1. हिन्दी समाचार
  2. देश
  3. परीक्षा पर चर्चा: पीएम मोदी ने ​छात्रों को दिए कई महत्वपूर्ण टिप्स, जानिए अहम बातें…

परीक्षा पर चर्चा: पीएम मोदी ने ​छात्रों को दिए कई महत्वपूर्ण टिप्स, जानिए अहम बातें…

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी छात्रों से अक्सर बातचीत करके उनका मनोबल बढ़ाते रहते हैं। इस पर उन्होंने 'परीक्षा पर चर्चा' कार्यक्रम के तहत छात्रों, शिक्षकों और अभिभावकों के साथ संवाद कर रहे हैं। पीएम ने कहा कि कोरोना संकट के कारण इस बार वर्चुअल के जरिए बातचीत करनी पड़ रही है। उन्होंने कहा कि परीक्षा को लेकर डरना नहीं चाहिए। परीक्षा हर साल होती है।

By शिव मौर्या 
Updated Date

Discussion On Exam Pm Modi Gave Many Important Tips To Students Know Important Things

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी छात्रों से अक्सर बातचीत करके उनका मनोबल बढ़ाते रहते हैं। इस पर उन्होंने ‘परीक्षा पर चर्चा’ कार्यक्रम के तहत छात्रों, शिक्षकों और अभिभावकों के साथ संवाद कर रहे हैं। पीएम ने कहा कि कोरोना संकट के कारण इस बार वर्चुअल के जरिए बातचीत करनी पड़ रही है। उन्होंने कहा कि परीक्षा को लेकर डरना नहीं चाहिए। परीक्षा हर साल होती है।

पढ़ें :- गृह मंत्रालय ने ऑक्सीजन सप्लाई का दिया आदेश, गंभीर मरीजों को मिलेगी 'नई जिंदगी'

छात्रों के लिए दबाव का माहौल नहीं बनाना चाहिए। बच्चों को घर में तनावमुक्त माहौल में जीना चाहिए। बता दें कि, देश भर के स्कूलों में सीनियर कक्षाओं 9वीं से लेकर 12वीं तक के छात्रों के लिए आयोजित होने वाली वार्षिक एवं बोर्ड परीक्षाओं को लेकर होने वाले तनाव को लेकर प्रधानमंत्री ने कई महत्वपूर्ण टिप्स दिये हैं। पीएम ने कहा कि छात्र कभी यह नहीं सोचें कि वह चीजों को भूल जाते हैं।

पढ़ें :- गोरखपुर : बीजेपी विधायक ने वैक्सीन की कीमतों पर उठाया सवाल, बोले - तुम तो डकैतों से भी बदतर हो

याद करने की बजाय जीने की कोशिश करें। चीजों को सहजता और सरलता के साथ लें। क्षण में इनवोल्व हों। पढ़ाई के दौरान वहीं मन होना भी चाहिए, खेल के मैदान में नहीं। विजुअलाइज करें। पीएम ने कहा कि, जब घर से निकलें तो याद रखें कि बैग में तीसरे या पांचवें नंबर पर कौन सी किताबें रखीं हैं। जो किताब जब चाहिए, उस वक्त वही निकालें।

इससे चीजों को याद रखने का आपका आत्मविश्वास बढ़ जाएगा। इसके साथ ही पीएम मोदी ने कहा कि सपने देखना अच्छी बात है, लेकिन सपने को लेकर के बैठे रहना और सपनों के लिए सोते रहना ये तो सही नहीं है।

सपनों से आगे बढ़कर, अपने सपनों को पाने का संकल्प ये बहुत महत्वपूर्ण है। वो बातें जिनसे आप पूरी तरह से जुड़ गए हैं, मग्न हो गए हैं, वो बातें जो आपका हिस्सा बन गई हैं, आपके विचार प्रवाह का हिस्सा बन गई हैं। उन्हें आप कभी भूलते नहीं हैं। दूसरे शब्दों में कहूं तो ये मेमोराइज नहीं हैं, एक्चुली ये इंटरनलाइज है।

 

पढ़ें :- सुप्रीम कोर्ट ने मोदी सरकार से कोविड कंट्रोल करने का मांगा नेशनल प्लान, भेजा नोटिस

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...
X