डॉक्टर की हत्या कर सड़क किनारे फेंक दिया शव, पुलिस बताती रही हादसा

lucknow doctor killed, डॉक्टर हत्या लखनऊ
डॉक्टर की हत्या कर सड़क किनारे फेंक दिया शव, पुलिस बताती रही हादसा
लखनऊ। राजधानी लखनऊ में अपराधियों के हौसले बुलंद हैं। अपराधी आए दिन दुस्साहसिक वारदातों को अंजाम दे रहे हैं और पुलिस की कार्रवाई है कि सिर्फ एफआईआर तक ही सीमित रह जाती है। सोमवार को इंदिरानगर इलाके में हत्या कर फेंके गए लापता सुरक्षा कर्मी का मामला ठंडा भी नहीं पड़ा था कि बेख़ौफ़ बदमाशों ने मड़ियांव इलाके में एक डाक्टर को मौत के घाट उतार दिया। बाद में हत्यारे शव को सड़क किनारे फेंक कर फरार हो गए। शव…

लखनऊ। राजधानी लखनऊ में अपराधियों के हौसले बुलंद हैं। अपराधी आए दिन दुस्साहसिक वारदातों को अंजाम दे रहे हैं और पुलिस की कार्रवाई है कि सिर्फ एफआईआर तक ही सीमित रह जाती है। सोमवार को इंदिरानगर इलाके में हत्या कर फेंके गए लापता सुरक्षा कर्मी का मामला ठंडा भी नहीं पड़ा था कि बेख़ौफ़ बदमाशों ने मड़ियांव इलाके में एक डाक्टर को मौत के घाट उतार दिया। बाद में हत्यारे शव को सड़क किनारे फेंक कर फरार हो गए। शव पर राहगीरों की नजर पड़ी तो लोगो ने घटना की जानकारी पुलिस को दी। सरेराह एक डाक्टर की हत्या की सूचना जैसे ही पुलिस अधिकारीयों को मिली तो हड़कंप मच गया। आनन-फानन में एसपी टीजी टीम के साथ मौके पर पहुंचे और छानबीन बाद शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। फिलहाल पुलिस ने परिजनों की तहरीर पर अज्ञात लोगो के खिलाफ हत्या का मामला दर्ज कर आगे की कार्रवाई शुरू कर दी है।

मूलरूप से गोंडा जिला के रहने वाले डॉ. असगर अली (45) ठाकुरगंज थाना क्षेत्र के कैम्पवेल रोड पर अपने परिवार के साथ रहते हैं। परिजनों के मुताबिक डॉ. असगर ठाकुरगंज के बालागंज हॉस्पिटल में बीयूएमएस (BUMS) डॉक्टर थे। वो सोमवार को वही जाने की बात कहकर निकले थे। काफी देर तक उनके घर न पहुंचने पर परिजन उनकी तलाश कर ही रहे थे। उधर, रात करीब 10:30 बजे मड़ियांव पुलिस को गौरभीट के पास एक शव पड़े होने की सूचना मिली। मड़ियांव पुलिस काफी देर तक मामला दबाए रही लेकिन देर रात मीडियकर्मियों को इसकी भनक लगी तो सोशल मीडिया पर सूचना प्रसारित हो गई। तब डाक्टर की हत्या की जानकारी वरिष्ठ अधिकारियों को हुई।

{ यह भी पढ़ें:- लड़की बनकर पहले लोगों को फंसाता, फिर दरोगा बनकर ऐंठ लेता था रकम }

मौके पर पहुंचकर एसपी टीजी हरेंद्र कुमार ने छानबीन शुरू की। मृतक की बाइक भी वहां से कुछ दूरी पर पड़ी थी, जिसे देख पुलिस ने पहले तो हादसे में डाक्टर की जान जाने का राग अलापना शुरू कर दिया लेकिन तभी मौके पर पहुंचे परिजनों ने हत्या की बात कही तो पुलिस बैकफुट पर आ गई। एसपीटीजी हरेंद्र कुमार ने बताया कि मृतक के परिजनों की तहरीर के आधार पर अज्ञात के खिलाफ हत्या की रिपोर्ट दर्ज कर मामले की पड़ताल की जा रही है। वो जल्द ही हत्यारो को गिरफ्तार करने दवा कर रही है।

{ यह भी पढ़ें:- उन्नाव गैंगरेप मामला: सरकार के लाडले विधायक ने मीडियाकर्मियों से की हाथापाई }

Loading...