पाकिस्तान का दो टूक, भारत चाहे तो रोंक ले पानी, हमे कोई फर्क नहीं पड़ता

river water
पाकिस्तान का दो टूक, भारत चाहे तो रोंक ले पानी, हमे कोई फर्क नहीं पड़ता

नई दिल्ली। जम्मू—कश्मीर के पुलवामा में हुए आतंकी हमले के बाद भारत और पाकिस्तान की तरफ से लगातार बयानबाजी की जा रही है। इस बीच भारत ने पाकिस्तान में जाने वाले ​नदियों के पानी को रोंकने की धमकी दी तो पाकिस्तान ने भी दो टूक जवाब दे दिया। उसने कहा कि भारत चाहे तो अपना पानी रोंक ले, हमें कोई फर्क नहीं पड़ता। बता दें कि भारत की धमकी के बाद पाकिस्तान जल संसाधन मंत्रालय के सचिव ख्वाजा शुमैल ने ये बयान दिया है।

Diverting Water Of River From India Will Not Effect Pakistan Says Khwaza Shumail :

एक पाकिस्तानी अखबार को दिए साक्षात्कार में ख्वाजा शुमैल ने कहा कि अगर भारत पूर्वी नदियों का पानी रोंकता है तो उसका पाकिस्तान पर कोई असर नहीं पड़ेगा। बता दें कि ये नदियां सिंधु समझौते के तहत भारत के अधिकार में आती है।
साथ में उन्होने ये भी कहा कि यदि भारत तीनों नदियों के पानी को डाइवर्ट करके अपने लोगों के लिए इस्तेमाल करता है तो इसमें पाकिस्तान कोई आ​पत्ति नहीं करेगा। सिंधु जल समझौते के तहत रवि, सतलुज और ब्यास के पानी पर भारत का अधिकार है।

बता दें कि केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने कहा था कि इन तीनों नदियों का पानी डायवर्ट कर यमुना में लाया जाएगा। ये पानी अभी तक पाकिस्तान में जा रहा था। पानी को डायवर्ट करने से जम्मू- कश्मीर, पंजाब, हरियाणा समेत कई राज्यों में सिंचाई के लिए पानी मिलेगा और किसान कई किस्म की फसल उगा सकेंगे। उन्होने कहा कि इस दिशा में काम भी शुरु हो चुका है।

नई दिल्ली। जम्मू—कश्मीर के पुलवामा में हुए आतंकी हमले के बाद भारत और पाकिस्तान की तरफ से लगातार बयानबाजी की जा रही है। इस बीच भारत ने पाकिस्तान में जाने वाले ​नदियों के पानी को रोंकने की धमकी दी तो पाकिस्तान ने भी दो टूक जवाब दे दिया। उसने कहा कि भारत चाहे तो अपना पानी रोंक ले, हमें कोई फर्क नहीं पड़ता। बता दें कि भारत की धमकी के बाद पाकिस्तान जल संसाधन मंत्रालय के सचिव ख्वाजा शुमैल ने ये बयान दिया है। एक पाकिस्तानी अखबार को दिए साक्षात्कार में ख्वाजा शुमैल ने कहा कि अगर भारत पूर्वी नदियों का पानी रोंकता है तो उसका पाकिस्तान पर कोई असर नहीं पड़ेगा। बता दें कि ये नदियां सिंधु समझौते के तहत भारत के अधिकार में आती है। साथ में उन्होने ये भी कहा कि यदि भारत तीनों नदियों के पानी को डाइवर्ट करके अपने लोगों के लिए इस्तेमाल करता है तो इसमें पाकिस्तान कोई आ​पत्ति नहीं करेगा। सिंधु जल समझौते के तहत रवि, सतलुज और ब्यास के पानी पर भारत का अधिकार है। बता दें कि केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने कहा था कि इन तीनों नदियों का पानी डायवर्ट कर यमुना में लाया जाएगा। ये पानी अभी तक पाकिस्तान में जा रहा था। पानी को डायवर्ट करने से जम्मू- कश्मीर, पंजाब, हरियाणा समेत कई राज्यों में सिंचाई के लिए पानी मिलेगा और किसान कई किस्म की फसल उगा सकेंगे। उन्होने कहा कि इस दिशा में काम भी शुरु हो चुका है।