बक्सर के डीएम ने गाजियाबाद में किया सुसाइड, कई सुसाइड नोट्स से उलझी गुत्थी

Mukesh Pandey
बक्सर के डीएम ने गाजियाबाद में किया सुसाइड, कई सुसाइड नोट्स से उलझी गुत्थी

गाजियाबाद। बिहार के बक्सर जिले के जिलाधिकारी मुकेश पांडेय का शव गुरुवार को देर शाम गाजियाबाद के पास कोटगांव में रेलवे ट्रैक पर पड़ा मिला। 2012 बैच के आईएएस मुकेश पांडेय छुट्टी लेकर गुरुवार की सुबह ही दिल्ली पहुंचे थे। मुकेश पांडेय ने अपने दोस्त को सुसाइड से पहले व्हाट्सएप पर मैसेज भेजकर सुसाइड करने की जानकारी देते हुए होटल लीला पैलेस के कमरा नंबर 742 से उनका सामान लेजाने की बात कही थी। उन्होंने अपनी सुसाइड लोकेशन और सुसाइड नोट के बारे में भी बताया था। इस दौरान उनके तीन सुसाइड नोट सामने आए हैं। जिनमें एक सुसाइड नोट उनकी जेब में मिला है, दूसरा होटल रूम के बैग से जबकि तीसरे नोट के रूप में उनके व्हाट्सएप चैट को देखा जा रहा है। तीनों में सुसाइड की अलग—अलग वजहें सामने आ रहीं हैं। जिसके चलते मुकेश पांडेय की आत्महत्या की गुत्थी उलझती नजर आ रही है।

Dm Buxar Commited Suicide Body Found At Railway Track In Ghaziabad :

दिल्ली पुलिस के मुताबिक मुकेश के दोस्त से मिली जानकारी और बताई गई सुसाइड लोकेशनों पर पुलिस पहुंची थी। लेकिन मुकेश पांडेय नहीं मिले जिसके बाद पुलिस ने होटल तक भी पहुंची। जहां मुकेश का मोबाइल और सामान मौजूद था। पुलिस का कहना है कि मुकेश ने एक मॉल से कूदकर आत्महत्या का जिक्र किया था, जब उन्होंने मॉल का सीसीटीवी फुटेज देखा तो उन्हें मॉल से निकलते हुए मैट्रो स्टेशन की ओर जाते हुए देखा गया।

इस बीच गाजियाबाद के पास कोटगांव में रेलवे ट्रैक पर जीआरपी ने मुकेश का शव बरामद किया। शव के साथ मिले सुसाइड नोट में मुकेश पांडेय ने अपनी मौत का जिम्मेदार खुद लेते हुए घरवालों से मांफी मांगी है। उन्होंने अपने सुसाइड नोट पर अपने परिजनों के नंबर भी लिखे थे और अपने होटल रूम में रखे बैग में पूरा सुसाइड नोट होने की बात कही गई थी।

क्या लिखा है सुसाइड नोट में —

एक वेबसाइट ​की रिपोर्ट के मुताबिक मुकेश ने अपने सुसाइड नोट में पत्नी और मां बाप के बीच के झगड़े से खुद को दुखी बताया है। इसके बाद ऐसा कयास लगाया जा रहा है कि वह पारिवारिक कलह से पेरशान थे। इसके साथ ही उन्होंने अपने दोस्त को भेजे संदेश में जिस तरह से ईमानदारी से नौकरी करने को मुश्किल बताय उसे देखकर कहा जा सकता है कि वह नौकरी में भी किसी तरह का दवाब महसूस कर रहे थे।

हालांकि अभी तक उनके सुसाइड नोट को लेकर पुलिस ने कोई जानकारी सार्व​जनिक नहीं की है।

4 अगस्त को लिया था बक्सर के डीएम का चार्ज—

2012 बैच के आईएएस मुकेश पांडेय ने यूपीएससी की परीक्षा में 12वीं रैंक हासिल की थी। हाल ही में उन्हें संयुक्त सचिव पद पर प्रमोशन मिला था और वह 4 अगस्त को बक्सर के जिलाधिकारी बनकर पहुंचे थे। बताया जा रहा है कि उन्होंने अपने मामा को हार्ट अटैक आने का हवाला देकर दिल्ली जाने के लिए छुट्टी ली थी।

 

 

 

 

 

गाजियाबाद। बिहार के बक्सर जिले के जिलाधिकारी मुकेश पांडेय का शव गुरुवार को देर शाम गाजियाबाद के पास कोटगांव में रेलवे ट्रैक पर पड़ा मिला। 2012 बैच के आईएएस मुकेश पांडेय छुट्टी लेकर गुरुवार की सुबह ही दिल्ली पहुंचे थे। मुकेश पांडेय ने अपने दोस्त को सुसाइड से पहले व्हाट्सएप पर मैसेज भेजकर सुसाइड करने की जानकारी देते हुए होटल लीला पैलेस के कमरा नंबर 742 से उनका सामान लेजाने की बात कही थी। उन्होंने अपनी सुसाइड लोकेशन और सुसाइड नोट के बारे में भी बताया था। इस दौरान उनके तीन सुसाइड नोट सामने आए हैं। जिनमें एक सुसाइड नोट उनकी जेब में मिला है, दूसरा होटल रूम के बैग से जबकि तीसरे नोट के रूप में उनके व्हाट्सएप चैट को देखा जा रहा है। तीनों में सुसाइड की अलग—अलग वजहें सामने आ रहीं हैं। जिसके चलते मुकेश पांडेय की आत्महत्या की गुत्थी उलझती नजर आ रही है।दिल्ली पुलिस के मुताबिक मुकेश के दोस्त से मिली जानकारी और बताई गई सुसाइड लोकेशनों पर पुलिस पहुंची थी। लेकिन मुकेश पांडेय नहीं मिले जिसके बाद पुलिस ने होटल तक भी पहुंची। जहां मुकेश का मोबाइल और सामान मौजूद था। पुलिस का कहना है कि मुकेश ने एक मॉल से कूदकर आत्महत्या का जिक्र किया था, जब उन्होंने मॉल का सीसीटीवी फुटेज देखा तो उन्हें मॉल से निकलते हुए मैट्रो स्टेशन की ओर जाते हुए देखा गया।इस बीच गाजियाबाद के पास कोटगांव में रेलवे ट्रैक पर जीआरपी ने मुकेश का शव बरामद किया। शव के साथ मिले सुसाइड नोट में मुकेश पांडेय ने अपनी मौत का जिम्मेदार खुद लेते हुए घरवालों से मांफी मांगी है। उन्होंने अपने सुसाइड नोट पर अपने परिजनों के नंबर भी लिखे थे और अपने होटल रूम में रखे बैग में पूरा सुसाइड नोट होने की बात कही गई थी।क्या लिखा है सुसाइड नोट में —एक वेबसाइट ​की रिपोर्ट के मुताबिक मुकेश ने अपने सुसाइड नोट में पत्नी और मां बाप के बीच के झगड़े से खुद को दुखी बताया है। इसके बाद ऐसा कयास लगाया जा रहा है कि वह पारिवारिक कलह से पेरशान थे। इसके साथ ही उन्होंने अपने दोस्त को भेजे संदेश में जिस तरह से ईमानदारी से नौकरी करने को मुश्किल बताय उसे देखकर कहा जा सकता है कि वह नौकरी में भी किसी तरह का दवाब महसूस कर रहे थे।हालांकि अभी तक उनके सुसाइड नोट को लेकर पुलिस ने कोई जानकारी सार्व​जनिक नहीं की है।4 अगस्त को लिया था बक्सर के डीएम का चार्ज—2012 बैच के आईएएस मुकेश पांडेय ने यूपीएससी की परीक्षा में 12वीं रैंक हासिल की थी। हाल ही में उन्हें संयुक्त सचिव पद पर प्रमोशन मिला था और वह 4 अगस्त को बक्सर के जिलाधिकारी बनकर पहुंचे थे। बताया जा रहा है कि उन्होंने अपने मामा को हार्ट अटैक आने का हवाला देकर दिल्ली जाने के लिए छुट्टी ली थी।