1. हिन्दी समाचार
  2. जीवन मंत्रा
  3. अर्थराइटिस की समस्या से निपटने के लिए करें ये योगासन, जल्द मिलेगी राहत

अर्थराइटिस की समस्या से निपटने के लिए करें ये योगासन, जल्द मिलेगी राहत

By आराधना शर्मा 
Updated Date

नई दिल्ली: दर्द, अकड़न और जोड़ों में सूजन जैसी बीमारियां अर्थराइटिस के ही लक्षण हैं। यह स्थिति किसी भी व्यक्ति के लिए काफी तकलीफदेह होती है क्योंकि इस दौरान उसे असहनीय दर्द से गुजरना पड़ता है।

पढ़ें :- राष्ट्रीय प्रदूषण नियंत्रण दिवस 2021: जानिए महत्व, उद्देश्य और क्यों मनाया जाता है यह दिन

लेकिन, इसके बावजूद यह राहत की बात है कि यदि इसका इलाज समय रहते शुरू कर लिया जाए तो कोई भी व्यक्ति इससे निजात पा सकता है। रोजाना योग के इन आसनों का अभ्यास आर्थराइटिस जैसी बीमारी से छुटकारा दिलाने में मदद करेगा।

मलासन

मलासन को करने से एड़ियों, घुटनों और जांघों को मजबूती मिलती है। लेकिन इस बात का ध्यान रखें कि शुरुआत में इस आसन को केवल 60 सेकंड के तक करना चाहिए।

वीरासन

इस आसन को करने से पैरों में खून का संचरण तेजी से होने लगता है जिससे घुटनों और जांघों की मांसपेशियों का कड़ापन खत्म होता है और दर्द से आराम मिलता है। सुबह के समय वीरासन को करने के फायदे ज्यादा मिलते हैं। इसके साथ ही वीरासन को करते समय खाली पेट होना जरूरी नहीं है।

पढ़ें :- Winter vegetables: हरी पत्तेदार सब्जियां ठंड में आपको रखेगी चुस्त दुरुस्त, बीमारियां रहेंगी कोसों दूर

वीरासन करने की विधि

समतल भूमि पर आसन बिछाकर वज्रासन की स्थिति में बैठ जाएं। अर्थात, घुटनों को मोड़कर बैठ जाएं। अब दोनों पैरों को थोड़ा फैलाएं और हिप्स को भूमि पर टिकाकर सीध में रखें। अब दोनों हाथों को घुटनों पर सीधा तानकर रखें। कंधों को आराम की मुद्रा में रखें और तनकर बैठें। सिर को सीधा रखें और सामने की ओर देखें. इस मुद्रा में 30 सेकेंड से 1 मिनट तक बने रहें।

मक्रासन

मक्रासन करने से पैरों की मांसपेशियों को मजबूती मिलती है जिससे घुटनों के दर्द से आराम मिलता है। इस आसन को करने के लिए पेट का खाली होना जरूरी नहीं है। मक्रासन को दो से पांच मिनट तक किया जा सकता है।

मक्रासन करने की विधि

पेट के बल लेट जाएं, ठोड़ी, छाती एवं पेट जमीन से स्पर्श होते रहें। पैरों के बीच में अपने योग मैट के बराबर दूरी बनाएं। अब आप सिर को उठाएं और दोनों हाथों को गाल पर रखें। धीरे धीरे दोनों पैरों को नीचे से ऊपर अपने हिप्स की ओर लेकर आएं और फिर धीरे-धीरे नीचे लेकर जाएं। इसी तरह से करीब दस बार इस आसन का अभ्यास करें।

 

पढ़ें :- विश्व एड्स दिवस 2021: जानिए तिथि, इतिहास, विषय और एचआईवी के शुरुआती लक्षण

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...