1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तर प्रदेश
  3. Lucknow : मण्डलायुक्त डॉ. रोशन जैकब ने क्वीन मेरी अस्पताल का किया औचक निरीक्षण

Lucknow : मण्डलायुक्त डॉ. रोशन जैकब ने क्वीन मेरी अस्पताल का किया औचक निरीक्षण

मण्डलायुक्त डॉ. रोशन जैकब ने शुक्रवार को क्वीन मेरी अस्पताल का औचक निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान मंडलायुक्त ने सर्वप्रथम ओपीडी रजिस्ट्रेशन काउन्टर पर लाइन में लगे लोगों से संवाद किया गया और पूछा गया कि रजिस्ट्रेशन काउंटर पर पर्ची कटाने में किसी प्रकार की समस्या तो नही हो रही हैं। उपस्थित लोगों ने बताया कि पर्ची कटाने में कोई असुविधा नहीं हो रही है।

By संतोष सिंह 
Updated Date

लखनऊ । मण्डलायुक्त डॉ. रोशन जैकब ने शुक्रवार को क्वीन मेरी अस्पताल का औचक निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान मंडलायुक्त ने सर्वप्रथम ओपीडी रजिस्ट्रेशन काउन्टर पर लाइन में लगे लोगों से संवाद किया गया और पूछा गया कि रजिस्ट्रेशन काउंटर पर पर्ची कटाने में किसी प्रकार की समस्या तो नही हो रही हैं। उपस्थित लोगों ने बताया कि पर्ची कटाने में कोई असुविधा नहीं हो रही है।

पढ़ें :- यूपी में  अब छह घंटे चलेंगे मदरसे, दुआ और राष्ट्रगान से होगी शुरुआत

उक्त के बाद मंडलायुक्त ने लेबर वार्ड का निरीक्षण किया गया है। निरीक्षण के दौरान मण्डलायुक्त ने गर्भवती महिलाओं से उनके स्वास्थ्य के बारे में जानकारी ली और उनको उपलब्ध कराए जा रहे उपचार का जायज़ा भी लिया। मण्डलायुक्त ने लेबर वार्ड में भर्ती महिलाओं से पूछा गया कि सभी दवाईयां  ससमय अस्पताल से उपलब्ध कराई जा रही हैं या बाहर से मगाई जा रही हैं । मरीजों ने बताया कि कुछ दवाईयां बाहर से खरीदनी पड़ रही हैं। मण्डलायुक्त ने इस पर नाराजगी वक्त करते हुए सम्बंधित अधिकारी को सख्त निर्देश देते हुए कहा कि मरीजों के लिए दवाईयों की उपलब्धता में कोई कमी न हो ,नहीं तो सम्बंधित अधिकारी के खिलाफ  सख्त कारवाई की जायेगी।

उन्होंने कहा कि दवाइयों की उपलब्धता अस्पताल में शत-प्रतिशत सुनिश्चित कराया जाये। मंडलायुक्त ने वार्डाे के निरीक्षण के दौरान साफ-सफाई को लेकर नाराजगी जताई, उन्होंने कहा कि साफ -सफाई पर विशेष ध्यान दिया जाये और उन्होंने संबंधित अधिकारी को निर्देश दिया कि सफाई कर्मचारी की ड्यूटी  शिफ्टवार नियमित रूप से  लगाना सुनिश्चित किया जाये।

उक्त के पश्चात मण्डलायुक्त को संबंधित अधिकारी ने बताया कि वार्ड के नर्साे के ने खत्म हुई दवाइयों के बारे में समय से न बताने के कारण दवाइयों के डिमांड समय से नही हो पा रहा है इसलिये मरीजों को सभी प्रकार की दवाईयो की उपलब्धता समय से नही हो पाती हैं।  मंडलायुक्त ने कहा कि वरिष्ठ अधिकारियों ने इसकी विस्तृत समीक्षा की जाएगी और जिसके स्तर से लापरवाही  मिलती है। उसके खिलाफ दंडात्मक कार्रवाई की जायेगी। और साथ ही साथ जिन डाक्टरों और नर्सों के द्वारा मरीजों से बाहर की दवाइयां लाने के लिये पर्ची लिखी गई है और वो दवाईयां अस्पताल में है । उनका स्पष्टीकरण जारी करने के निर्देश दिए गये।

पढ़ें :- लखनऊ में तालाब में गिरी ट्रैक्टर-ट्राली में अभी तक 10 की मौत, पूरे मामले पर DM का बयान
इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...