हाथरस में 33 करोड़ का खाद सब्सिडी घोटाला

Fertilizer-scam
हाथरस में 33 करोड़ का खाद सब्सिडी घोटाला

Dm Hathras Orders Prove In Fertilizer Subsidy Scam Worth 30 Crore

हाथरस। यूपी के हाथरस जिले में दो फर्जी कंपनियों के माध्यम से हजारों मीट्रिक टन खाद बेंचकर इफ्को और जिला कृषि अाधिकारी की मिली भगत से 30 करोड़ की सब्सिडी का घोटाला होने का मामला सामने आया है। आरोप है कि इफ्को के क्षेत्री प्रबंधक और हाथरस के जिला कृषि अधिकारी ने दो फर्जी कंपनियों को खाद का थोक विक्रेता दिखाकर सब्सिडी का लाभ दिलाते हुए 15 लाख की टैक्स चोरी करवाने में अहम भूमिका निभाई। यह पूरा घोटाला मार्च 2017 में अंजाम दिया गया। फिलहाल इस मामले को जिलाधिकारी हाथरस ने संज्ञान में लेते हुए जांच के आदेश जारी कर​ दिए हैं।

इस घोटाले का खुलासा करने वाले कुलदीप चौधरी की माने तो स्पॉट और आईएफएफडीसी नाम से हाथरस में दो थोक खाद विक्रेता कंपनियां बनाई गईं। इन दोनों ही कंपनियों ने वित्तीय वर्ष 2016—17 के अंत तक 3250 मीट्रिक टन यूरिया, एनपीके व डीएपी खाद की बिक्री अपने खातों में दिखाई है। जिसके लिए कंपनियों को सब्सिडी के रूप में 33 करोड़ रुपए और 15 लाख की टैक्स छूट भी प्रदान कर दी गई।

आरोप है कि इन दोनों कंपनियों ने सब्सिडी और टैक्स छूट पात्रता के लिए न तो कृषि विभाग से खाद बिक्री के लिए लाइसेंस लिया था और न ही इफ्को में खुद को सूचीबद्ध करवाया था। शिकायतकर्ता ने यह जानकारी आरटीआई के माध्यम से जिला कृषि कार्यालय से प्राप्त की है।

शिकायतकर्ता के मुताबिक इन दोनों कंपनियों को 30 करोड़ का लाभ पहुंचाना एक साजिश का हिस्सा नजर आता है। जिसमें जिला कृषि अधिकारी तथा इफ्को के क्षेत्रीय प्रबंधक की भूमिका संदेह के घेरे में है।

इस मामले में जब जिला कृषि अधिकारी से बात की गई तो उन्होंने स्वीकार किया कि स्पॉट तथा आईएफएफडीसी नाम की कंपनियों को खाद बेचने का लाइसेंस जारी नहीं किया गया। वहीं इफको के क्षेत्रीय प्रबंधक ने बताया कि इन कंपनियों के नाम से केवल आईडी बनी है। ये दोनों कंपनियां इफ्को कंपनी की आधिकारिक सप्लायर नहीं हैं। इनके कंपनियों के खातों का प्रयोग खाद की रैक मंगवाने तथा टारगेट पूरा करने के लिए बुकिंग करवाने के लिए किया गया था। इन कंपनियों ने खाद बेंची नहीं है।

अब सवाल उठता है कि अगर इन दोनों फर्जी कंपनियों का प्रयोग टारगेट को पूरा करने के लिए किया गया और इन्होंने न तो फुटकर खाद की बिक्री की और न ही सप्लाई तो फिर इन कंपनियों को सब्सिडी का लाभ किस आधार पर दिया गया।

हाथरस। यूपी के हाथरस जिले में दो फर्जी कंपनियों के माध्यम से हजारों मीट्रिक टन खाद बेंचकर इफ्को और जिला कृषि अाधिकारी की मिली भगत से 30 करोड़ की सब्सिडी का घोटाला होने का मामला सामने आया है। आरोप है कि इफ्को के क्षेत्री प्रबंधक और हाथरस के जिला कृषि अधिकारी ने दो फर्जी कंपनियों को खाद का थोक विक्रेता दिखाकर सब्सिडी का लाभ दिलाते हुए 15 लाख की टैक्स चोरी करवाने में अहम भूमिका निभाई। यह पूरा घोटाला मार्च…