घर पर भूल गए हैं DL और RC के पेपर तो न हो परेशान, DigiLocker ऐप से हो जाएगा काम

DL , RC , DigiLocker
घर पर भूल गए हैं DL और RC के पेपर तो न हो परेशान, DigiLocker ऐप से हो जाएगा काम

नई दिल्ली। अपने निजी वाहन(बाइक या कार) से यात्रा करने वाले लोगों के लिए मोदी सरकार ने राहत की खबर दी है। दरअसल, अगर अब आपको यात्रा के दौरान अपने पास हमेशा ड्राइविंग लाइसेंस या फिर वाहन का रजिस्ट्रेशन सर्टिफिकेट रखने की जरूरत नहीं होगी। सभी की सुविधाओं को ध्यान में रखते हुए और डिजिटल इंडिया को बढ़ावा देने के लिए सरकार ने एक नई सेवा का ऐलान किया है। डिजिलॉकर या एम परिवहन (mParivahan) प्लेटफॉर्म्स को सेंटर ने ड्राइविंग लाइसेंस और वाहन के रजिस्ट्रेशन पेपर्स को इलेक्ट्रॉनिक फॉर्म में स्वीकार करने के लिए अनुमति दे दी है।

Digilocker Accepted As Valid Electronic Document :

इलेक्ट्रानिकली दिखाए जायेंगे डाक्यूमेंट्स

मिली जानकारी के मुताबिक अब डाक्यूमेंट्स eChallan(DigiLocker) सिस्टम के तहत दिखाये जा सकेंगे।

क्या है DigiLocker? कैसे होगा इस्तेमाल?

बता दें कि DigiLocker एक क्लाउट बेस्ड सेवा है, जिसे भारत सरकार ने नागरिकों के जरूरी दस्तावेजों जैसे कि सर्टिफिकेट्स, ड्राइविंग लाइसेंस, पासपोर्ट आदि के डिजिटल यानी कि ऑनलाइन कॉपी को सुरक्षित रखने के लिए शुरू की है। आप अपने डॉक्यूमेंट्स को लैपटॉप या ऐप (एंड्रॉइड और आईओएस) के जरिए भी DigiLocker में सेव कर सकते हैं। यह एक सुरक्षित, ऑनलाइन स्टोरेज है जिसमें आप अपने सभी सरकारी दस्तावेजों को डिजिटल रूप में सेव कर सकते हैं।

ऐसे अपलोड होंगे डॉक्यूमेंट्स—-

DigiLocker पर अपने डॉक्यूमेंट्स को अपलोड करने के लिए आपको बस अपलोड योर डॉक्यूमेंट्स पर क्लिक करना होगा। इसके बाद आप अपने डॉक्यूमेंट की तस्वीर jpg (ज्वॉइंट पिक्चर्स ग्रुप) या PNG (पोर्टेबल नेटवर्क ग्राफिक्स) फॉर्मेट में अपलोड कर सकते हैं। एक बार डॉक्यूमेंट अपलोड हो जाने के बाद आप इसका इस्तेमाल कहीं भी कर सकते हैं। आपको डॉक्यूमेंट को फिजिकली कैरी नहीं करना पड़ेगा।

नई दिल्ली। अपने निजी वाहन(बाइक या कार) से यात्रा करने वाले लोगों के लिए मोदी सरकार ने राहत की खबर दी है। दरअसल, अगर अब आपको यात्रा के दौरान अपने पास हमेशा ड्राइविंग लाइसेंस या फिर वाहन का रजिस्ट्रेशन सर्टिफिकेट रखने की जरूरत नहीं होगी। सभी की सुविधाओं को ध्यान में रखते हुए और डिजिटल इंडिया को बढ़ावा देने के लिए सरकार ने एक नई सेवा का ऐलान किया है। डिजिलॉकर या एम परिवहन (mParivahan) प्लेटफॉर्म्स को सेंटर ने ड्राइविंग लाइसेंस और वाहन के रजिस्ट्रेशन पेपर्स को इलेक्ट्रॉनिक फॉर्म में स्वीकार करने के लिए अनुमति दे दी है।इलेक्ट्रानिकली दिखाए जायेंगे डाक्यूमेंट्समिली जानकारी के मुताबिक अब डाक्यूमेंट्स eChallan(DigiLocker) सिस्टम के तहत दिखाये जा सकेंगे। क्या है DigiLocker? कैसे होगा इस्तेमाल?बता दें कि DigiLocker एक क्लाउट बेस्ड सेवा है, जिसे भारत सरकार ने नागरिकों के जरूरी दस्तावेजों जैसे कि सर्टिफिकेट्स, ड्राइविंग लाइसेंस, पासपोर्ट आदि के डिजिटल यानी कि ऑनलाइन कॉपी को सुरक्षित रखने के लिए शुरू की है। आप अपने डॉक्यूमेंट्स को लैपटॉप या ऐप (एंड्रॉइड और आईओएस) के जरिए भी DigiLocker में सेव कर सकते हैं। यह एक सुरक्षित, ऑनलाइन स्टोरेज है जिसमें आप अपने सभी सरकारी दस्तावेजों को डिजिटल रूप में सेव कर सकते हैं।ऐसे अपलोड होंगे डॉक्यूमेंट्स----DigiLocker पर अपने डॉक्यूमेंट्स को अपलोड करने के लिए आपको बस अपलोड योर डॉक्यूमेंट्स पर क्लिक करना होगा। इसके बाद आप अपने डॉक्यूमेंट की तस्वीर jpg (ज्वॉइंट पिक्चर्स ग्रुप) या PNG (पोर्टेबल नेटवर्क ग्राफिक्स) फॉर्मेट में अपलोड कर सकते हैं। एक बार डॉक्यूमेंट अपलोड हो जाने के बाद आप इसका इस्तेमाल कहीं भी कर सकते हैं। आपको डॉक्यूमेंट को फिजिकली कैरी नहीं करना पड़ेगा।