1. हिन्दी समाचार
  2. देश
  3. युवाओं के सपने हो रहे साकार, कागज के हवाई जहाज बनाने वाले युवा अंतरिक्ष में भेज रहे रॉकेट : पीएम मोदी

युवाओं के सपने हो रहे साकार, कागज के हवाई जहाज बनाने वाले युवा अंतरिक्ष में भेज रहे रॉकेट : पीएम मोदी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज मन की बात कार्यक्रम को संबोधित किया। मन की बात का यह 95वां एपिसोड है। उन्होंने कहा कि हम बहुत तेजी से इस कार्यक्रम के शतक की तरफ बढ़ रहे हैं। ये कार्यक्रम मेरे लिए 130 करोड़ देशवासियों से जुड़ने का एक और माध्यम है। इस कार्यक्रम में पीएम ने भारत में होने वाले जी20 सम्मेलन का जिक्र किया। पीएम मोदी ने देश के युवाओं से जी20 सम्मेलन से जुड़ने की अपील की।

By शिव मौर्या 
Updated Date

Mann Ki Baat: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज मन की बात कार्यक्रम को संबोधित किया। मन की बात का यह 95वां एपिसोड है। उन्होंने कहा कि हम बहुत तेजी से इस कार्यक्रम के शतक की तरफ बढ़ रहे हैं। ये कार्यक्रम मेरे लिए 130 करोड़ देशवासियों से जुड़ने का एक और माध्यम है। इस कार्यक्रम में पीएम ने भारत में होने वाले जी20 सम्मेलन का जिक्र किया। पीएम मोदी ने देश के युवाओं से जी20 सम्मेलन से जुड़ने की अपील की।

पढ़ें :- UP News: अखिलेश यादव बोले-BJP के लोग कागज लेकर घूम रहे, टाई-सूट पहने लोगों से कर लेते हैं एमओयू

इसके साथ ही उन्होंने कहा कि, तेलंगाना के राजन्ना सिर्सिल्ला जिले के एक बुनकर भाई येल्धी हरिप्रसाद गारू जी ने मुझे अपने हाथों से बुनकर G-20 का लोगो भेजा है। मैं इसके लिए उन्हें धन्यवाद देता हूं। G-20 की अध्यक्षता, हमारे लिए एक बड़ा अवसर है। हमें इस मौके का पूरा उपयोग करते हुए Global Good, विश्व कल्याण पर focus करना है। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि, आप कल्पना कर सकते हैं जो बच्चे कभी हाथ से कागज का हवाई जहाज बनाकर उड़ाया करते थे, उन्हें अब हवाई जहाज बनाने का मौका मिल रहा है। स्पेस को निजी क्षेत्र के लिए खोले जाने के बाद, युवाओं के सपने साकार हो रहे हैं और रॉकेट बना रहे ये युवा मानो कह रहे हों- Sky is not the limit…।

पीएम मोदी ने कहा कि, ड्रोन के क्षेत्र में भी भारत तेजी से आगे बढ़ रहा है। हाल ही में हिमाचल प्रदेश के किन्नौर में ड्रोन के जरिए सेब ट्रांसपोर्ट किए गए। बीते आठ वर्षों में भारत से संगीत वाद्य यंत्रों का निर्यात साढ़े तीन गुना बढ़ गया है जबकि Electrical Musical Instruments का निर्यात 60 प्रतिशत बढ़ा है।

साथ ही उन्होंने कहा कि, सालों पहले फिजी गए बहुत सारे भारतीय वहां पारंपरिक भजन-कीर्तन गाते थे, जिसमें मुख्य रूप से रामचरित मानस के दोहे होते थे। उन्होंने फिजी में भी भजन-कीर्तन से जुडी कई मंडलियां बना ली थीं। हमारे नागा समाज की जीवनशैली, उनकी कला- संस्कृति और संगीत… ये हर किसी को आकर्षित करती है। ये हमारे देश की गौरवशाली विरासत का अहम हिस्सा है।

 

पढ़ें :- इससे देश की छवि को कोई नुकसान नहीं, अडानी मामले में वित्त मंत्री का आया जवाब...

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...