क्या वाकई धोनी की यह आखिरी चैंपियंस ट्राफी होगी…

नई दिल्ली। भारत को कई खिताब दिलाने वाले विकेटकीपर बल्लेबाज और पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी को एक जून से इंग्लैंड में होने वाली आईसीसी चैंपियंस ट्राफी के लिए सोमवार को घोषित 15 सदस्यीय भारतीय टीम में शामिल किया गया है। लेकिन हालिया स्थिति देख कर यही कहा जा सकता है कि यह धोनी की आखिरी चैंपियंस सीरीज होगी।




दुनिया जानती है कि धोनी नाजुक परिस्थितियों में दुनिया के सर्वश्रेष्ठ फिनिशर हैं और पिछले 10-12 वर्षाें में धोनी ने विकेट के पीछे कभी खराब प्रदर्शन किया हो। गौरतलब है कि धोनी तीनों फार्मेट में कप्तानी छोड़ चुके हैं और वह सिर्फ सीमित प्रारूप में खिलाड़ी के तौर पर खेल रहे हैं। धोनी को टी 20-10 में पुणे की कप्तानी से भी हटा दिया गया था। इन सबसे अटकलें लगाई जा रही हैं कि धोनी आखिरी बार चैम्पियन ट्रॉफी खेल सकते हैं। धोनी ने घरेलू सत्र में झारखंड की कप्तानी की थी और विजय हजारे एकदिवसीय ट्राफी में अपनी टीम को सेमीफाइनल तक ले गए थे।



​​​​​​घरेलू सत्र और टी 20 में विकेटकीपर बल्लेबाज दिनेश कार्तिक और रिषभ पंत के शानदार प्रदर्शन को देखते हुए धोनी पर सवाल उठाए जा रहे थे लेकिन चयनकर्ताओं ने धोनी को प्राथमिकता दी और कार्तिक तथा पंत को 5 वैकल्पिक खिलाड़ियों में रखा। तेज गेंदबाज शमी ने अपना आखिरी वनडे 26 मार्च 2015 को सिडनी में आस्ट्रेलिया के खिलाफ खेला था। उसके बाद चोटों के कारण वह काफी समय टीम से बाहर रहे। 26 वर्षीय शमी 2015 विश्वकप में भारत के सर्वश्रेष्ठ गेंदबाज थे। पूरी तरह फिट होने के बाद वह बंगाल के लिये विजय हजारे ट्राफी और टी 20 में दिल्ली के लिए खेले। उन्हें चैंपियंस ट्राफी के लिए 5 तेज गेंदबाजों में रखा गया।