1. हिन्दी समाचार
  2. दिल्ली
  3. सबसे कम उम्र में अंगदान कर गुड़िया ने बचाई पांच लोगों की जिंदगी

सबसे कम उम्र में अंगदान कर गुड़िया ने बचाई पांच लोगों की जिंदगी

Doll Saved Five Lives By Donating Organ At Youngest Age

By शिव मौर्या 
Updated Date

नई दिल्ली। महज बीस महीने की उम्र में मिसाल बन जाना कोई छोटी बात नहीं होती। ये उम्र इतनी भी बड़ी नहीं होती की कोई भी बड़ा काम किया जा सके। लेकिन दिल्ली की रोहिणी इलाके में रहने वाली एक मासूम धनिष्ठा अपना अंग दान कर के दुनिया के लिए मिसाल बन गई। उसके अंग दान करने की वजह से पांच लोगों को नई जिंदगी मिली है।

पढ़ें :- IPL के अगले सत्र के लिए पांच शहर के नाम शॉर्टलिस्ट किये गये, देखियें कहां खेले जायेंगे मैच

सबसे कम उम्र में अंग दान करने का रिकार्ड बना वो दुनिया से विदा हो गई। उसका ह््रदय, लिवर और दोनों किडनी और दोनां कॉर्निया सर गंगा राम अस्पताल में पांच रोगियों में प्रत्यारोपित किये गए। आठ जनवरी की शाम धनिष्ठा अपने घर की पहली मंजील पर खेलते हुए नीचे गिर गई एवं बेहोश हो गई।

उसे सर गंगा राम अस्पताल लाया गया। डाक्टरों के अथक प्रयास के बावजूद भी बच्ची को बचाया नहीं जा सका। 11 जनवरी का डाक्टरों ने बच्ची का ब्रेन डेड घोषित कर दिया। मस्तिष्क के अलावा उसके सारे अंग अच्छे से काम कर रहे थे।

शोकाकुल होने के बावजूद भी बच्ची के माता पिता आशीष कुमार एवं बबिता ने अस्पताल अधिकारियों से अपनी बच्ची के अंग दान की इच्छा जाहिर की। डॉ. डी. एस. राणा, चेयरमैन (बोर्ड आफ मैनेजमेंट) सर गंगा राम अस्पताल के अनुसार, परिवार का यह नेक फैसला वास्तव में प्रशंसनीय है और इसे दूसरों को प्रेरित करना चाहिए। 0.26 प्रति मिलियन की दर से, भारत में अंग दान की दर सबसे कम है। अंगों की कमी के कारण हर साल औसतन 5 लाख भारतीय मारे जाते है।

 

पढ़ें :- कोरोना का कहर जारी, पिछले 24 घंटे में नए की मरीजों की संख्या में हुआ इजाफा

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे...