1. हिन्दी समाचार
  2. जीवन मंत्रा
  3. अक्षय तृतीया पर करें इन वस्तुओं का दान, सौभाग्य में होगी वृद्धि

अक्षय तृतीया पर करें इन वस्तुओं का दान, सौभाग्य में होगी वृद्धि

 सनातन धर्म को मानने वाले अक्षय तृतीया की तिथि को विशेष महत्व देते है। अक्षय तृतीया या आखा तीज वैशाख मास में शुक्ल पक्ष की तृतीया तिथि को कहते हैं। पौराणिक ग्रंथों के अनुसार इस दिन जो भी शुभ कार्य किये जाते हैं, उनका अक्षय फल मिलता है।

By अनूप कुमार 
Updated Date

लखनऊ : सनातन धर्म को मानने वाले अक्षय तृतीया की तिथि को विशेष महत्व देते है। अक्षय तृतीया या आखा तीज वैशाख मास में शुक्ल पक्ष की तृतीया तिथि को कहते हैं। पौराणिक ग्रंथों के अनुसार इस दिन जो भी शुभ कार्य किये जाते हैं, उनका अक्षय फल मिलता है। अक्षय तृतीया का सर्वसिद्ध मुहूर्त के रूप में भी विशेष महत्व है। मान्यता है कि इस दिन बिना कोई पंचांग देखे कोई भी शुभ व मांगलिक कार्य जैसे विवाह, गृह-प्रवेश, वस्त्र-आभूषणों की खरीददारी या घर, भूखंड, वाहन आदि की खरीददारी से संबंधित कार्य किए जा सकते हैं। नवीन वस्त्र, आभूषण आदि धारण करने और नई संस्था, समाज आदि की स्थापना या उद्घाटन का कार्य श्रेष्ठ माना जाता है।

पढ़ें :- विश्व हेपेटाइटिस दिवस (World Hepatitis Day) 2021: बीमारी से दूर रहने के लिए इन स्वच्छता प्रथाओं का करें पालन

माना जाता है कि जो लोग इस दिन अपने सौभाग्य को दूसरों के साथ बांटते हैं वे ईश्वर की असीम अनुकंपा पाते हैं। इस दिन दिए गए दान से अक्षय फल की प्राप्ति होती है। सुख समृद्धि और सौभाग्य की कामना से इस दिन शिव-पार्वती और नर नारायण की पूजा का विधान है।अक्षय तृतीया के दिन पूजा-पाठ और व्रत रखने के साथ ही दान करने का महत्व भी काफी अधिक है। ऐसा करने से व्यक्ति के सभी पाप मिट जाते हैं और सौभाग्य की प्राप्ति होती है।

पुराणों में लिखा है कि इस दिन पितरों को किया गया तर्पण तथा पिंडदान अथवा किसी और प्रकार का दान, अक्षय फल प्रदान करता है

अक्षय तृतीया के दिन महत्वपूर्ण  है  यह 14 दान  :  गौ,  भूमि, तिल, स्वर्ण,  घी, वस्त्र, धान्य, गुड़, चांदी, नमक,  शहद, मटकी,  खरबूजा

पढ़ें :- बच्चों में कब्ज (constipation in children) दूर करने के आसान आयुर्वेदिक उपाय
इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...