दिग्विजय बोले- पहले मोदी दिखाएं अपने माता-पिता का जन्म प्रमाणपत्र फिर हम दे देंगे सारे दस्तावेज

digvijay singh
दिग्विजय बोले- पहले मोदी दिखाएं अपने माता-पिता का जन्म प्रमाणपत्र फिर हम दे देंगे सारे दस्तावेज

इंदौर। कांग्रेस पार्टी के वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह अक्सर अपने विवादित बयानों के लिए जाने जाते हैं। जहां एक तरफ नागरिकता संशोधन कानून और राष्ट्रीय नागरिक पंजीकरण (एनआरसी) के खिलाफ लगातार देश में प्रदर्शन चल रहे, विपक्षी पार्टियां भी इस कानून का विरोध कर रही है। वहीं दिग्विजय सिंह ने कहा ​है कि अगर पीएम मोदी अपने माता पिता के जन्म प्रमाणपत्र दिखा दें तो हम भी अपने सारे दस्तावेज सरकार को दे देेंगे।

Digvijay Said First Show Modi Your Parents Birth Certificate Then We Will Give All The Documents :

एनआरसी को लेकर केंद्र सरकार पर हमला करते हुए दिग्विजय सिंह ने कहा कि अगर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अपने माता-पिता का जन्म प्रमाणपत्र दिखा देते हैं, तो देशवासी सरकार को अपने बारे में सारे दस्तावेज मुहैया कराने को तैयार हैं।

वहीं दिग्विजय सिंह ने ट्वीट करते हुए कहा कि “नाइक ने वीडियो के जरिये बयान दिया है कि सितंबर 2019 में उनके पास मोदी और (गृह मंत्री) अमित शाह का एक दूत भेजा गया था जिसने उनसे कहा था कि अगर वह जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाये जाने के भारत सरकार के कदम का समर्थन करते हैं, तो सरकार उनके खिलाफ दर्ज मामले वापस ले लेगी और वह भारत लौट सकते हैं।”

दिग्विजय ने कहा, “जिस जाकिर नाइक को मोदी और शाह ने देशद्रोही करार दिया है, अगर वही शख्स इस तरह का बयान दे रहा है तो उन्हें इसका खंडन करना चाहिये। मेरा प्रश्न है कि प्रधानमंत्री और गृह मंत्री की ओर से नाइक के इस बयान का आज तक खंडन क्यों नहीं किया गया?”

इंदौर। कांग्रेस पार्टी के वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह अक्सर अपने विवादित बयानों के लिए जाने जाते हैं। जहां एक तरफ नागरिकता संशोधन कानून और राष्ट्रीय नागरिक पंजीकरण (एनआरसी) के खिलाफ लगातार देश में प्रदर्शन चल रहे, विपक्षी पार्टियां भी इस कानून का विरोध कर रही है। वहीं दिग्विजय सिंह ने कहा ​है कि अगर पीएम मोदी अपने माता पिता के जन्म प्रमाणपत्र दिखा दें तो हम भी अपने सारे दस्तावेज सरकार को दे देेंगे। एनआरसी को लेकर केंद्र सरकार पर हमला करते हुए दिग्विजय सिंह ने कहा कि अगर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अपने माता-पिता का जन्म प्रमाणपत्र दिखा देते हैं, तो देशवासी सरकार को अपने बारे में सारे दस्तावेज मुहैया कराने को तैयार हैं। वहीं दिग्विजय सिंह ने ट्वीट करते हुए कहा कि "नाइक ने वीडियो के जरिये बयान दिया है कि सितंबर 2019 में उनके पास मोदी और (गृह मंत्री) अमित शाह का एक दूत भेजा गया था जिसने उनसे कहा था कि अगर वह जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाये जाने के भारत सरकार के कदम का समर्थन करते हैं, तो सरकार उनके खिलाफ दर्ज मामले वापस ले लेगी और वह भारत लौट सकते हैं।" दिग्विजय ने कहा, "जिस जाकिर नाइक को मोदी और शाह ने देशद्रोही करार दिया है, अगर वही शख्स इस तरह का बयान दे रहा है तो उन्हें इसका खंडन करना चाहिये। मेरा प्रश्न है कि प्रधानमंत्री और गृह मंत्री की ओर से नाइक के इस बयान का आज तक खंडन क्यों नहीं किया गया?"