मुंबई में 17 करोड़ की विदेशी सिगरेट जब्त, एनआरआई सहित 3 गिरफ्तार

d

मुंबई । राजस्व खुफिया निदेशालय यानि डीआरआईद्ध ने नवी मुंबई में तस्करी करके लाई गई 17 करोड़ रुपये मूल्य की विदेशी सिगरेट जब्त की हैं। इस मामले में साइप्रस में रह रहे एक अनिवासी भारतीय और तीन अन्य लोगों को गिरफ्तार किया गया है।

Dri Seized Foreign Cigarettes Worth Rs 17 Crores In Mumbai :

यह भारतीय तस्कर गिरोह का सरगना बताया जा रहा है। फिलहाल सिगरेट तस्करी का यह सबसे बड़ा मामला सामने आया है। डीआरआई ने एक बयान में कहा है कि खुफिया सूचना के आधार पर उसने नवी मुंबई के एक गोदाम में 5 फरवरी को तड़के छापा मारा।

वहां 40 फीट लंबे एक कंटेनर में तस्करी का माल पकड़ा गया। यह दुबई से लाया गया था और इसे भारत में एक कंटेनर डिपो भेजा जाना था। इसके कागजों में इसे वॉश बेसिन का सामान दिखाया गया था। डीआरआई ने कंटेनर से 650 बड़े कार्टन जब्त किए हैं जिनमें विदेशी सिगरेट थे।

जब्त माल की बाजार कीमत 17 करोड़ रुपये आंकी गई है। कागजों में जिन वॉश बेसिन का उल्लेख किया गया है, वह उतनी ही मात्रा में गोदाम में पाए गए। कागजों में उन्हें मेड इन चाइना दिखाया गया है लेकिन वास्तव में उनकी खरीद नवी मुंबई से की गई है। गौरतलब है कि सिगरेट के आयात पर भारत में शुल्क काफी अधिक है।

मुंबई । राजस्व खुफिया निदेशालय यानि डीआरआईद्ध ने नवी मुंबई में तस्करी करके लाई गई 17 करोड़ रुपये मूल्य की विदेशी सिगरेट जब्त की हैं। इस मामले में साइप्रस में रह रहे एक अनिवासी भारतीय और तीन अन्य लोगों को गिरफ्तार किया गया है।यह भारतीय तस्कर गिरोह का सरगना बताया जा रहा है। फिलहाल सिगरेट तस्करी का यह सबसे बड़ा मामला सामने आया है। डीआरआई ने एक बयान में कहा है कि खुफिया सूचना के आधार पर उसने नवी मुंबई के एक गोदाम में 5 फरवरी को तड़के छापा मारा।वहां 40 फीट लंबे एक कंटेनर में तस्करी का माल पकड़ा गया। यह दुबई से लाया गया था और इसे भारत में एक कंटेनर डिपो भेजा जाना था। इसके कागजों में इसे वॉश बेसिन का सामान दिखाया गया था। डीआरआई ने कंटेनर से 650 बड़े कार्टन जब्त किए हैं जिनमें विदेशी सिगरेट थे।जब्त माल की बाजार कीमत 17 करोड़ रुपये आंकी गई है। कागजों में जिन वॉश बेसिन का उल्लेख किया गया है, वह उतनी ही मात्रा में गोदाम में पाए गए। कागजों में उन्हें मेड इन चाइना दिखाया गया है लेकिन वास्तव में उनकी खरीद नवी मुंबई से की गई है। गौरतलब है कि सिगरेट के आयात पर भारत में शुल्क काफी अधिक है।