1. हिन्दी समाचार
  2. स्मार्ट फोन जितना समय चोरी करता है उसका 10 प्रतिशत अपने माता-पिता और दादा-दादी के साथ बिताएं : पीएम

स्मार्ट फोन जितना समय चोरी करता है उसका 10 प्रतिशत अपने माता-पिता और दादा-दादी के साथ बिताएं : पीएम

Discussion On Pm Modis Exam With Students Said I Am Part Of Your Friend And Family

By शिव मौर्या 
Updated Date

नई दिल्ली। परीक्षा पे चर्चा कार्यक्रम का यह तीसरा संस्करण तालकटोरा स्टेडियम में आयोजित किया गया है। इस कार्यक्रम में देश-विदेश के छात्र हिस्सा लिए हैं। इस कार्यक्रम के माध्यम से छात्र परीक्षा को लेकर अपने सीधे सवाल प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से पूछ सकते हैं। पीएम मोदी यहां पर बच्चों से सीधा संवाद कर रहे हैं। मंच पर आते ही पीएम मोदी ने कहा ‘नमस्ते, एक बार फिर से आपका दोस्त आपके बीच है।’

पढ़ें :- Birthday special: कॉमेडियन के तौर पर जावेद ने बनाई थी अपनी पहचान, ऐसे शुरू कर दी राजनीति

उन्होंने कहा कि 2020 के शुरू होते ही नया दशक शुरू हो रहा है। पीएम ने कहा कि अगर कोई मुझे कहे कि इतने कार्यक्रमों के बीच वो कौन सा कार्यक्रम है जो आपके दिल के सबसे करीब है, तो मैं कहूंगा वो कार्यक्रम है परीक्षा पे चर्चा। युवा मन क्या सोचता है, क्या करना चाहता है, ये सब मैं भली-भांति समझ पाता हूं।

पीएम ने कहा कि, जैसे आपके माता-पिता के मन में 10वीं, 12वीं को लेकर टेंशन रहती है, तो मुझे लगा आपके माता-पिता का भी बोझ मुझे हल्का करना चाहिए। मैं भी आपके परिवार का सदस्य हूं, तो मैंने समझा कि मैं भी सामूहिक रूप से ये जिम्मेदारी निभाऊं।

छात्रों को संबोधित करते हुए पीएम ने कहा कि क्या कभी हमने सोचा है कि Mood off क्यों होता है? अपने कारण से या बाहर के किसी कारण से। अधिकतर आपने देखा होगा कि जब Mood off होता है, तो उसका कारण ज्यादातर बाह्य होते हैं।

पीएम ने कहा कि हम विफलताओं मैं भी सफलता की शिक्षा पा सकते हैं। हर प्रयास में हम उत्साह भर सकते हैं और किसी चीज में आप विफल हो गए तो उसका मतलब है कि अब आप सफलता की ओर चल पड़े हो।

पढ़ें :- भारतीय नौसेना निडर होकर हमारे तटों की रक्षा करती है : पीएम मोदी

पीएम ने कहा कि, जाने अनजाने में हम लोग उस दिशा में चल पड़े हैं जिसमें सफलता -विफलता का मुख्य बिंदु कुछ विशेष परीक्षाओं के मार्क्स बन गए हैं। उसके कारण मन भी उस बात पर रहता है कि बाकी सब बाद में करूंगा, एक बार मार्क्स ले आऊं। उन्होंने कहा कि, सिर्फ परीक्षा के अंक जिंदगी नहीं हैं। कोई एक परीक्षा पूरी जिंदगी नहीं है। ये एक महत्वपूर्ण पड़ाव है। लेकिन यही सब कुछ है, ऐसा नहीं मानना चाहिए। मैं माता-पिता से भी आग्रह करूंगा कि बच्चों से ऐसी बातें न करें कि परीक्षा ही सब कुछ है।

पीएम ने छात्रों से कहा कि 2020 सिर्फ नया वर्ष नहीं है, ये नया दशक भी है। ये दशक आपके लिए जितना महत्वपूर्ण है, उतना ही देश के लिए भी बहुत महत्वपूर्ण है। इस दशक में देश जो भी करेगा, उसमें इस समय 10वीं, 12वीं के विद्यार्थी हैं, उनका बहुत योगदान रहेगा। उन्होंने कहा कि पिछली शताब्दी के आखरी कालखंड और इस शताब्दी के आरंभ कालखंड में विज्ञान और तकनीक ने जीवन को बदल दिया है।

इसलिए तकनीक का भय कतई अपने जीवन में आने नहीं देना चाहिए। तकनीक को हम अपना दोस्त माने, बदलती तकनीक की हम पहले से जानकारी जुटाएं, ये जरूरी है। पीएम ने कहा कि स्मार्ट फोन जितना समय आपका समय चोरी करता है, उसमें से 10 प्रतिशत कम करके आप अपने मां, बाप, दादा, दादी के साथ बिताएं। तकनीक हमें खींचकर ले जाए, उससे हमें बचकर रहना चाहिए।

हमारे अंदर ये भावना होनी चाहिए कि मैं तकनीक को अपनी मर्जी से उपयोग करूंगा। उन्होंने कहा कि आज की पीढ़ी घर से ही गूगल से बात करके ये जान लेती है कि उसकी ट्रेन समय पर है या नहीं। नई पीढ़ी वो है जो किसी और से पूछने के बजाए, तकनीक की मदद से जानकारी जुटा लेती है। इसका मतलब कि उसे तकनीक का उपयोग क्या होना चाहिए, ये पता लग गया।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे...