ट्रंप की सख्‍त चेतावनी- जो ईरान से व्यापार करेगा, वो हमसे नहीं कर पाएगा

trump
ट्रंप की सख्‍त चेतावनी- जो ईरान से व्यापार करेगा, वो हमसे नहीं कर पाएगा

नई दिल्ली। अमेरिका ने ईरान पर फिर से कड़े प्रतिबंध लगाते हुए दुनिया के अन्य देशों पर भी दबाव बढ़ा दिया है कि वे ईरान से दूरी बना लें। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने ट्वीट करके कहा, ‘जो देश ईरान के साथ व्यापारिक संबंध जारी रखेंगे वे अमेरिका के साथ अपने व्यापारिक संबंध आगे नहीं बढ़ा पाएंगे।’ ट्रंप ने कहा, ‘ईरान पर आधिकारिक रूप से प्रतिबंध लगा दिया गया है। नवंबर महीने में यह पाबंदी और बढ़ेगी। ईरान के साथ जो देश संबंध जारी रखना चाहते हैं वह अमेरिका के साथ अपने संबंधों को आगे नहीं बढ़ा पाएंगे।

Donald Trump Said To Do Business From America All Countries Will Leave To Iran :

बता दें कि डॉनल्ड ट्रंप ने बुधवार से ईरान पर नए सिरे से प्रतिबंध लगा दिए हैं। ईरान से ये प्रतिबंध 2015 के परमाणु करार के बाद हटाए गए थे। ट्रंप के इन प्रतिबंधों का असर भारत पर भी पड़ सकता है। चीन के बाद भारत ईरान का दूसरा सबसे बड़ा तेल आयातक है। अमेरिकी प्रतिबंधों के बाद भारत अब धीरे-धीरे ईरान से किनारा कर रहा है। अभी जून में ही भारत ने ईरान से 12 फीसदी कम तेल आयात किया था।

ट्रंप ने ट्वीट किया, ‘ईरान पर लगे प्रतिबंध आधिकारिक तौर पर लागू हो गए हैं। यह अब तक के सबसे कड़े प्रतिबंध हैं और नवंबर में यह अगले स्तर तक जाएंगे। ईरान के साथ जो भी व्यापार करेगा वह अमेरिका के साथ व्यापार नहीं कर सकेगा। मैं सिर्फ दुनिया के लिए शांति मांग रहा हूं, उससे कम नहीं!’

अमेरिकी जुर्माने के डर से कई बड़ी कंपनियां ईरान से बाहर जा रही है। ट्रंप ने ईरान के साथ कारोबार जारी रखने वाली कंपनियों और लोगों को गंभीर परिणाम भुगतने की चेतावनी दी है। अमेरिकी प्रतिबंधों का दूसरे चरण 5 नवंबर से प्रभावी होगी और इससे ईरान के कच्चे तेल की बिक्री पर लगेगी। यह स्थिति भारत, चीन और तुर्की जैसे कई देशों को अत्यधिक नुकसान पहुंचायेगी। ईरान के विदेश मंत्री मोहम्मद जावद जरीफ ने कहा कि ट्रंप के इस कदम से अमेरिका दुनिया में “अलग-थलग” पड़ गया है। हालांकि, उन्होंने माना कि प्रतिबंधों से कुछ व्यवधान उत्पन्न हो सकता है।

नई दिल्ली। अमेरिका ने ईरान पर फिर से कड़े प्रतिबंध लगाते हुए दुनिया के अन्य देशों पर भी दबाव बढ़ा दिया है कि वे ईरान से दूरी बना लें। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने ट्वीट करके कहा, 'जो देश ईरान के साथ व्यापारिक संबंध जारी रखेंगे वे अमेरिका के साथ अपने व्यापारिक संबंध आगे नहीं बढ़ा पाएंगे।' ट्रंप ने कहा, ‘ईरान पर आधिकारिक रूप से प्रतिबंध लगा दिया गया है। नवंबर महीने में यह पाबंदी और बढ़ेगी। ईरान के साथ जो देश संबंध जारी रखना चाहते हैं वह अमेरिका के साथ अपने संबंधों को आगे नहीं बढ़ा पाएंगे।बता दें कि डॉनल्ड ट्रंप ने बुधवार से ईरान पर नए सिरे से प्रतिबंध लगा दिए हैं। ईरान से ये प्रतिबंध 2015 के परमाणु करार के बाद हटाए गए थे। ट्रंप के इन प्रतिबंधों का असर भारत पर भी पड़ सकता है। चीन के बाद भारत ईरान का दूसरा सबसे बड़ा तेल आयातक है। अमेरिकी प्रतिबंधों के बाद भारत अब धीरे-धीरे ईरान से किनारा कर रहा है। अभी जून में ही भारत ने ईरान से 12 फीसदी कम तेल आयात किया था।ट्रंप ने ट्वीट किया, 'ईरान पर लगे प्रतिबंध आधिकारिक तौर पर लागू हो गए हैं। यह अब तक के सबसे कड़े प्रतिबंध हैं और नवंबर में यह अगले स्तर तक जाएंगे। ईरान के साथ जो भी व्यापार करेगा वह अमेरिका के साथ व्यापार नहीं कर सकेगा। मैं सिर्फ दुनिया के लिए शांति मांग रहा हूं, उससे कम नहीं!' अमेरिकी जुर्माने के डर से कई बड़ी कंपनियां ईरान से बाहर जा रही है। ट्रंप ने ईरान के साथ कारोबार जारी रखने वाली कंपनियों और लोगों को गंभीर परिणाम भुगतने की चेतावनी दी है। अमेरिकी प्रतिबंधों का दूसरे चरण 5 नवंबर से प्रभावी होगी और इससे ईरान के कच्चे तेल की बिक्री पर लगेगी। यह स्थिति भारत, चीन और तुर्की जैसे कई देशों को अत्यधिक नुकसान पहुंचायेगी। ईरान के विदेश मंत्री मोहम्मद जावद जरीफ ने कहा कि ट्रंप के इस कदम से अमेरिका दुनिया में "अलग-थलग" पड़ गया है। हालांकि, उन्होंने माना कि प्रतिबंधों से कुछ व्यवधान उत्पन्न हो सकता है।