भूलकर भी नहीं करें ये काम, बने रहेंगे धनवान

गरुड़ पुराण के अनुसार कुछ काम करने वाले लोगों को मां लक्ष्मी बिल्कुल पसंद नहीं करती और वहां कभी निवास भी नहीं करतीं है।जो लोग बिना किसी बात या छोटी-छोटी बातों पर दूसरों पर चीखते-चिल्लाते हैं, उन्हें अपशब्द कहते हैं। ऐसे लोगों को भी देवी लक्ष्मी त्याग देती हैं। जो लोग इस तरह का व्यवहार अपने जान-पहचान वाले, नौकर या अपने अधीन काम करने वालों के साथ करते हैं उनका स्वभाव बहुत ही क्रूर होता है। इनके मन में किसी के प्रति प्रेम या दया नहीं होती है।

गरूड पुराण के अनुसार गंदे वस्त्र यानी गंदे कपड़े पहनने वालों को देवी लक्ष्मी त्याग देती हैं। कहने का तात्पर्य है कि अगर आप साफ-स्वच्छ रहेंगे तो लोग आपसे मिलने-जुलने में संकोच नहीं करेंगे। अगर आप कोई व्यापार करते हैं तो जान-पहचान बढऩे से आपके व्यापार में भी लाभ होगा। अगर आप नौकरी करते हैं कि आपकी स्वच्छता देखकर मालिक भी खुश रहेगा।

जो लोग साफ-सुथरा और स्वेच्छी रहेगा उतना ही लक्ष्मी की कृपा प्राप्त करेगा। जिन लोगों के दांत गंदे रहते हैं, देवी लक्ष्मी उन्हें भी छोड़ देती हैं। यहां दांत गंदे रहने का सीधा अर्थ आपके स्वभाव व स्वास्थ्य से है। जो लोग अपने दांत ठीक से साफ नहीं करते, वे कोई भी काम पूर्ण निष्ठा व ईमानदारी से नहीं कर पाते। इससे उनके आलसी स्वभाव के बारे में पता चलता है। जो लोग सूर्योदय व सूर्यास्त के वक्त सोते हैं, वे निश्चित तौर पर आलसी होते हैं। अपने आलसी स्वभाव की वजह से ही ऐसे लोग जीवन में कोई सफलता अर्जित नहीं कर पाते। मां लक्ष्मी और स्वयं विष्णु कभी भी ऐसे लोगों से दूर रहते हैं जो सुबह सूर्योदय से पूर्व नहीं उठते है।