पूजा की जाती है। आश्रम में रहने वालों ने बताया कि, मादा कौआ अंडा देकर उड़ जाती है लेकिन नर कौआ चूजों का पालन पोषण करता है। ऐसी ही कुछ स्थिति पत्नी पीडित पति की रहने से कौए की प्रतिमा का पूजन किया जाता।

आश्रम के नियम:

पत्नी की ओर से कम से कम 20 केस दाखिल होना जरूरी।

गुजारा भत्ता न चुकाने से जेल मे जाकर आया हुआ व्यक्ति यहां प्रवेश ले सकता है।

पत्नी द्वारा केस दाखिल करने के बाद जिसकी नौकरी गई ऐसा व्यक्ति यहां रह सकता है।

दूसरी शादी करने का विचार भी मन में न लाने वाले व्यक्ति को प्रवेश मिलेगा।

आश्रम मे रहने के बाद अपनी कौशल के अनुसार काम करना जरूरी।

वैसे तो भारतीय नारी स्वच्छ, पतिव्रता और विश्वासी होती है। लेकिन आज समय बदल गया है। पत्नियां भी पति पर जुल्म करने लगी है। इसके चलते पति पत्नी से तंग आकर घर छोड़ देते है। ऐसे ही कुछ पत्नी पीड़ितों ने अन्य पत्नी पीड़ितों के लिए आश्रम खोला है। यह अनोखा आश्रम महाराष्ट्र के औरंगाबाद जिले में पत्नियों से पीड़ित कुछ पतियों ने खोला है। यहां रह सकते है पीड़ित पति: पत्नियों द्वारा प्रताड़ित हो चुके कई पति यहां पर…