बीजेपी पर बरसे दिग्विजय सिंह, कहा भगवा वस्त्र पहनकर हो रहे हैं बलात्कार

digvijay singh
बीजेपी पर बसरे दिग्विजय सिंह, कहा भगवा वस्त्र पहनकर हो रहे हैं बलात्कार

नई दिल्ली। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता व पार्टी के महासचिव दिग्विजय सिंह ने मंगलवार को भारतीय जनता पार्टी के नेताओं पर जमकर निशाना साधा। उन्होने कहा कि भगवा वस्त्र पहनकर लोग चूरन बेच रहे हैं, यहीं नहीं भगवा वस्त्र पहनकर बलात्कार हो रहे हैं। मंदिरों में बलात्कार की घटनाएं हो रही हैं। उन्होंने पूछा क्या यही हमारा धर्म है। कांग्रेस नेता ने कहा कि जिन्होंने हमारे सनातन धर्म को बदनाम किया है, उन्हें ईश्वर भी माफ नहीं करेगा।

Digvijay Singh Attacks On Bjp Says Rape Is Being Done Wearing Saffron Clothes :

बता दें कि इससे पहले कांग्रेस नेता ने बीजेपी और बजरंग दल पर पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई से पैसा लेने का आरोप लगाया था, जिसके बाद जमकर हंगामा हुआ था। चौतरफा शेयर किए गए एक वीडियो में उन्हें यह कहते हुए सुना जा सकता था कि मुस्लिम से ज्यादा गैर-मुस्लिम आईएसआई के लिए जासूसी करते हैं।

उसके बाद उन्होंने ट्विटर का सहारा लेते हुए अपने पहले के बयान पर स्पष्टीकरण देते हुए लिखा- ‘कुछ चैनल यह बता रहे हैं कि मैनें बीजेपी पर आईएसआईआई से पैसा लेने का आरोप लगाया है। यह पूरी तरह से गलत है।’

नई दिल्ली। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता व पार्टी के महासचिव दिग्विजय सिंह ने मंगलवार को भारतीय जनता पार्टी के नेताओं पर जमकर निशाना साधा। उन्होने कहा कि भगवा वस्त्र पहनकर लोग चूरन बेच रहे हैं, यहीं नहीं भगवा वस्त्र पहनकर बलात्कार हो रहे हैं। मंदिरों में बलात्कार की घटनाएं हो रही हैं। उन्होंने पूछा क्या यही हमारा धर्म है। कांग्रेस नेता ने कहा कि जिन्होंने हमारे सनातन धर्म को बदनाम किया है, उन्हें ईश्वर भी माफ नहीं करेगा। बता दें कि इससे पहले कांग्रेस नेता ने बीजेपी और बजरंग दल पर पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई से पैसा लेने का आरोप लगाया था, जिसके बाद जमकर हंगामा हुआ था। चौतरफा शेयर किए गए एक वीडियो में उन्हें यह कहते हुए सुना जा सकता था कि मुस्लिम से ज्यादा गैर-मुस्लिम आईएसआई के लिए जासूसी करते हैं। उसके बाद उन्होंने ट्विटर का सहारा लेते हुए अपने पहले के बयान पर स्पष्टीकरण देते हुए लिखा- 'कुछ चैनल यह बता रहे हैं कि मैनें बीजेपी पर आईएसआईआई से पैसा लेने का आरोप लगाया है। यह पूरी तरह से गलत है।'