सावन के पावन महीने में भोलेनाथ के इन मंदिरों में करें भगवान शिव के दर्शन

सावन के पावन महीने में भोलेनाथ के इन मंदिरों में करें भगवान शिव के दर्शन
सावन के पावन महीने में भोलेनाथ के इन मंदिरों में करें भगवान शिव के दर्शन

लखनऊ।सावन के पावन महीने की शुरुआत कल से हो गई है। सावन के पूरे महीने शिव भक्त शकंर भोलेनाथ की पूजा अराधना करते हैं देशभर के शिव मंदिरों और शिवालयों में जाते हैं। चलिए आज हम आपको देशभर के भगवान शिव को समर्पित कुछ प्रसिद्ध मंदिरों के बारे में बताते हैं जहां आप सावन के महीने जाकर भगवान भोलेनाथ का दर्शन और सच्चे मन से पूजा आराधना कर उन्हे प्रसन्न कर सकते हैं….

Destinations To Travel During Sawan :

टपकेश्वर महादेव मंदिर, देहरादून

टपकेश्वर महादेव का मंदिर उत्तराखंड की राजधानी देहरादून से करीब 7 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। यह मंदिर पौराणिक काल का बताया जाता है। साथ ही महाभारत काल के महान योद्धा अश्वत्थामा से भी इस मंदिर का संबंध बताया जाता है।

तिलभांडेश्वर मंदिर, वाराणसी

वाराणसी और हरिद्वार को शिव की नगरी कहा जाता हैं। वाराणसी के तिलभांडेश्वर मंदिर की महिमा बहुत निराली है। यह स्वयंभू मंदिर है। धार्मिक आस्था है कि यह मंदिर हर साल एक तिल के आकार जितना बढ़ जाता है। इसलिए इसे तिलभांडेश्वर महादेव मंदिर के नाम से जाना जाता है।

नीलकंठ महादेव मंदिर, ऋषिकेष

उत्तराखंड के गढ़वाल क्षेत्र में स्थित है नीलकंठ महादेव का मंदिर। यही वह स्थान है, जहां भगवान शिव ने समुद्र मंथन में निकला विष धारण करने के बाद विश्राम किया। हलाहल विष पेट में न जाए, इसके लिए शिवजी ने उसे गले में ही रोक लिया, जिससे उनका गला नीला पड़ गया। इसी कारण यहां स्थित शिवलिंग को नीलकंठ महादेव के नाम से जाना जाता है।

भूतनाथ मंदिर

भगवान शिव को समर्पित बाबा भूतनाथ का मंदिर हिमाचल प्रदेश के मंडी शहर में स्थित है।

बैजनाथ मंदिर, हिमाचल प्रदेश

बैजनाथ महादेव का मंदिर हिमाचल प्रदेश के कांगड़ा में स्थित है। यह मंदिर एक पहाड़ी पर बना है, जो पालमपुर क्षेत्र के अंतर्गत आती है। इस मंदिर का निर्माण 13वीं शताब्दी में हुआ था, हालांकि इस मंदिर और यहां स्थित शिवलिंग की स्थापना त्रेतायुग की है।

लखनऊ।सावन के पावन महीने की शुरुआत कल से हो गई है। सावन के पूरे महीने शिव भक्त शकंर भोलेनाथ की पूजा अराधना करते हैं देशभर के शिव मंदिरों और शिवालयों में जाते हैं। चलिए आज हम आपको देशभर के भगवान शिव को समर्पित कुछ प्रसिद्ध मंदिरों के बारे में बताते हैं जहां आप सावन के महीने जाकर भगवान भोलेनाथ का दर्शन और सच्चे मन से पूजा आराधना कर उन्हे प्रसन्न कर सकते हैं.... टपकेश्वर महादेव मंदिर, देहरादून टपकेश्वर महादेव का मंदिर उत्तराखंड की राजधानी देहरादून से करीब 7 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। यह मंदिर पौराणिक काल का बताया जाता है। साथ ही महाभारत काल के महान योद्धा अश्वत्थामा से भी इस मंदिर का संबंध बताया जाता है। तिलभांडेश्वर मंदिर, वाराणसी वाराणसी और हरिद्वार को शिव की नगरी कहा जाता हैं। वाराणसी के तिलभांडेश्वर मंदिर की महिमा बहुत निराली है। यह स्वयंभू मंदिर है। धार्मिक आस्था है कि यह मंदिर हर साल एक तिल के आकार जितना बढ़ जाता है। इसलिए इसे तिलभांडेश्वर महादेव मंदिर के नाम से जाना जाता है। नीलकंठ महादेव मंदिर, ऋषिकेष उत्तराखंड के गढ़वाल क्षेत्र में स्थित है नीलकंठ महादेव का मंदिर। यही वह स्थान है, जहां भगवान शिव ने समुद्र मंथन में निकला विष धारण करने के बाद विश्राम किया। हलाहल विष पेट में न जाए, इसके लिए शिवजी ने उसे गले में ही रोक लिया, जिससे उनका गला नीला पड़ गया। इसी कारण यहां स्थित शिवलिंग को नीलकंठ महादेव के नाम से जाना जाता है। भूतनाथ मंदिर भगवान शिव को समर्पित बाबा भूतनाथ का मंदिर हिमाचल प्रदेश के मंडी शहर में स्थित है। बैजनाथ मंदिर, हिमाचल प्रदेश बैजनाथ महादेव का मंदिर हिमाचल प्रदेश के कांगड़ा में स्थित है। यह मंदिर एक पहाड़ी पर बना है, जो पालमपुर क्षेत्र के अंतर्गत आती है। इस मंदिर का निर्माण 13वीं शताब्दी में हुआ था, हालांकि इस मंदिर और यहां स्थित शिवलिंग की स्थापना त्रेतायुग की है।