1. हिन्दी समाचार
  2. ख़बरें जरा हटके
  3. रोचक जानकारी: हर ब्‍लड ग्रुप वाले व्‍यक्तियों की सोच और समझ का खुलासा, जानिए आपका क्या कहता है

रोचक जानकारी: हर ब्‍लड ग्रुप वाले व्‍यक्तियों की सोच और समझ का खुलासा, जानिए आपका क्या कहता है

By टीम पर्दाफाश 
Updated Date

लखनऊ: सबसे पहले 1901 में ब्‍लड ग्रुप की जानकारी हुई, उसके बाद से इसे लेकर कई रोचक और दिलचस्‍प शोध भी होते रहे हैं। इससे जुड़े कुछ दिलचस्‍प शोध के बारे में जाने।

पढ़ें :- सर्दियों के मौसम का सबसे अच्छा आनंद लेने के लिए भारत में घूमने के लिए 10 प्रमुख जगहें

A+ ए पॉजिटिव
जिन लोगों का ब्‍ल्‍ड ग्रुप ए पॉजिटिव होता है उनमें अच्छे लीडर के गुण होते है। तथा उनमें अच्‍छी नेतृत्‍व क्षमता देखी जाती है। वे सबको साथ लेकर चलने और सबका व‍िश्‍वास हासिल करने में यकीन रखते हैं।

A- ए निगेटिव
ए निगेटिव रक्‍त समूह वाले लोगों को मेहनती माना जाता है। कठिन और लगातार काम करने में भी इनको कोई परहेज नहीं है। ये लोग मानते हैं कि मेहनत से हर काम सफल होता है।

AB+ एबी पॉजिटिव
इस रक्‍त समूह वाले लोग को आसानी से समझा नहीं जा सकता है। ऐसे लोगों को समझना बहुत मुश्किल होता है। क्‍योंकि उनकी प्र‍कृति कभी भी एक जैसी नहीं होती है।

AB- एबी निगेटिव
एबी निगेटिव रक्‍त समूह वाले लोगों का दिमाग बहुत तेज चलता है, इन लोगों को बहुत बुद्धिमान माना जाता है। इनका दिमाग उन सब बातों को समझ लेता है, जिन्‍हें आमतौर पर लोग नजरअंदाज कर देते हैं।

पढ़ें :- सही खाने के लिए गाइड: डिटॉक्स जूस के बारे में सच्चाई - अधिक सनक, कम पोषण

O+ ओ पॉजिटिव
ओ पॉजिटिव ब्‍लड ग्रुप के लोगों के लिए यह माना जाता है कि वे पैदा ही हुए हैं लोगों की मदद करने के लिए। ऐसे लोग दूसरों की मदद करने में पीछे नही हटते और अपना जीवन दूसरों की सहायता में भी बिता सकते हैं।

O- ओ निगेटिव
इस रक्‍त समूह के लोगों की सोच ही संकरी होती है। ओ निगेटिव ब्‍लड ग्रुप वाले लोग दूसरों के बारे में अधिक सोचते नहीं, क्‍योंकि इनके दिमाग में खुद के अलावा किसी दूसरे के लिए खयाल नहीं आता। ये लोग नये विचारों को आसानी से स्‍वीकार नहीं करते।

B+ बी पॉजिटिव
ऐसे लोगों का दिल दूसरों के लिए दरिया की तरह होता है। इस रक्‍त समूह वाले लोग दूसरों की मदद करने में पीछे नहीं हटते और दूसरों के लिए बलिदान भी दे सकते हैं। इन लोगों के लिए रिश्‍ते बहुत मायने रखते हैं।

B- बी निगेटिव
इस रक्‍त समूह वाले लोगों की प्रवृत्ति ठीक नहीं मानी जाती है। ऐसे लोग स्‍वार्थी होते हैं और दूसरों से ज्‍यादा खुद के बारे में सोचते हैं। ऐसे लोग किसी की सहायता करने में भी विश्‍वास नहीं रखते हैं।

पढ़ें :- यहां बताया गया है कि आप एक संपूर्ण बाजरा पराठा कैसे बना सकते हैं
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...