Dev uthani Ekadashi 2018: इस दिन है देव उठनी एकादशी, जाने शुभ मुहूर्त

Dev uthani Ekadashi 2018: इस दिन है देव उठनी एकादशी, जाने शुभ मुहूर्त
Dev uthani Ekadashi 2018: इस दिन है देव उठनी एकादशी, जाने शुभ मुहूर्त

लखनऊ। कार्तिक महीने की शुक्ल पक्ष की एकादशी को प्रबोधिनी और देवउठनी एकादशी के नाम से जाना जाता है। इस बार यह 19 नवंबर को पड़ रहा है। मान्यताओं के अनुसार इस दिन भगवान विष्णु क्षीर सागर में चार महीने की निंद्रा के बाद जागते हैं। कार्तिक मास की एकादशी के दिन ही भगवान विष्णु जागते हैं और इसी के बाद से सभी तरह के शुभ और मांगलिक कार्य फिर से आरंभ हो जाते हैं। जाने देवोत्थान एकादशी व्रत के पारण मुहूर्त के बारे में…

Devutthana Ekadashi 2018 Date Time Shubh Muhurat :

देवोत्थान एकादशी का पारण मुहूर्त

20 नवम्बर को प्रातः 06 बजकर 48 मिनट जे 08 बजकर 56 मिनट तक
एकादाशी के पारण का बहुत महत्व है। इसीलिए इसी शुभ मुहूर्त में पारण करें।

भूल से भी ना करें ये काम

  • इस दिन घर में चावल नहीं बनना चाहिए।
  • घर का वतावरण सात्विक हो।
  • इस दिन प्रयास करना चाहिए कि घर के सभी लोग फलाहारी व्रत रहें। वृद्ध ,बालक तथा रोगी व्रत नहीं भी रख सकते हैं।
  • धूम्रपान या कोई भी नशा इस दिन कदापि मत करें।
  • जहां तक हो सके इस दिन सत्य बोलने का प्रयास करें।
लखनऊ। कार्तिक महीने की शुक्ल पक्ष की एकादशी को प्रबोधिनी और देवउठनी एकादशी के नाम से जाना जाता है। इस बार यह 19 नवंबर को पड़ रहा है। मान्यताओं के अनुसार इस दिन भगवान विष्णु क्षीर सागर में चार महीने की निंद्रा के बाद जागते हैं। कार्तिक मास की एकादशी के दिन ही भगवान विष्णु जागते हैं और इसी के बाद से सभी तरह के शुभ और मांगलिक कार्य फिर से आरंभ हो जाते हैं। जाने देवोत्थान एकादशी व्रत के पारण मुहूर्त के बारे में... देवोत्थान एकादशी का पारण मुहूर्त- 20 नवम्बर को प्रातः 06 बजकर 48 मिनट जे 08 बजकर 56 मिनट तक एकादाशी के पारण का बहुत महत्व है। इसीलिए इसी शुभ मुहूर्त में पारण करें। भूल से भी ना करें ये काम-
  • इस दिन घर में चावल नहीं बनना चाहिए।
  • घर का वतावरण सात्विक हो।
  • इस दिन प्रयास करना चाहिए कि घर के सभी लोग फलाहारी व्रत रहें। वृद्ध ,बालक तथा रोगी व्रत नहीं भी रख सकते हैं।
  • धूम्रपान या कोई भी नशा इस दिन कदापि मत करें।
  • जहां तक हो सके इस दिन सत्य बोलने का प्रयास करें।